भारत

श्रीश्री रविशंकर के अयोध्या प्रवेश पर प्रतिबंध लगाए सरकार: पूर्व भाजपा सांसद

भाजपा के पूर्व सांसद और राम जन्मभूमि न्यास से जुड़े डॉ. राम विलास वेदांती ने श्रीश्री रविशंकर की आलोचना करते हुए कहा कि उन्हें राम जन्मभूमि के नाम पर व्यापार नहीं करने दिया जाएगा.

श्रीश्री रविशंकर (फोटो: फेसबुक)

श्रीश्री रविशंकर (फोटो: फेसबुक)

भाजपा के पूर्व सांसद और राम जन्मभूमि न्यास से जुड़े डॉ राम विलास वेदांती ने आर्ट ऑफ़ लिविंग के मुखिया आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर के अयोध्या में प्रवेश पर सरकार से प्रतिबंध करने की मांग की है.

दैनिक जागरण की खबर के अनुसार वेदांती का कहना है कि श्रीश्री रविशंकर का अयोध्या मामले से कोई लेना-देना नहीं है और वे बिना वजह समझौते के लिए अलग फार्मूला बना रहे हैं, जिसे राम जन्मभूमि से जुड़े लोग स्वीकार नहीं करेंगे.

वेदांती ने आगे कहा कि श्रीश्री रविशंकर का अचानक राम प्रेम किसी के गले नहीं उतर रहा है और उन्हें श्री राम जन्मभूमि के नाम पर व्यापार नहीं करने दिया जाएगा.

गोरखनाथ मंदिर के होलिकोत्सव में हिस्सा लेने पहुंचे डा. वेदांती ने दिल्ली रवाना होने से पहले श्रीश्री रविशंकर के अयोध्या मामले में हस्तक्षेप पर संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा कि वे किसी देवी-देवता को मानते नहीं है.

उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि का मसला देश के संतों, आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद और भाजपा ने प्रमुखता से उठाया है और इसके लिए बहुत सारे नेता और संत जेल भी गए हैं. जन्मभूमि आंदोलन में श्रीश्री कहीं भी पता नहीं था. अब वे हस्तक्षेप कर रहे हैं, जिसे स्वीकार नहीं किया जाएगा.

श्रीश्री पर हमला बोलते हुए वेदांती ने कहा, ‘रविशंकर आर्ट ऑफ लिविंग नाम का एनजीओ चलाते हैं और वे राम जन्मभूमि को भी एनजीओ समझ रहे हैं. उन्हें यह व्यापार नहीं करने देंगे.’

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सैयद वसीम रिजवी पर वेदांती ने कहा कि रिज़वी उस मीर बाकी के खानदान से हैं, जिन्होंने बाबरी मस्जिद बनवाई थी और जब उनका कहना है कि देश के 80 प्रतिशत मुसलमान चाहते हैं कि मंदिर वहीं बने, जहां रामलला विराजमान है तो इसको लेकर किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए. उनकी बातों पर आपत्ति करने का अधिकार किसी को नहीं है.

अयोध्या विवाद नहीं सुलझा तो सीरिया बन जाएगा भारत: श्रीश्री रविशंकर

वहीं दूसरी ओर आजतक की खबर के अनुसार श्रीश्री ने अयोध्या विवाद पर कहा है कि अगर यह विवाद नहीं सुलझा तो भारत सीरिया बन जाएगा.

श्रीश्री अयोध्या विवाद को अदालत के बाहर सुलझाने की वकालत करते रहे हैं और उन्होंने सोमवार को फिर जोर देते हुआ कहा कि मामला कोर्ट के बाहर ही सुलझाना चाहिए.

उन्होंने आगे कहा, ‘यह मामला नहीं सुलझा तो देश सीरिया बन जाएगा. अयोध्या मुस्लिमों का धार्मिक स्थल नहीं है. उन्हें इस धार्मिक स्थल पर अपना दावा छोड़ कर मिसाल पेश करनी चाहिए.’

अदालत में चले रहे मामले पर श्रीश्री कहते हैं कि अगर अदालत से फैसला अगर आया भी तो लोग स्वीकार नहीं करेंगे, क्योंकि एक पक्ष को हार स्वीकार करना पड़ेगा. हारने वाला पक्ष मान भी जाएगा, लेकिन कुछ समय बाद फिर विवाद शुरू हो जाएगा.

खुद की आलोचना पर उनका कहना है कि लोग उनके प्रयास की आलोचना इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वे विवाद को बढ़ाना चाहते हैं. मंदिर स्थल पर अस्पताल का सुझाव बेवकूफी भरा है, क्योंकि भगवान राम को दूसरे स्थान पर पैदा नहीं कराया जा सकता और इस्लाम विवादित जमीन पर इबादत करने की इजाज़त नहीं देता.

मौलाना सलमान नदवी का बचाव करते हुए श्रीश्री ने कहा कि इस प्रकरण में किसी तरह का पैसे का ऑफर नहीं दिया गया है. नदवी ने अदालत के बाहर मसला सुलझाने का समर्थन किया था, जिसके चलते पसर्नल लॉ बोर्ड ने उन्हें बोर्ड से बाहर कर दिया.

हालांकि श्रीश्री के साथ अयोध्या विवाद पर समझौते का नए फार्मूला पर सुझाव देने वाले नदवी ने अब अपना रुख बदलते हुए कहा है कि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए.

Comments