भारत

कर्नाटक चुनाव: राज्यपाल से मिले येदियुरप्पा और कुमारस्वामी, पेश किया सरकार बनाने का दावा

सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के बाद भाजपा ने सरकार बनाने का दावा किया तो कांग्रेस के बिना शर्त जेडीएस को समर्थन देने की घोषणा के बाद कुमारस्वामी ने भी राज्यपाल से कहा है कि वो सरकार बनाने को तैयार हैं.

बीएस येदियुरप्पा और एडी कुमारस्वामी. (फोटो साभार: फेसबुक/ट्विटर)

बीएस येदियुरप्पा और एडी कुमारस्वामी. (फोटो साभार: फेसबुक/ट्विटर)

बेंगलुरु: कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के साथ आने के बाद भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा ने राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया. वहीं, कांग्रेस के बिना शर्त जेडीएस को समर्थन देने की घोषणा के बाद एच डी कुमारस्वामी ने भी राज्यपाल से मुलाकात की और सरकार बनाने की लिए पर्याप्त बहुमत की बात करते हुए अपना दावा पेश किया. जेडीएस-कांग्रेस ने राज्यपाल को सरकार बनाने के दावे का पत्र भी सौंप दिया है.

इससे पहले येदियुरप्पा ने कांग्रेस और जेडीएस के सरकार गठन के दावे को पिछले दरवाजे से सत्ता में आने की कोशिश करार दिया. वाला से मुलाकात के बाद केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार के साथ येदियुरप्पा ने संवाददाताओं से कहा, ‘भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है. हमने राज्यपाल से हमें राज्य विधानसभा में बहुमत साबित करने का अवसर देने का आग्रह किया है.’

जेडीएस-कांग्रेस गठजोड़ पर कोई टिप्पणी करने से अनिच्छा दिखाते हुए येदियुरप्पा ने कहा, ‘… हमने सरकार बनाने का दावा पेश किया है. हमने कहा है कि हमें अवसर दीजिए, हम विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे.’ येदियुरप्पा के साथ भाजपा नेता अनंत कुमार, राजीव चंद्रशेखर और शोभा करंदलाजे ने भी राज्यपाल से मुलाकात की थी.

वहीं, दूसरी ओर इससे पहले जेडीएस नेता एच डी कुमारस्वामी ने कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला को पत्र लिखकर सूचित किया है कि उन्होंने सरकार के गठन के लिए कांग्रेस के समर्थन की पेशकश को स्वीकार कर लिया है.

बाद में राज्यपाल से मुलाकात के बाद कुमारस्वामी ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल से कहा है कि वो सरकार बनाने को तैयार हैं. वहीं, कांग्रेस ने कहा कि उसने बिना शर्त जेडीएस का समर्थन किया है और उनके पास सरकार बनाने का बहुमत है.

जेडीएस-कांग्रेस के नेताओं ने साथ में राज्यपाल से मुलाकात की है. कुमारस्वामी के साथ राज्यपाल से मिलने कांग्रेस नेता सिद्धारमैया, गुलाम नबी आजाद और मल्लिकार्जुन खड़गे भी गए थे.

गौरतलब है कि भाजपा के बहुमत के आंकड़े से थोड़ा पीछे रह जाने के कारण कांग्रेस ने नाटकीय घटनाक्रम में जेडीएस को सरकार बनाने के लिए समर्थन देने का ऐलान किया. इससे पूर्व येदियुरप्पा ने कांग्रेस पर कर्नाटक के जनादेश को पलटने तथा जेडीएस को सरकार गठन के लिए समर्थन की पेशकश कर पिछले दरवाजे से सत्ता में लौटने की कोशिश करने का आरोप लगाया.

येदियुरप्पा ने कहा कि राज्य की जनता ने सिद्धारमैया सरकार को पूरी तरह खारिज कर दिया है और बदलाव के लिए जनादेश दिया है. पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा की अगुवाई वाले जेडीएस को समर्थन देने की कांग्रेस की पेशकश के शीघ्र बाद प्रदेश में भाजपा नेता ने कहा, ‘जनता ने कांग्रेस मुक्त कर्नाटक का जनादेश दिया था.’

उन्होंने कहा कि सिद्धारमैया सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर थी और मुख्यमंत्री को चामुंडेश्वरी में अपने गृह निर्वाचन क्षेत्र में करारी हार का मुंह देखना पड़ा. येदियुरप्पा ने कहा कि भाजपा कांग्रेस द्वारा अपनायी जा रही ‘कुटिल उपायों’ की निंदा करती है.

Categories: भारत, राजनीति, विशेष

Tagged as: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Comments