दुनिया

नेपाल में वामपंथी गठबंधन को 116 सीटों के साथ बहुमत

फर्स्ट पास्ट द पोस्ट (एफपीटीपी) प्रणाली के तहत मतगणना समाप्त. सीपीएन-यूएमएल 80 सीटें जीतकर बनी सबसे बड़ी पार्टी.

NEPAL PARLIAMENTORY ELECTION Reuters

(फोटो: रॉयटर्स)

काठमांडू: नेपाल में हुए ऐतिहासिक प्रांतीय और संसदीय चुनावों में वामपंथी गठबंधन ने बहुमत हासिल कर लिया है और सीपीएन-यूएमएल (कम्युनिस्ट पार्टी आॅफ नेपाल- यूनिफाइड मार्क्सिस्ट लेनिनिस्ट) 80 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है. फर्स्ट पास्ट द पोस्ट (एफपीटीपी) प्रणाली के तहत मतों की गणना का काम बुधवार को समाप्त हो गया.

पूर्व प्रधानमंत्री केपी ओली के नेतृत्व वाले सीपीएन-यूएमएल और पूर्व प्रधानमंत्री प्रचंड के नेतृत्व वाले सीपीएन-माओवादी केंद्र ने प्रांतीय और संसदीय चुनावों के लिए गठबंधन बनाया था. इस गठबंधन ने एफपीटीपी प्रणाली के तहत 165 सीटों में से 116 सीटों पर जीत दर्ज की.

सीपीएन-यूएमएल ने 80 सीटें जीतीं जो कुल 165 सीटों का लगभग 50 प्रतिशत है. सीपीएन-माओवादी केंद्र और नेपाली कांग्रेस ने क्रमश: 36 और 23 सीटों पर जीत हासिल कीं.

वामपंथी गठबंधन अब केंद्र में सरकार बनाएगा. सीपीएन-यूएमएल के अध्यक्ष ओली नई सरकार का नेतृत्व कर सकते हैं.

दो मधेशी पार्टियों राष्ट्रीय जनता पार्टी (आरजेपी) और फेडरल सोशलिस्ट फोरम नेपाल (एफएसएफएन) की संयुक्त संख्या 21 तक पहुंच गई है. आरजेपी को 11 सीटें मिलीं तो वहीं एफएसएफएन को 10 सीटों पर जीत मिली.

वामपंथी गठबंधन ने प्रॉविंस संख्या दो को छोड़कर सभी प्रांतीय एसेंबलियों में भी बहुमत हासिल कर लिया है.

प्रांतीय एसेंबली में 330 सीटों में से सीपीएन-यूएमएल को सबसे अधिक 168 सीटे मिलीं जबकि माओवादी सेंटर को 73 सीटों पर जीत हासिल हुई.

नेपाली कांग्रेस 41 सीटें हासिल करके तीसरे स्थान पर रही. आरजेपी और एफएसएफएन को क्रमश: 16 और 24 सीटें मिली.

उल्लेखनीय है कि नेपाल के दो चरणों वाले संसदीय एवं विधानसभा चुनावों के लिए मतदान 26 नवंबर और 7 दिसंबर को हुआ था.