भारत

उत्तर प्रदेश: एनटीपीसी के संयंत्र में बॉयलर फटने से 16 की मौत, 90 से 100 घायल

रायबरेली के ऊंचाहार में भीषण दुर्घटना, मॉरीशस की यात्रा पर गए मुख्यमंत्री योगी ने की दो-दो लाख मुआवज़े की घोषणा.

Raebareli: Smoke billowing out of NTPC's Unchahar Power Plant where a blast took place in a boiler, in Raebareli district on Wednesday. At least ten people are feared dead and several others have been injured after a boiler went off at the plant. PTI Photo (PTI11_1_2017_000188B) *** Local Caption ***

रायबरेली के एनटीपीसी पावर प्लांट में बॉयलर फटने के बाद निकलता धुआं. (फोटो: पीटीआई)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी संयंत्र में बॉयलर फटने से बुधवार को 16 लोगों की मौत हो गई है, जबकि लगभग 90 से 100 अन्य घायल हो गए.

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि रायबरेली में ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी संयंत्र में बॉयलर फटने से अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि लगभग 90 से 100 अन्य घायल हुए हैं.

अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने बताया कि सभी घायलों को इलाज के लिए निकट के अस्पताल ले जाया जा रहा है. कुछ की हालत गंभीर है. रायबरेली जिले की ऊंचाहार तहसील राजधानी लखनऊ से 110 किलोमीटर दूर है.

कुमार ने बताया कि उपलब्ध सभी एंबुलेंस मौके पर भेजी गई हैं. अपर जिलाधिकारी एवं अपर पुलिस अधीक्षक मौके पर हैं और राहत एवं बचाव अभियान की निगरानी कर रहे हैं.

इस बीच उार प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने ऊंचाहार हादसे में अनेक लोगों के मारे जाने पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है. राजभवन के एक प्रवक्ता के मुताबिक राज्यपाल ने हादसे को दु:खद बताते हुए मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की तथा घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राहत बचाव कार्य के लिए आवश्यक कदम उठाने का आदेश दिया है. वह इस समय मॉरीशस की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं. मुख्यमंत्री के साथ यात्रा पर गए प्रमुख सचिव सूचना अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने ऊंचाहार की घटना का संज्ञान लिया है और प्रमुख सचिव गृह से सुनिश्चित करने को कहा है कि राहत और बचाव के सभी आवश्यक कदम उठाए जाएं.

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने दुर्घटना में हुई मौतों पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद की घोषणा की है. गंभीर रूप से घायलों को पचास-पचास हजार रुपये तथा अन्य घायलों को पच्चीस-पच्चीस हजार रुपये आर्थिक मदद का ऐलान किया है.

रायबरेली के पुलिस अधीक्षक शिवहरि मीणा ने बताया कि दुर्घटना के तुरंत बाद राहत एवं बचाव कार्य प्रारंभ हो गए और घायलों को निकट के अस्पतालों में ले जाया जा रहा है.

विस्फोट से संयंत्र में कार्य कर रहे कर्मचारियों में अफरातफरी मच गई.
जिला प्रशासन के अधिकारी एंबुलेंस के साथ संयंत्र पहुंचे हुए हैं और उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों से घायलों का त्वरित उपचार करने को कहा है.

केन्द्रीय मंत्री आरके सिंह ने दुर्घटना में मारे गये लोगों के प्रति गहरे शोक का इजहार किया. सिंह ने बताया कि उन्होंने एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक गुरदीप सिंह को मौके पर पहुंचने का निर्देश दिया है.

एक अधिकारी ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम राहत और बचाव अभियान के लिए रवाना हो गई है. जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री ने बताया कि उपलब्ध सभी एंबुलेंस राहत एवं बचाव कार्य में लगाई गई हैं.

रायबरेली के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डीके सिंह दस डॉक्टरों की टीम के साथ मौके पर हैं ताकि घायलों का तत्काल उपचार किया जा सके. सिंह ने बताया कि गंभीर रूप से घायलों को लखनउ के केजीएमयू अस्पताल एवं सिविल अस्पताल ले जाने के इंतजाम कर दिए गए हैं. खत्री ने बताया कि कुछ घायलों को रायबरेली लाया जा रहा है.

सिंह ने बताया कि आवश्यक हुआ तो गंभीर रूप से घायल लोगों को एयर एंबुलेंस से दिल्ली ले जाया जा सकता है. दुर्घटना के बाद एनटीपीसी ने एक बयान में कहा कि 500 मेगावाट इकाई के बॉयलर में यह दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना घटी. जिला प्रशासन के साथ मिलकर बचाव कार्य जारी हैं.

एनटीपीसी संयंत्र के परिसर से एंबुलेंस के सायरन की आवाज के बीच एक घायल कर्मचारी ने अस्पताल में बताया कि सब कुछ इतना अचानक हुआ कि पता ही नहीं लगा क्या कुछ घटा. उसके बाद उसने खुद को अस्पताल के बिस्तर पर जली हुई हालत में पाया. पुलिस ने परिसर की तत्काल घेराबंदी कर दी ताकि एंबुलेंस की आवाजाही सुगम हो सके.