विज्ञान

जीवन की संभावना वाले पृथ्वी के आकार के ग्रह की खोज

माना जा रहा है कि पृथ्वी के आकार का यह ग्रह संयमित होगा और इसकी सतह भी पृथ्वी के समान हो सकती है.

This artist’s impression shows the temperate planet Ross 128 b, with its red dwarf parent star in the background. This planet, which lies only 11 light-years from Earth, was found by a team using ESO’s unique planet-hunting HARPS instrument. The new world is now the second-closest temperate planet to be detected after Proxima b. It is also the closest planet to be discovered orbiting an inactive red dwarf star, which may increase the likelihood that this planet could potentially sustain life. Ross 128 b will be a prime target for ESO’s Extremely Large Telescope, which will be able to search for biomarkers in the planet's atmosphere.

रॉस 128बी ग्रह की अपने लाल तारे के साथ कलाकार द्वारा बनाई गई तस्वीर. (फोटो साभार: ESO/M. Kornmesser)

जेनेवा: खगोलविदों ने महज 11 प्रकाशवर्ष की दूरी पर अनुकूल जलवायु वाले पृथ्वी के आकार के एक ग्रह की खोज की है, जिसका जनक एक शांत तारा है और संभवत: यह जीवन की संभावना वाला सबसे निकटतम ज्ञात स्थान भी हो सकता है.

चिली के ला सिला ऑब्जर्वेटरी में हाई एक्यूरेसी रेडियल वेलॉसिटी प्लानेट सर्चर (एचएआरपीएस) के साथ काम करने वाले एक दल ने देखा कि कम-द्रव्यमान वाला ग्रह हर नवें दिन लाल बौने तारे ‘रॉस 128बी’ की कक्षा में घूर्णन करता है.

माना जाता है कि पृथ्वी के आकार का यह ग्रह संयमित होगा और इसकी सतह भी पृथ्वी की सतह के समान हो सकती है. ‘रॉस 128बी’ सबसे शांत निकटम तारा है.

स्विट्जरलैंड में यूनिवर्सिटी ऑफ जेनेवा से निकोला एस्टुडिल्लो-डेफ्रु ने बताया, ‘यह खोज एचएआरपीएस की एक दशक से अधिक समय की गहन निगरानी पर आधारित है, जिसके लिये आधुनिक आंकड़ा संग्रह एवं विश्लेषण तकनीक का इस्तेमाल किया गया है.’

लाल बौने ब्रह्मांड के सबसे शीतल, धुंधले तारों में से एक हैं. यही गुण उन्हें खगोलविदों के लिये खोज का सबसे बेहतर लक्ष्य बनाता है.

फ्रांस में यूनिवर्सिटी ऑफ ग्रेनोबल से जेवियर बोनफिल्स ने कहा कि सूर्य के समान मिलते जुलते तारों की तुलना में इन तारों के आस पास धरती के समान छोटे शीतल ग्रहों की पहचान करना आसान होता है. जेवियर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स पत्रिका में प्रकाशित अनुसंधान के मुख्य लेखक हैं.