भारत

उत्तर प्रदेश में पहला मौका जब मुख्यमंत्री निकाय चुनाव प्रचार कर रहे हैं: सपा

योगी प्रचार के लिए पहुंचे मथुरा. वृंदावन और बरसाना क्षेत्रों का विकास पांच हजार वर्ष पुरानी परंपराओं के अनुसार कराने की मंशा जताई.

Yogi Adityanath Facebook

आगरा में नगर निगम चुनाव प्रचार के दौरान एक सभा को संबोधित करते उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ. (फोटो साभार: योगी आदित्यनाथ/फेसबुक)

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने रविवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी अपनी खराब स्थिति के कारण डरी हुई है क्योंकि उत्तर प्रदेश में यह पहला मौका है जब कोई मुख्यमंत्री स्थानीय निकाय चुनाव में प्रचार अभियान में उतरा हो तथा चुनावी सभाओं को संबोधित कर रहा हो. इसी बीच योगी आदित्यनाथ निकाय चुनाव के प्रचार के लिए मथुरा पहुंचे और क्षेत्र के विकास की योजना को लेकर जनता से वोट मांगा.

सपा के वरिष्ठ नेता व विधानसभा में विपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने पत्रकारों से बातचीत में भाजपा पर तीखे हमले किए. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में यह पहला मौका है जब कोई मुख्यमंत्री स्थानीय निकाय चुनाव में प्रचार अभियान में उतरे हैं तथा चुनावी सभा को संबोधित कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि जनता के सामने सरकार का झूठ व फरेब उजागर हो जाने तथा कानून व व्यवस्था की स्थिति को लेकर हो रही छीछालेदर को देख भाजपा अपनी संभावित हार से बौखला गई है. इसीलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपने मंत्री व दल के वरिष्ठ नेताओं के साथ चुनावी समर में उतरना पड़ा है.

उन्होंने कहा कि भाजपा जनता से डर गई है. मुख्यमंत्री व भाजपा नेता जनता का विश्वास खो चुके हैं. उन्होंने कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव दल के शीर्ष नेता हैं. वह पुरानी परंपरा को देखते हुए स्थानीय निकाय के प्रचार अभियान से दूर है.

उन्होंने सपा के बसपा से गठबंधन को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा कि सही समय पर दल का केंद्रीय नेतृत्व इस पर फैसला लेगा.

योगी चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे मथुरा

मथुरा: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां कहा कि अयोध्या व मथुरा हमारी प्राचीन धार्मिक व सांस्कृतिक परंपराओं के केंद्र हैं इसीलिए इनका उसी अनुरूप विकास करने के लिए इन्हें नगर निगम का दर्जा दिया गया.

उन्होंने कहा कि सरकार ने ब्रज के विकास के लिए विशेष तौर पर ब्रज तीर्थ विकास बोर्ड का गठन किया है और वृंदावन तथा बरसाना को तीर्थस्थल घोषित किया है जिससे इन क्षेत्रों का विकास यहां की पांच हजार वर्ष पुरानी कृष्णकालीन परंपराओं के अनुसार ही सुनिश्चित कराया जा सके.

योगी ने मथुरा-वृन्दावन के नगर निगम प्रत्याशी डॉ. मुकेश कुमार आर्यबंधु के वाल्मीकि होने का जिक्र करते हुए कहा, संयोग है कि भाजपा ने समाज के सबसे निचले तबके के कार्यकर्ता को इस पद का प्रत्याशी बनाया है. लेकिन यह भी जान लीजिए कि यदि भगवान वाल्मीकि ने रामायण के माध्यम से परिचय न कराया होता तो हम आज भगवान राम से संवाद स्थापित न कर पाते.

वह यहां पार्टी कार्यालय के समीप शहर के मध्य एक पार्क में स्थानीय निकाय चुनावों के अवसर पर पहली बार किसी सभा को संबोधित कर रहे थे. इस सभा को सांसद हेमामालिनी, मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण, मंत्री श्रीकांत शर्मा आदि ने भी संबोधित किया.

पार्टी प्रत्याशियों के लिए मतदान की अपील करने आए मुख्यमंत्री ने अपनी व पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल का फर्क बताते हुए कहा, एक समय वह था जब यहां के उद्योगपति एवं व्यापारी प्रदेश छोड़कर भाग रहे थे. क्योंकि, यहां भ्रष्टाचार, अत्याचार, अराजकता व गुंडाराज कायम था.

उन्होंने कहा, लेकिन व्यापारी अब यहां आकर व्यापार करना चाहते हैं और दुनिया भर के निवेशक यहां निवेश कर रहे हैं. नए उद्योग-धंधे लगाना चाह रहे हैं. जबकि, तब एकतरफा दंगे होते थे. पीड़ित पक्ष न्याय मांगता था तो उसके खिलाफ ही मुकदमे दर्ज करा दिए जाते थे. 2012 में जब समाजवादी पार्टी की सरकार बनी थी तो मथुरा में कोसीकलां कस्बे में हुआ दंगा इसका उदाहरण है.

मुख्यमंत्री ने दावा करते हुए कहा, आज हमारी सरकार को आठ माह पूरे हुए हैं और इस काल में एक भी दंगा नहीं हुआ. 22 करोड़ प्रांतवासियों को सुरक्षा देने के लिए सरकार पूरी तरह से प्रतिबद्ध है. देश-विदेश के पर्यटकों और पवित्र स्थलों की सुरक्षा के लिए विशेष योजना बनाई जा रही है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments