भारत

कास्टिंग काउच पर बोलीं सरोज ख़ान, फिल्म इंडस्ट्री रोटी तो देती है, रेप करके छोड़ नहीं देती

बॉलीवुड में कास्टिंग काउच के सवाल पर मशहूर कोरियोग्राफर ने दिया बयान, कहा हर क्षेत्र में होता है महिलाओं का शोषण, सिर्फ बॉलीवुड के पीछे क्यों पड़े हैं.

Saroj Khan PTI

सरोज खान (फाइल फोटो: पीटीआई)

मुंबई: लगभग तीन दशकों से बॉलीवुड की कई सफलतम फिल्मों में नृत्य निर्देशन कर चुकीं वरिष्ठ कोरियोग्राफर सरोज खान ने फिल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच पर बयान दिया है, जिस पर विवाद खड़ा हो गया है. यौन उत्पीड़न के खिलाफ शुरू हुए ‘मी टू’ अभियान के मद्देनजर सरोज खान ने महिलाओं को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि कास्टिंग काउच किसी के लिए भी कोई नई बात नहीं है.

महाराष्ट्र के सांगली में हुए एक कार्यक्रम में कास्टिंग काउच पर उन्होंने कहा, ‘ये चला आ रहा है बाबा आदम के ज़माने से. हर लड़की के ऊपर कोई न कोई हाथ साफ करने की कोशिश करता है. गवर्नमेंट के लोग भी करते हैं. तुम फिल्म इंडस्ट्री के पीछे क्यों पड़े हो? वो कम से कम रोटी तो देती है, रेप करके छोड़ तो नहीं देती.’

सरोज यहीं नहीं रुकीं. उन्होंने कहा कि ये लड़की के ऊपर निर्भर करता है कि वो अपने साथ क्या होने देना चाहती है. अगर उसके पास कला है तो वो अपने आप को क्यों बेचेगी.

सरोज ने कहा, ‘ये लड़की के ऊपर है कि तुम क्या करना चाहती हो. तुम उसके हाथ में नहीं आना चाहती हो तो नहीं आओगी. तुम्हारे पास आर्ट है तो तुम क्यों बेचोगी अपने आप को? फिल्म इंडस्ट्री को कुछ मत कहना. वो हमारा माई-बाप है.’

तेलुगू फिल्म उद्योग में कास्टिंग काउच संस्कृति के खिलाफ निर्वस्र होने वाले अभिनेत्री श्री रेड्डी पर एक पत्रकार के सवाल के जवाब में सरोज खान ने यह प्रतिक्रिया दी थी. इस बयान पर विवाद होने के बाद सरोज ने माफ़ी मांग ली है.

समाचार एजेंसी भाषा से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘मैंने पहले ही कहा है कि मैं माफी मांगती हूं लेकिन आप वह सवाल नहीं जानते जो मुझसे पूछा गया था और अब इस पर काफी हंगामा हो गया है.’

श्री रेड्डी ने सरोज के इस बयान के बाद कहा कि उनकी नजरों में सरोज की इज्ज़त खत्म हो गयी है. समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए श्री ने कहा कि बड़े होने के नाते आपको नई अभिनेत्रियों को सही रास्ता दिखाना चाहिए. यह इशारा गलत है कि आपको प्रोड्यूसर का गुलाम बनकर रहना पड़ेगा.

बॉलीवुड में काम देने के एवज में कलाकारों के यौन शोषण यानी कास्टिंग काउच को अक्सर फिल्म इंडस्ट्री के लोगों द्वारा नकारा जाता रहा है, लेकिन पिछले साल हॉलीवुड से शुरू हुई #MeToo मुहिम के बाद टिस्का चोपड़ा, रणवीर सिंह, इलियाना डीक्रूज़, ऋचा चड्ढा जैसे कई अभिनेता-अभिनेत्री खुलकर सामने आये.

ऋचा ने बीते दिसंबर में कहा था कि कि बॉलीवुड में यौन उत्पीड़न होता है इस बात को स्वीकार करना साहस की बात है लेकिन ऐसा करने वालों का नाम नहीं लिया जा सकता क्योंकि उसके बाद काम मिलने की गारंटी नहीं होती.

उन्होंने यह भी माना कि भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में इस तरह की व्यवस्था नहीं है जिससे कि पीड़ितों को सुरक्षा मिले.

जब उनसे ये पूछा गया कि वे किसी का नाम क्यों नहीं ले रहीं, तब उन्होंने साफ़ कहा कि अगर उन्हें ज़िंदगी भर काम और सुरक्षा मिले तब वे यौन उत्पीड़न करने वालों के नाम का खुलासा कर सकती हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments