भारत

‘लोग सूरज तोड़ लाए और हम, बंबई को मुंबई करते रहे’

राहत इंदौरी ने कहा, ‘क्या इंदौर को इंदूर किए जाने भर से यह शहर स्मार्ट सिटी बन जाएगा? देश के कई शहरों के नाम बदले गए, इससे आख़िर क्या तब्दीली हुई है?

(फोटो साभार: फ़ेसबुक)

(फोटो साभार: फ़ेसबुक)

इंदौरमशहूर शायर राहत इंदौरी ने मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी का नाम बदलने की बहस को सियासी हल्ला करार देते हुए राय जतायी है कि इससे शहर की सेहत और मिजाज़ पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. इसका नाम इंदौर ही रहने दिया जाए.

राहत इंदौरी ने बुधवार को कहा, इंदौर का नाम बदलने की बहस से इस शहर की तरक्की नहीं होगी. यह बहस सियासी हल्ला भर है, इंदौर को इंदौर ही रहने दिया जाए. शहर का नाम बदलने की कोई जरूरत नहीं है.

उन्होंने कहा, क्या इंदौर को इंदूर किए जाने भर से यह शहर स्मार्ट सिटी बन जाएगा. अगर आप सरकार इंदौर को एक आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं, तो कुछ और सोचा जाना चाहिए. शहर का नाम बदलने से कुछ नहीं होगा.

गौरतलब है कि गुजरे बरसों में देश के कई शहरों के नामों में बदलाव के बाद इंदौर के नाम में परिवर्तन की बहस तेज हो गई है.

इंदौरी सवाल करते हैं, देश के कई शहरों से लेकर उनके मोहल्लों, गलियों और चौराहों तक के नाम भी बदल दिए गए हैं, लेकिन मुझे अब तक समझ नहीं आया कि इससे आखिर क्या तब्दीली हुई है?

उन्होंने कहा, मद्रास को चेन्नई या कलकत्ता को कोलकाता कर दिया गया, तो इससे भला क्या फर्क पड़ गया.

बंबई का नाम बदलकर मुंबई किए जाने के संदर्भ में इंदौरी अपना एक पुराना शेर याद दिलाते हैं, ‘रोशनी को तीरगी करते रहे, यह सफर पूरी सदी करते रहे. लोग सूरज तोड़ लाए और हम, बंबई को मुंबई करते रहे.’

इंदौर से ताल्लुक रखने वाले मशहूर फिल्मी गीतकार स्वानंद किरकिरे का भी मानना है कि इस शहर का नाम बदलकर इंदूर किए जाने की बहस सरासर बेमानी है.

उन्होंने कहा, ‘मुझे समझ नहीं आता कि हम आगे जा रहे हैं या पीछे जा रहे हैं. जिन लोगों को इस शहर को इंदौर बोलना है, वे इसे इंदौर बोलें. जो लोग इस शहर को इंदूर के रूप में संबोधित करना चाहते हैं, वे इसे इंदूर कह लें. शहर के नाम को विवाद का विषय नहीं बनाया जाना चाहिए.’

मध्य प्रदेश के सबसे बड़े शहर के नाम में बदलाव की बहस 14 नवंबर को शुरू हुई, जब इंदौर नगर निगम के पार्षदों के सम्मेलन में एक प्रस्ताव पेश किया गया था. वॉर्ड क्रमांक 70 के भाजपा पार्षद सुधीर देड़गे ने ऐतिहासिक तथ्यों का हवाला देते हुए प्रस्ताव रखा जिसमें कहा गया था कि पूर्व होलकर शासकों की राजधानी रहे शहर का नाम बदलकर इंदूर किया जाना चाहिए.

देड़गे का दावा है कि प्राचीन इंद्रेश्वर महादेव मंदिर के कारण इस शहर का नाम इंदूर ही रखा गया था. लेकिन अंग्रेजों के गलत उच्चारण के कारण शहर का नाम इंदोर पड़ गया जो बाद में और बदलकर इंदौर हो गया.

बहरहाल, नगर निगम के एक अधिकारी ने कहा कि भाजपा पार्षद के प्रस्ताव पर फिलहाल कोई अंतिम फैसला नहीं किया गया है. जन प्रतिनिधि से कहा गया है कि वह अपने दावे के समर्थन में ऐतिहासिक दस्तावेज पेश करें. इसके बाद विचार-विमर्श के आधार पर उनके प्रस्ताव पर उचित कदम उठाया जाएगा.