भारत

दिल्ली में छायी धुंध, प्रदूषण गंभीर स्तर पर, भारतीय चिकित्सा संघ ने घोषित की हेल्थ इमरजेंसी

राजधानी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता ने खतरे का निशान पार किया, एनजीटी ने दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हरियाणा को फटकार लगाई, केजरीवाल ने स्कूल बंद करने को कहा.

दिल्ली का राजपथ स्मोग से प्रभावित (फाइल फोटो: पीटीआई)

दिल्ली का राजपथ स्मॉग से प्रभावित (फाइल फोटो: पीटीआई)

दिल्ली में मंगलवार को वायु प्रदूषण बेहद गंभीर स्तर पर पहुंच गया. प्रदूषण परमीसिबल स्टैंडर्ड या सहन करने योग्य स्तर से कई गुना अधिक होने के चलते पूरी दिल्ली धुंध की मोटी चादर में लिपट गई.

सोमवार शाम से वायु की गुणवत्ता और दृश्यता में तेजी से गिरावट आ रही है तथा नमी और प्रदूषकों के मेल के कारण शहर में घनी धुंध छा गई है. मंगलवार सुबह दस बजे तक केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने हवा की गुणवत्ता को बेहद गंभीर स्थिति में बताया जिसका मतलब यह है कि प्रदूषण बेहद खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है.

राजधानी में सोमवार शाम से धुंध छाई हुई है. सोमवार शाम दृश्यता जहां 500 मीटर थी, वहीं मंगलवार को महज 100 मीटर ही रह गई है. पर्यावरण विभाग के अनुसार यह धुंध 3 से 5 दिन रह सकती है.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष केके अग्रवाल ने मंगलवार को सुबह ही दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर कहा कि धुंध ख़त्म होने तक स्कूल और कॉलेज बंद किया जाना चाहिए.

वर्तमान हालात के मद्देनजर उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर गठित पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम एवं नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसी) द्वारा ग्रेडेड रेस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी) के तहत तय उपाय इस्तेमाल में लाए जा सकते हैं जिसमें पार्किंग शुल्क को चार गुना बढ़ाया जाना शामिल है.

अगर स्थिति और खराब होती है और कम से कम 48 घंटों तक बनी रहती है तो जीआरएपी के तहत आने वाला कार्यबल स्कूलों को बंद कर सकता है और सम-विषम ऑड-ईवन योजना को फिर शुरू कर सकता है.

पिछली बार हवा की गुणवत्ता दीपावली के एक दिन बाद 20 अक्टूबर को बेहद गंभीर स्थिति में पहुंची थी. तब से प्रदूषण के स्तर पर लगातार निगरानी रखी जा रही है और हवा की गुणवत्ता काफी खराब स्तर पर बनी हुई है. यह अत्यंत गंभीर से बेहतर स्थिति है लेकिन वैश्विक मानकों के मुताबिक यह भी खतरनाक है.

एयर क्वालिटी इंडेक्स में दिल्ली के लगभग सभी इलाके लाल निशान को पार कर चुके हैं. दिल्ली का पंजाबी बाग और आनंद विहार स्मॉग यानी धुंध और प्रदूषण से सबसे ज्यादा प्रभावित है.

एयर क्वालिटी इंडेक्स (aqicn.org)

एयर क्वालिटी इंडेक्स में दिल्ली के विभिन्न इलाके (aqicn.org)

आईएमए की नसीहत के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हरकत में आए. उन्होंने ट्वीट कर दिल्ली को गैस चैम्बर बताया और कहा कि उन्होंने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से कहा है कि कुछ दिनों के लिए स्कूल बंद किया जाए.

एएनआई के अनुसार दृश्यता की कमी के चलते दिल्ली में लगभग 12 ट्रेन देरी से चल रही हैं. वहीं इंदिरा गांधी हवाईअड्डे पर रनवे बंद होने के चलते 20 से भी ज्यादा जहाजों देरी से उड़ान भर रहे हैं.

इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक जस्टिस स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता में नेशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) ने मंगलवार को दिल्ली में पसरे स्मॉग और प्रदूषण के चलते दिल्ली सरकार, उत्तर प्रदेश सरकार और हरियाणा सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा कि क्षेत्र में गंभीर हवा की गुणवत्ता को नियंत्रित करने के लिए निवारक कदम क्यों नहीं उठाए गए?

वायु गुणवत्ता बेहद खराब होने का मतलब है कि लंबे समय तक इसके संपर्क में आने पर लोगों को सांस संबंधी परेशानी हो सकती है जबकि बेहद गंभीर स्तर पर होने का मतलब है कि यह सेहतमंद लोगों को पर भी असर डाल सकती है और सांस तथा दिल के मरीजों को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है.

सीपीसीबी के एयर लैब प्रमुख दीपांकर साहा ने बताया कि हवा बिलकुल भी नहीं चल रही, जिस वजह से यह हालात बने हैं. मौसम में मौजूद नमी ने जमीन पर स्थित स्रोतों से निकलने वाले प्रदूषकों को वहीं पर रोक दिया है.

मौसम का हाल बताने वाली निजी एजेंसी स्कायमेट का कहना है कि पड़ोसी राज्य पंजाब और हरियाणा में बड़े पैमाने पर पराली जलाई जा रही है और वहां से हवा दोपहर के वक्त शहर में प्रवेश कर रही है. सीपीसीबी ने पड़ोसी शहर नोएडा और गाजियाबाद में भी हवा की गुणवत्ता बेहद गंभीर बताई है.

केजरीवाल ने सिसोदिया से स्कूलों को कुछ दिन बंद रखने का आग्रह किया

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शहर में प्रदूषण के बढ़े हुए स्तर को देखते हुए मंगलवार को उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से स्कूलों को कुछ दिनों तक बंद रखने पर विचार करने को कहा.

केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, प्रदूषण के बढ़े स्तर को देखते हुए, मैंने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से स्कूलों को कुछ दिनों तक बंद रखने पर विचार करने का आग्रह किया है.

भारतीय चिकिस्ता संघ ने भी बच्चों की सेहत पर वायु प्रदूषण के खतरनाक प्रभावों को देखते हुए दिल्ली सरकार से अपील की है कि वह स्कूलों में आउटडोर खेलों और ऐसी अन्य गतिविधियों को बंद करवाए.

सीआईएसएफ ने जवानों को मुहैया कराए 9000 मास्क

राष्ट्रीय राजधानी में वायु की गुणवत्ता के गिरते स्तर के मद्देनजर सीआईएसएफ ने आईजीआई हवाईअड्डे, दिल्ली मेट्रो और अन्य सरकारी मंत्रालयों पर तैनात अपने कर्मियों को चेहरे ढंकने के लिए 9000 से अधिक मास्क मुहैया कराने आदेश जारी किया है.

अर्धसैनिक बल के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीआईएसएफ के महानिदेशक डीजी ओपी सिंह ने मास्क मुहैया कराए जाने का आदेश दिया है ताकि खुले स्थानों पर ड्यूटी कर रहे महिला एवं पुरूष गंभीर रूप से जहरीली धुंध का सामना बेहतर तरीके से कर पाए.

उन्होंने कहा, 2000 फेस मास्क तुरंत मुहैया कराए जाएंगे, वहीं अन्य 7000 दिल्ली की सभी इकाइयों में कुछ घंटों में पहुंचाए जाएंगे.

गृह मंत्रालय के अधीन कार्यरत अर्धसैनिक बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पास राजधानी में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (आईजीआई), दिल्ली मेट्रो और कई सरकारी विभागों एवं मंत्रालयों की सुरक्षा का जिम्मा है.