भारत

पाठकनामा: ‘यदि आपने कोई भ्रष्टाचार या अपराध किया है तो ‘भाजपा सुधार गृह’ में प्रवेश लें.’

मुकुल रॉय के भाजपा ज्वाइन करने पर पाठकों ने कहा, ‘मुकुल रॉय के भाजपा में आने के बाद शारदा घोटाला दीनदयाल धनवृद्धि योजना माना जाए.’

the wire 1

 

शारदा चिटफंड घोटाले में आरोपी और तृणमूल कांग्रेस नेता मुकुल रॉय के भाजपा ज्वाइन करने के बाद वाई श्रेणी की वीआईपी सुरक्षा दिए जाने संबंधी खबर पर ‘द वायर’ के पाठकों ने दिलचस्प प्रतिक्रिया दी है. ‘द वायर हिंदी’ के फेसबुक पेज पर पोस्ट की गई खबर के कमेंट बॉक्स में ज्यादातर पाठकों के कमेंट तंज करते हुए लिखे गए, जिसका सार संक्षेप यह है कि भाजपा ज्वाइन करने के बाद कोई भ्रष्ट नेता भी भ्रष्टाचारी नहीं रह जाता.

राहुल स्वामी लिखते हैं, ‘बीजेपी पारस पत्थर जैसी है. आप हज़ार अपराध करें, घोटाले करें, आपने एक बार बीजेपी को छुआ, बस आप एकदम शुद्ध/पवित्र हो जाएंगे.’

रविकांत नाम के यूजर ने लिखा, ‘अगर भाजपा ज्वाइन करना हो तो कम से कम डिग्री है, घोटाले, भ्रष्टाचार, ख़ून, यौन शोषण, चोरी, लूटपाट, डकैती इत्यादि.’

रेहान खान ने कमेंट किया, ‘मोदी ने चीख चीख के कहा था कि किसी भी भ्रष्टाचारी को छोड़ा नहीं जाएगा. (कोई नहीं छूटा, सबने बीजेपी ज्वाइन कर ली.) मुकुल रॉय के भाजपा में आने के बाद शारदा चिटफंड घोटाला अब दीनदयाल धनवृद्धि योजना माना जाए.’

सबसे ज्यादा जो कमेंट किया गया, वह था, ‘मुकुल रॉय के भाजपा में आने के बाद शारदा चिटफंड घोटाला को दीनदयाल धनवृद्धि योजना माना जाएगा.’ कई निजी फेसबुक अकाउंट पर भी यह लाइन पोस्ट की गई देखी जा सकती है.

बाबुल लस्कर नाम के अकाउंट से कमेंट किया गया, ‘यदि आपने कोई भ्रष्टाचार, गबन, कत्ल, रेप किया है या काला धन जमा किया है, या फिर कोई भी क्राइम किया है तो ‘भाजपा सुधार गृह’ में प्रवेश लें.’

रिजवान खान ने कमेंट बॉक्स में एक मीम पोस्ट की, जिसमें तंजपूर्ण लहजे में लिखा है, ‘अब तो सीबीआई भी रेड डालने के बाद पूछती है- बता केस दर्ज करें या भाजपा ज्वाइन करोगे?’

मिथिलेश कुमार चंचल ने कमेंट किया, ‘राजनीति में बीजेपी के सत्ता संभालने के बाद नैतिकता के स्तर का इतनी तेजी से ह्रास हुआ है कि इसका प्रतिफल देश को भुगतना होगा.’

प्रधानमंत्री बनने के पहले नरेंद्र मोदी ने लोगों में जबरदस्त राजनीतिक आकाक्षाएं जगाई थीं, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें जबरदस्त जनसमर्थन हासिल हुआ. लेकिन अब कांग्रेस के गए गुजरे ढर्रे पर भाजपा को भी चलता देख जनता शायद हैरान हो रही है.

वायर की खबर की हेडिंग थी, ‘भाजपा में आते ही शारदा घोटाले के आरोपी मुकुल रॉय को मिली वाई श्रेणी की सुरक्षा’. इस पर आशा रघुवंशी ने अपने कमेंट में लिखा, ‘आजकल पीएम के लिए ये कमेंट पढ़कर शर्म आती है, अपनी कुर्सी बनाए रखने के लिए कोई इतना नीचा गिर सकता है, भ्रष्ट लोगों को अपनी पार्टी में शामिल करके.’

अब्दुल्ला पठान ने कहा, एक और भ्रष्ट आदमी को साफ सुथरा घोषित कर दिया गया. वाशिंग मशीन बहुत तेज और गुणवत्तापूर्ण काम कर रही है.

रितेश कुमार का कहना है, ‘जितने भी भ्रष्ट लोग हैं वो बीजेपी ज्वाइन कर लें, पाक साफ हो जाएंगे. भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने वाली बीजेपी भ्रष्ट लोगों का स्वागत कर रही है. फिर यह कहने में क्या गलत है कि बीजेपी की नीयत में ही खोट है.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके आलोचकों को नकारात्मक से ग्रस्त बताते हैं. इस पर तंज करते हुए हितेश परमार ने लिखा, ‘बीजेपी सब दागियों को जमा कर रही है. फिर स्पेशल कोर्ट बनाकर सबको सजा दे दी जाएगी. ऐसा साहेब ने बोला है. आशा अमर है.’

प्रधानमंत्री बार बार कहते हैं कि देश की सवा सौ करोड़ जनता सब जानती है. तजम्मुल हसन ने अपने कमेंट में लिखा, ‘बीजेपी के हाथ इस मंत्री का कोई काला सबूत लग गया है, तभी बेचारा मरता क्या न करता. चलो अब सारे पाप धुल गए. कोई आश्चर्य नहीं कि अंडरवर्ल्ड डॉन और माल्या भाजपा ज्वाइन कर लें.’

रमेशर बेड़ा ने लिखा है, ‘सलमान की मोदी से नजदीकी और फिर उसे हिट एंड रन मामले में क्लीन चिट. श्रीशांत का बीजेपी में शामिल होना और उसे भी आईपीएल के दौरान की गई सट्टेबाजी से क्लीन चिट. येदुरप्पा का चालीस करोड़ के घोटाले से सीबीआई द्वारा क्लीन चिट और फिर उन्हें कर्नाटक बीजेपी अध्यक्ष नियुक्त करना. शिवराज चौहान को व्यापमं में क्लीन चिट. अरुण जेटली जैसे नेता पर उनकी पार्टी का नेता भ्रष्टाचार का आरोप लगाता है तो बजाय जांच के खुद उसे ही बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है.’

रमेशर आगे लिखते हैं, ‘उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य में ऐसे मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को नियुक्त करना, जिन पर हत्या और हत्या के प्रयास, सांप्रदायिक दंगे भड़काने जैसे गंभीर आरोप लगे हुए हैं. भ्रष्टाचार को रोकने के लिए कांग्रेस द्वारा पास किए गए लोकपाल बिल का कुछ अता पता नही हैं. और अब सुखराम और मुकुल रॉय जैसे नेताओं का बीजेपी में मिलन. यह सब तो होना ही था!’

दीपक परमार ने कमेंट किया है, मोदीजी 2014 में: मैं इंडिया को गुजरात बना दूंगा. 2014 में: मैं महाराष्ट्र को गुजरात बना दूंगा. 2015 में: मैं बिहार को गुजरात बना दूंगा. 2016 में: मैं असम को गुजरात बना दूंगा. 2017 में: मैं यूपी को गुजरात बना दूंगा. और अब 2017 में: कांग्रेस ने मुझे गुजरात में काम नहीं करने दिया.’

राम चौधरी ने व्यंग्य किया है, ‘भ्रष्टाचार करो और जब पकड़े जाने की नौबत आए तो बीजेपी ज्वाइन कर लो. सारे आरोप खत्म और जेल भी नहीं जाना पड़ेगा.’

सुनील सिंह ने फरमाया है, ‘भ्रष्टाचारी लोग कहां जाएंगे? भ्रष्टाचारी जनता पार्टी (BJP) में ही तो जाएंगे! गुनाह तो किसी दल में रहकर कर सकते हैं लेकिन रह सकते हैं सिर्फ बीजेपी में.’

पिंकी सिंह ने मुकुल के बहाने लालू यादव को सुझाव दिया है, ‘जे हुई न बात! लालू को भी भाजपा ज्वाइन कर लेनी चाहिए, चारा घोटाला केस रद्द… लालू का जीवन सपरिवार सफल.’

राजीव भट्टी की राय है कि ‘बीजेपी तो गंगा से भी मटमैली हो चली है, तभी तो इसमें पंडित सुखराम, मुकुल राय जैसे कुटिल और भ्रष्ट नेता डुबकी लगाकर पाक पवित्र हुए जा रहे हैं.’

इंटरनेट और सोशल मीडिया के दौर में जनाब टीएस अरोड़ा को गूगल से शिकायत हो गई है. वे फरमाते हैं, ‘गूगल में सब दिखता है. बस नेताओं में नैतिकता छोड़कर!’