भारत

गुजरात चुनाव: पहले दौर में 198 करोड़पति उम्मीदवार, 137 पर आपराधिक आरोप

गुजरात चुनाव राउंडअप: गुजरात में शिक्षा पर कम सरकारी ख़र्च के मसले पर राहुल ने मोदी पर साधा निशाना, बिना इजाज़त रैली करने पर हार्दिक के ख़िलाफ़ प्राथमिकी.

Gujarat Assembly Election (1)
अहमदाबाद: गुजरात चुनाव के प्रथम चरण के लिए मैदान में उतरे कुल 997 उम्मीदवारों में से 198 उम्मीदवार करोड़पति हैं. ये विभिन्न राजनीतिक दलों से और निर्दलीय हैं. सत्तारूढ़ भाजपा ने 76 करोड़पति उम्मीदवारों, जबकि विपक्षी कांग्रेस ने ऐसे 60 उम्मीदवारों को टिकट दिया है. वहीं, 580 उम्मीदवार महज पांचवीं, आठवीं, 10 वीं या 12 वीं कक्षा तक पढ़े हैं.

वहीं, पहले चरण के लिए मैदान में खड़े 977 उम्मीदवारों में से 923 उम्मीदवारों के हलफनामों के विश्लेषण से पता चला है कि इनमें से 15 प्रतिशत यानी कि 137 उम्मीदवार आपराधिक मामलों का सामना कर रहे हैं. इनमें से कई पर हत्या, अपहरण और बलात्कार जैसे आरोप भी हैं.

दो एनजीओ ने चुनाव हलफनामों का विश्लेषण कर यह पाया है. इसके मुताबिक इन करोड़पति उम्मीदवारों में 65 ने पांच करोड़ रुपये अधिक संपत्ति होने की घोषणा की है, जबकि 60 अन्य ने अपनी चल और अचल संपत्ति दो से पांच करोड़ रुपये के बीच होने का हलफनामे में दावा किया है.

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक राइट्स (एडीआर) और गुजरात इलेक्शन वाच द्वारा प्रथम चरण के चुनाव के लिए कुल 977 उम्मीदवारों में 923 का विश्लेषण किया गया.

भाजपा ने 76 करोड़पति उम्मीदवारों को टिकट दिया है जबकि कांग्रेस ने ऐसे 60 उम्मीदवार उतारे हैं. वहीं, राकांपा के सात, आप के छह और बसपा के दो उम्मीदवार करोड़पति हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि 25 निर्दलीय उम्मीदवार भी करोड़पति हैं. हालांकि, 54 उम्मीदवारों के हलफनामों का विश्लेषण नहीं हो पाया क्योंकि या तो उनका हलफनामा सही ढंग से स्कैन नहीं हो पाया, या वे अधूरे हैं.

राजकोट – पश्चिम सीट से कांग्रेस उम्मीदवार इंद्राणिल राज्यगुरू सबसे धनी उम्मीदवार के तौर पर उभरे हैं जिन्होंने 141. 2 करोड़ रुपये की संपत्ति की घोषणा की है. वह भाजपा उम्मीदवार एवं राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के खिलाफ मैदान में हैं.

इस मामले में बोताड सीट से भाजपा उम्मीदवार सौरभ पटेल दूसरे स्थान पर हैं. वह गुजरात के पूर्व वित्त मंत्री हैं. उन्होंने 123.78 करोड़ रुपये की संपत्ति की घोषणा की है. वहीं, तीसरे स्थान पर वधवान सीट से भाजपा उम्मीदवार धनजीभाई पटेल 113.47 करोड़ हैं. लेकिन धनजीभाई सालाना आय के मामले में शीर्ष पर हैं.

राज्य में प्रथम चरण का चुनाव नौ दिसंबर को होना है जिसके लिए 977 उम्मीदवार मैदान में हैं. प्रथम चरण के चुनाव में 89 सीटों पर मतदान होगा.

दिलचस्प है कि दो निर्दलीय उम्मीदवारों-प्रकाश उनादकट पोरबंदर और रफिक हुसैन सोमनाथ ने अपनी चल या अचल संपत्ति शून्य घोषित की है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि शैक्षणिक योग्यता के मामले में 923 उम्मीदवारों में 580 उम्मीदवार पांचवीं, आठवीं, 10 वीं या 12 वीं कक्षा तक पढ़े हैं. 76 उम्मीदवारों ने खुद के साक्षर होने की जानकारी दी है जबकि 17 ने खुद को निरक्षर बताया है.

रिपोर्ट के मुताबिक 923 उम्मीदवारों में 57 महिलाएं हैं. वहीं, करीब 40 फीसदी उम्मीदवार 25 से 40 साल आयुवर्ग के हैं.

आपराधिक आरोप का मामला

विश्लेषण से पता चला है कि इन 137 उम्मीदवारों में से 78 उम्मीदवार गंभीर आपराधिक मामलों का सामना कर रहे हैं.

पार्टीवार विश्लेषण में पाया गया कि 89 भाजपा उम्मीदवारों में से 10 उम्मीदवार गंभीर आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे हैं, जबकि कांग्रेस ने पहले चरण के चुनाव के लिए इस तरह के 20 उम्मीदवारों को टिकट दिया है.

इसमें कहा गया कि इस तरह के उम्मीदवारों में बसपा के आठ, राकांपा के तीन और आम आदमी पार्टी का एक उम्मीदवार शामिल है.

गुजरात इलेक्शन वाच से पंक्ति जोग ने संवाददाताओं से कहाकि  यद्यपि पहले दौर में नौ दिसंबर को होने जा रहे मतदान में 89 विधानसभा सीटों के लिए 977 उम्मीदवार मैदान में हैं, 54 उम्मीदवारों के हलफनामों का विश्लेषण नहीं किया जा सका क्योंकि वे या तो खराब तरीके से स्कैन किए गए थे या वे अपूर्ण थे.

गुजरात में शिक्षा पर कम सरकारी खर्च के मसले पर राहुल ने मोदी पर साधा निशाना

नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भाजपा शसित गुजरात में शिक्षा पर कम सरकारी खर्च के मसले पर सवाल किया है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीटर के जरिए अपनी एक सवाल एक दिन श्रृंखला के तहत चौथा सवाल करते हुए पूछा, सरकारी शिक्षा पर खर्च करने के मामले में गुजरात 26 वें स्थान पर क्यों है. इस राज्य के युवाओं के क्या गुनाह किया है.

गुजरात में कांग्रेस के चुनाव प्रचार का नेतृत्व करने वाले राहुल ने सरकारी स्कूलों तथा संस्थानों की कीमत पर शिक्षा का व्यावसायीकरण करने ओर शुल्क में बढ़ोतरी कर छात्रों की शिक्षा को प्रभावित करने के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की.

प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए राज्यभर में चुनाव प्रचार कर रहे पार्टी उपाध्यक्ष राहुल ने मोदी से पूछा, इस तरीके से नए इंडिया का सपना कैसे असलियत बनेगा.

शहीद की बेटी को रूपाणी से मिलने से रोका, राहुल ने भाजपा का अहंकार करार दिया

केवडिया कॉलोनी (गुजरात): गुजरात में यहां एक रैली के दौरान राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से शहीद बीएसएफ जवान की बेटी को मिलने से महिला पुलिस कर्मियों ने रोक दिया.

आदिवासी महिला की पहचान रूपल तड़वी (26) के तौर पर हुई है. वह कई सालों से इस बात को लेकर प्रदर्शन कर रही है कि उसके पिता अशोक तड़वी के शहीद होने के बाद सरकार ने जो जमीन देने का कथित रूप से वादा किया था वह आज तक पूरा नहीं किया. उसने बताया कि उसके पिता बीएसएफ में थे और शहीद हुए थे.

रूपाणी यहां एक रैली को संबोधित कर रहे थे. रूपल दर्शकों में बैठी थी और अचानक से चिल्लाते हुए मंच की ओर दौड़ पड़ी, मैं उनसे मिलना चाहती हूं…मैं उनसे मिलना चाहती हूं.

इससे पहले कि वह मुख्यमंत्री के करीब जा पाती, महिला पुलिसकर्मी उसे वहां से ले गईं. रूपाणी ने मंच से कहा, मैं आपसे इस कार्यक्रम के बाद मिलूंगा. लेकिन कोई मुलाकात नहीं हुई.

रूपल को पुलिस कर्मियों द्वारा ले जाने के दौरान बचने के लिए संघर्ष करने का वीडियो वायरल हो गया है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने घटना का वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किया है. उन्होंने कहा कि भाजपा का अहंकार अपने चरम पर है.

गांधी ने हिंदी में ट्वीट करके आरोप लगाया परम देशभक्त रुपाणीजी ने शहीद की बेटी को सभा से बाहर फेंकवा कर मानवता को शर्मसार किया. 15 साल से परिवार को मदद नहीं मिली, खोखले वादे मिले.

उत्तर प्रदेश के निकाय चुनाव के परिणामों की, गुजरात में जो होगा उससे कोई तुलना नहीं: शाह

सोमनाथ: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश मेयर चुनाव में उनकी पार्टी की जीत की तुलना उससे करने जैसी नहीं जो कि गुजरात में 18 दिसंबर को होने जा रहा है जब राज्य विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होंगे.

शाह ने गिर सोमनाथ जिले के सोमनाथ में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, उत्तर प्रदेश नगर निगम चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली. वहीं, दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा का झंडा ऊंचा लहराया है.

Amit_Shah-PTI

अमित शाह (फाइल फोटो: पीटीआई)

उन्होंने कहा, कांग्रेस पिछले तीन महीने से चिल्ला रही है कि कांग्रेस आवे छे (कांग्रेस आ रही है) जबकि उत्तर प्रदेश के लोगों ने कहा कांग्रेस जाये छे (कांग्रेस जा रही है).

उन्होंने कहा, कांग्रेस का नुकसान ऐसा है कि भाजपा नगर निगम की सभी सीटें यहां तक कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल बाबा (गांधी) के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भी जीत गई.

उन्होंने कहा, जो कुछ भी उत्तर प्रदेश में हुआ है उसकी उससे कोई तुलना नहीं जो गुजरात में 18 दिसंबर को होगा. 18 दिसंबर को मतगणना के बाद भाजपा विजयी होकर उभरेगी और 150 सीटों के साथ सरकार बनाएगी.

गुजरात में सपा प्रत्याशियों के लिए प्रचार करेंगे अखिलेश

नई दिल्ली: गुजरात में विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी सपा के उम्मीदवारों के पक्ष में पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव प्रचार करने जायेंगे.

सपा ने राज्य में पांच उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे है. सपा प्रवक्ता और गुजरात में चुनाव अभियान के प्रभारी सुनील साजन ने बताया कि सपा अध्यक्ष यादव आगामी चार दिसंबर को गुजरात जायेंगे.

साजन ने बताया कि वह गुजरात में चार दिवसीय प्रचार अभियान के दौरान उन चार सीटों पर एक एक दिन प्रचार करेंगे जहां पहले चरण के चुनाव में सपा ने अपने उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे हैं.

उन्होंने बताया कि पार्टी ने कच्छ जिले की मांडवी, वलसाड जिले में पारडी, जामनगर जिले में जामजोधपुर, राजकोट जिले में धोराजी और वनासकांठा जिले में धारड़ विधानसभा सीट पर अपने उम्मीदवार खड़े किये हैं.

बिना इजाजत के रैली करने पर हार्दिक के खिलाफ प्राथमिकी

राजकोट: बिना अनुमति के रैली आयोजित कर चुनावी आचार संहिता का कथित रूप से उल्लंघन करने पर पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल और उनके सहयोगी तुषार नंदानी के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है.

राजकोट पश्चिम के निर्वाचन अधिकारी पी आर जानी ने मालवीय नगर थाने में अपनी शिकायत में कहा है कि जिला प्रशासन की तरफ से अनुमति से इंकार के बावजूद हार्दिक पटेल ने 29 नवंबर 2017 को राजकोट में एक रैली को संबोधित किया.

जानी ने आरोप लगाया कि नंदानी ने वार्ड नंबर 8,9,10 के पाटीदार निवासियों के लिए बैठक करने की अनुमति मांगी थी. इस बैठक को समुदाय के नेताओं को संबोधित करना था.

जानी ने कहा, हालांकि, हमारे ध्यान में यह आया है कि उसी दिन उसी जगह और उसी वक्त पर पास ने महा क्रांति रैली करने के लिए अनुमति मांगी थी. हमने कानून और व्यवस्था की गड़बड़ी की आशंका का हवाला देते हुए दोनों आवेदन खारिज कर दिए थे.

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल. (फोटो: पीटीआई)

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल. (फोटो: पीटीआई)

शिकायत में कहा गया, अस्वीकार के बावजूद पास ने रैली की जिसमें 15,000 से ज्यादा लोग आए और हार्दिक पटेल ने इसे संबोधित किया.

निरीक्षक एम डी चंद्रावदिया ने कहा कि पुलिस ने हार्दिक पटेल और अन्य के खिलाफ आईपीसी की धारा (143) गैरकानूनी जमावड़ा और धारा (188) सरकारी अधिकारी के आदेश की अवज्ञा के तहत मामला दर्ज किया है.

पुलिस अधिकारी ने कहा, हमने आयोजन की वीडियो रिकार्डिंग की मांग की है और इसके मुताबिक आगे की कार्रवाई की जाएगी.

राहुल का विकास का अमेठी मॉडल गुजरात में काम नहीं करेगा: पात्रा

वडोदरा: भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने यह कहते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा कि अमेठी में उनके विकास का मॉडल गुजरात में काम नहीं करेगा जिसमें अच्छी सड़कें, अस्पतालों और आधारभूत सुविधाओं का अभाव है.

पात्रा ने उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में भाजपा की प्रचंड जीत का उल्लेख करते हुए कहा कि पार्टी अब गुजरात में कुल 182 विधानसभा सीटों में से 160 सीटें जीतने का नया लक्ष्य तय कर सकती है.

भाजपा नेता पात्रा ने कहा, राहुल गांधी नकारात्मक राजनीति कर रहे हैं और गुजरात में विकास का अमेठी मॉडल पेश करने का प्रयास कर रहे हैं. अमेठी में न तो पक्की सड़कें हैं, न ही अच्छे अस्पताल हैं और न ही आधारभूत सुविधाएं हैं. इसलिए विकास का अमेठी मॉडल गुजरात में काम नहीं करेगा.

अमेठी उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी का संसदीय क्षेत्र है. पात्रा ने आरोप लगाया कि गांधी और कांग्रेस के अन्य नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास की नीतियों की आलोचना करके उनकी छवि धूमिल कर रहे हैं.

उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के इस आरोप को भी आधारहीन बताया कि भाजपा नीत गुजरात सरकार ने साणंद में कार निर्माण इकाई के लिए टाटा मोटर्स को 33 हजार करोड़ रुपये का अनुचित लाभ पहुंचाया.

उन्होंने उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में भाजपा की जीत का उल्लेख करते हुए कहा, भाजपा ने उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में बहुमत हासिल किया. पार्टी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में गुजरात की सभी 26 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इसलिए अब गुजरात विधानसभा चुनाव में पहले 150 सीटें जीतने के लक्ष्य को पुनरीक्षित करते हुए अब 160 सीटें जीतने का लक्ष्य निर्धारित कर सकते हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)