राजनीति

ओलावृष्टि पर मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री ने कहा, हनुमान चालीसा पढ़ने से किसानों को राहत मिलेगी

एक वीडियो में पूर्व भाजपा विधायक रमेश सक्सेना कथित तौर पर किसानों को यह सुझाव देते नज़र आए थे, जिसका मध्य प्रदेश के कृषि राज्य मंत्री बालकृष्ण पाटीदार ने समर्थन किया है.

मध्य प्रदेश के कृषिमंत्री बालकृष्ण पाटीदार. (फोटो साभार: न्यूज़ 18)

मध्य प्रदेश के कृषिमंत्री बालकृष्ण पाटीदार. (फोटो साभार: न्यूज़ 18)

भोपाल: मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक पूर्व विधायक रमेश सक्सेना ने कथित तौर पर किसानों को सलाह दी है कि वे प्राकृतिक आपदा से फसलों को बचाने के लिये हनुमान चालीसा का जाप करें.

प्रदेश मंत्रिमंडल में हाल ही में शामिल हुए नए मंत्री कृषि राज्य मंत्री बालकृष्ण पाटीदार ने भी पूर्व विधायक की इस अपील का समर्थन किया है.

प्रदेश में पिछले 24 घंटों में हुई ओलावृष्टि और बारिश के कारण फसलों को नुकसान पहुंचने की ख़बरों के बाद भाजपा नेता और सीहोर से पूर्व विधायक रमेश सक्सेना ने बीते सोमवार को एक कथित वीडियो के ज़रिये किसानों को सुझाव दिया है कि वे प्राकृतिक आपदा से अपनी फसलों के बचाव के लिये प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें.

सक्सेना का यह कथित वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया है. उन्होंने वीडियो में किसानों से अपील करते हुए कथित तौर पर कहा है, ‘मौसम विज्ञानी कह रहे हैं कि 4-5 दिन में ओलावृष्टि या बारिश के रूप में प्राकृतिक आपदा आ सकती है. इसका केवल एक समाधान है कि सामूहिक तौर पर अपने-अपने गांव में हनुमान चालीसा का पाठ किया जाए. वहीं दूसरी ओर पूर्व विधायक की इस अपील का कृषि राज्य मंत्री पाटीदार ने समर्थन किया है.

पूर्व विधायक की इस अपील पर प्रदेश के कृषि राज्य मंत्री ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मीडिया से कहा, ‘इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है. हनुमान चालीसा के पाठ से किसानों को राहत मिलेगी और उनका आत्मबल बढ़ेगा.’

बता दें कि बीते रविवार को मध्य प्रदेश के अलग अलग हिस्सों में बारिश और ओलावृष्टि की वजह से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, बारिश और ओलावृष्टि की वजह से मध्य प्रदेश के भोपाल, सीहोर, विदिशा, नरसिंहपुर, रायसेन, हरदा, होशंगाबाद, गुना और देवास ज़िलों में फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है.

रिपोर्ट के अनुसार, भोपाल, सीहोर, विदिशा और होशंगाबाद सहित कई ज़िलों में गेहूं की खड़ी फसल गिर गई है और चने की फसल भी बर्बाद हो गई है. विशेषज्ञों के अनुसार, इस मौसम में बारिश से आम की फसल को भी नुकसान पहुंचता है.

Comments