राजनीति

अब लखनऊ का क़ैसरबाग़ थाना हुआ भगवा, भाकपा नेता ने कहा- सांप्रदायिक माहौल ख़राब न करें योगी

आॅल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा कि रंगों की राजनीति से बचा जाना चाहिए. अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा ने कहा कि भगवा सकारात्मकता का प्रतीक है. यह भगवान का तोहफ़ा है.

योगी आदित्यनाथ और भगवा रंग में रंगा गया लखनऊ का क़ैसरबाग़ थाना. (फोटो: पीटीआई/एएनआई)

योगी आदित्यनाथ और भगवा रंग में रंगा गया लखनऊ का क़ैसरबाग़ थाना. (फोटो: पीटीआई/एएनआई)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री कार्यालय, हज समिति कार्यालय तथा अन्य सरकारी भवनों के बाद भगवा रंग अब पुलिस थानों पर भी चढ़ने लगा है. शहर के 80 साल पुराने क़ैसरबाग़ पुलिस थाने पर भगवा रंग चढ़ गया है.

वैसे विपक्षी दलों की बयानबाज़ी के बाद हज समिति कार्यालय पर लगे भगवा रंग को बदल दिया गया है.

योगी आदित्यनाथ के प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद प्रदेश में भगवे रंग का प्रयोग लगातार बढ़ रहा है. सरकारी पुस्तिकाओं से लेकर तौलिये और सरकारी बसों तक पर भगवा रंग चढ़ चुका है. शहर के बीचोंबीच बना क़ैसरबाग़ पुलिस थाना इस सूची में नया है.

क़ैसरबाग़ पुलिस थाना ब्रिटिश ज़माने में 1939 में बनाया गया था और यह अपने पारंपरिक पीले और लाल रंग से रंगा था, लेकिन अब अंग्रेज़ों के जमाने के इस थाने के कुछ खंभे और भवन के कुछ हिस्से को केसरिया (भगवा) रंग में रंग दिया गया है.

क़ैसरबाग़ थाने के प्रभारी निरीक्षक डीके उपाध्याय ने बताया कि थाने में रंग रोगन का काम करीब ढाई माह पहले शुरू किया गया था, लेकिन आजकल ठंड के कारण काम रुका हुआ है.

कहा जाता है कि केसरिया रंग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पसंदीदा है. मुख्यमंत्री कार्यालय (लाल बहादुर शास्त्री भवन) को पिछले साल अक्टूबर में केसरिया रंग में पेंट किया गया था. योगी के कार्यालय में उनकी सीट पर भी केसरिया रंग का तौलिया लगा रहता है. वह ख़ुद भगवा रंग के कपड़े पहनते हैं.

दिलचस्प बात है कि योगी के क्षेत्र गोरखपुर स्थित ऐतिहासिक घंटाघर भी भगवा रंग से रंगा हुआ है .

हाल ही में योगी ने केसरिया रंग की पचास सरकारी बसों को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था. इसके अलावा सरकार के 100 दिन पूरे होने पर जो पुस्तिका यानी बुकलेट सरकार द्वारा जारी की गई थी,वह भी केसरिया थी.

भगवा रंग में रंगा गया लखनऊ का क़ैसरबाग़ थाना. (फोटो साभार: एएनआई)

भगवा रंग में रंगा गया लखनऊ का क़ैसरबाग़ थाना. (फोटो साभार: एएनआई)

यहां तक कि सूचना डायरी जिसमें राज्य सरकार के मंत्रियों और अधिकारियों के टेलीफोन नंबर होते हैं, वह भी केसरिया रंग में रंगी थी.

अभी दो दिन पहले हज समिति के भवन की बाहरी दीवार को भी केसरिया रंग से रंग दिया गया था लेकिन विपक्षी दलों और कुछ मुस्लिम संगठनों के विरोध के बाद इसका रंग बदल दिया गया.

सरकारी इमारतों का रंग बदल कर सांप्रदायिक माहौल ख़राब न करें योगी: भाकपा नेता

भाकपा ने भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार पर देश का सांप्रदायिक माहौल ख़राब करने का आरोप लगाया है.

हाल ही में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हज कमेटी की इमारत को भगवा रंग रंगने के एक दिन बाद ही फिर से रंग बदलने की घटना का हवाला देते हुए भाकपा नेता अतुल कुमार अंजान ने रविवार को कहा कि भाजपा की सरकारें जान-बूझकर देश का सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ रही हैं.

अंजान ने कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार चाहे तो राज्य विधानसभा की इमारत सहित सभी सरकारी इमारतों का रंग भगवा कर दें, लेकिन रोज़-रोज़ इनका रंग बदल कर देश भर में सामाजिक तनाव पैदा करने की कोशिश न करें.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ. (फोटो: पीटीआई)

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ. (फोटो: पीटीआई)

अंजान ने कहा कि हज कमेटी की इमारत का रंग पहले भगवा करने के एक दिन बाद इसे फिर से सफेद कर दिया गया. उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस के कार्यकर्ता लोगों में धार्मिक कट्टरता का भय फैलाने के लिए इस तरह की गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि इन गतिविधियों को भाजपा शासित राज्यों में स्थानीय प्रशासन का संरक्षण मिला हुआ है.

हज समिति कार्यालय को भगवा रंग के लिए ठेकेदार की लापरवाही को ज़िम्मेदार बताया

उत्तर प्रदेश हज समिति के कार्यालय की चहारदीवारी पर चटख भगवा रंग लगाने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही भाजपा सरकार ने रविवार को स्वीकार किया कि ठेकेदार ने लापरवाही बरती है.

राज्य सरकार की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया, ‘उत्तर प्रदेश राज्य हज समिति कार्यालय की रंगाई-पुताई व अनुरक्षण के कार्य में ठेकेदार द्वारा लापरवाही बरतने पर राज्य हज समिति के सचिव व कार्यपालक अधिकारी आरपी सिंह ने इसका तत्काल संज्ञान लेकर दिए गए निर्देशों के अनुसार कार्य में सुधार कराने के साथ ही संबंधित ठेकदार के विरुद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं.’

विज्ञप्ति के अनुसार, सिंह ने बताया कि विधानसभा मार्ग स्थित उत्तर प्रदेश राज्य हज समिति कार्यालय की रंगाई-पुताई एवं अनुरक्षण का कार्य हज समिति द्वारा ठेकेदार के माध्यम से पूर्व में दिए गए निर्देशों के अनुसार कराया जा रहा था, जिसमें लापरवाही बरती गई.

उन्होंने कहा कि इसके बारे में कतिपय समाचार पत्रों में ख़बरें भी प्रकाशित हुई थीं. इसी परिप्रेक्ष्य में उन्होंने मौके पर जाकर कार्य का निरीक्षण किया और पाया कि जो रंग चहारदीवारी का करने के निर्देश दिए गए थे उसमें लापरवाही बरती गई और निर्देशों के विपरीत रंग को कुछ अधिक गाढ़ा कर दिया गया.

विज्ञप्ति के मुताबिक इसे तत्काल रोक दिया गया और निर्देशों के अनुसार ही चहारदीवारी की रंगाई-पुताई व अनुरक्षण का कार्य कराने के निर्देश संबंधित को दिए.

राजधानी में मुख्यमंत्री कार्यालय और कुछ अन्य भवनों के बाद उत्तर प्रदेश राज्य हज समिति के कार्यालय की बाहरी दीवारें भगवा रंग में रंग दी गई थीं.

दीवारों पर भगवा पेंट राज्य संपत्ति विभाग की ओर से बीते शुक्रवार को कराया गया था.

उत्तर प्रदेश सरकार के इस क़दम की आलोचना करते हुए समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश सरकार जनता की प्रतिक्रिया को भांपने के लिए विभिन्न भवनों को केसरिया रंग में रंगवा रही है. भाजपा केवल रंग पर राजनीति इसलिए कर रही है ताकि प्रदेश के विकास कार्यों में हुई उसकी नाकामी से जनता का ध्यान हटाया जा सके. प्रदेश में विकास का काम तो सरकार ने किया नहीं है बस वह रंग की राजनीति कर रही है. मुझे आशंका है कि प्रदेश के विधानभवन का रंग भी केसरिया कर दिया जाएगा.’

लखनऊ में भाजपा सरकार ने प्रदेश हज समिति के कार्यालय की दीवार को भगवा रंग में रंगवा दिया है. (फोटो: पीटीआई)

लखनऊ में भाजपा सरकार ने प्रदेश हज समिति के कार्यालय की दीवार को भगवा रंग में रंगवा दिया गया था. विवाद के बाद दीवारों को फिर से सफेद रंग में रंग दिया गया. (फोटो: पीटीआई)

आॅल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता यासूब अब्बास ने गहरी आपत्ति प्रकट करते हुए कहा कि ये सब क्या है. भाजपा भगवा रंग रंगेगी, सपा हरा चुनेगी और बसपा नीला. यह रंग की राजनीति है, जिससे बचा जाना चाहिए.

संपर्क करने पर अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा ने बताया था, मुझे उन लोगों की बात समझ नहीं आती जिन्हें नए रंग से दिक्कत है. क्या भगवा राष्ट्रविरोधी रंग है भगवा उजाले और ऊर्जा का प्रतीक है.

उन्होंने कहा, जब सूरज की पहली किरण धरती पर पड़ती है तो यह भगवा रोशनी के साथ आती है. रजा ने कहा कि भगवा रंग सकारात्मकता का प्रतीक है. यह भगवान का तोहफ़ा है. मुझे लगता है कि जो हज समिति के कार्यालय की दीवारों पर भगवा रंग लगाने के ख़िलाफ़ हैं, वे तिरंगे के केसरिया रंग पर भी आपत्ति कर सकते हैं. कुल मिलाकर सरकारी कार्यालय की बाहरी दीवारों को पेंट किया गया है ना कि उसके भवन या किसी की निजी संपत्ति को.

भगवा रंग अधिकांशतया हिंदुत्व से जोड़ा जाता है, विशेषकर संघ परिवार से, जिसका भाजपा हिस्सा है. लाल बहादुर शास्त्री भवन एनेक्सी के आगे की दीवारों को भी भगवा रंग से रंगा गया है. यहां मुख्यमंत्री और शीर्ष अधिकारियों के दफ्तर हैं.

मार्च 2017 में पद संभालने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवा रंग को लेकर अपनी रुचि प्रदर्शित की थी क्योंकि राज्य सरकार ने सरकारी बुकलेट के कवर और जनसंपर्क विभाग एवं मंत्रालयों की ओर से जारी होने वाले सरकारी पोस्टरों को भगवा रंग दिया.

पिछले वर्ष अक्टूबर में उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की 50 बसें संकल्प सेवा के नाम से शुरू की गईं. ग्रामीण इलाकों के लिए शुरू की गई इस सेवा में उपयोग हो रही बसें भगवा रंग की हैं.

ऊर्जा मंत्रालय ने भी ऐलान किया कि अनधिकृत कॉलोनियों को दिए जाने वाले बिजली कनेक्शन भगवा रंग से रंगे खंभों के ज़रिये दिए जाएंगे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)