भारत

मध्य प्रदेश: भाजपा नेता बोले- किसान सबसे बेईमान और चोर जात है, उनको जूते मारो

भाजपा किसान मोर्चा के ज़िला मंत्री हाकम सिंंह आंजना को एक वीडियो में किसानों के लिए बेहद आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करते देखा जा सकता है. वीडियो सामने आने के बाद उन्हें पार्टी से निष्काषित कर दिया गया है.

हाकम सिंह आंजना (फोटो साभार: फेसबुक/हाकम सिंह आंजना)

हाकम सिंह आंजना (फोटो साभार: फेसबुक/हाकम सिंह आंजना)

उज्जैन: मध्य प्रदेश में किसान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं और प्रदेश में 1 जून से 10 जून के बीच सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन की घोषणा की है.

शिवराज सरकार इस आंदोलन को विफल बनाने और किसानों को मनाने के लिए पुरजोर कोशिश कर रही है. जिला, गांव और तहसील स्तर पर अपने नेताओं और कार्यकर्ताओं की फौज किसानों के रोष को ठंडा करने के लिए छोड़ रखी है.

लेकिन दूसरी और भाजपा के ही नेता किसानों के खिलाफ अपमानजनक बयानबाजी करते देखे जा रहे हैं, वे किसानों को बेईमान बता रहे हैं, उन्हें जूते से पीटने की बात कर रहे हैं, चोर और हरामी जैसे शब्दों का उनके लिए प्रयोग कर रहे हैं.

एक वायरल वीडियो में उज्जैन से भाजपा नेता और किसान मोर्चा जिला ग्रामीण के मंत्री हाकम सिंह आंजना को कुछ ऐसा ही कहते देखा जा सकता है.

वे कहते नजर आ रहे हैं कि किसान एक बेईमान जात है. किसान जात चोर और बदमाश है. किसान हरामी है और उसे जूते मारना चाहिए.

वायरल वीडियो में घटनाक्रम कुछ यूं है कि हाकम सिंह आंजना से एक सवाल पूछा गया था. सवाल था, ‘शिवराज सरकार किसानों के लिए इतनी कुछ सुविधा कर रही है, इतना कुछ दे रही है, इसके बाद भी किसान मध्य प्रदेश की सरकार से नाराज क्यों है?’

जवाब में आंजना ने कहा, ‘आज के हालात में किसान सबसे बेईमान जात हो गई है. किसान इतने बेईमान हैं जितना कोई नहीं. शिवराज सिंह चौहान किसानों के लिए वो कर रहा है जो आज तक न किसी मुख्यमंत्री ने किया, न सरकार ने किया, न कोई करेंगे. वे लहसुन में 800 रुपये प्रति क्विंटल दे रहे हैं, लेकिन किसान चोरी कर रहे हैं. जिसने लहसुन नहीं बोई थी, वो भी पंजीयन करवा के बैठा है.'

वे आगे कहते हैं, ‘चने 3500 और 3200 रुपये क्विंटल भी नहीं जाते, उसे 4500 रुपये में खरीद रहे हैं. पर किसान जात चोर है. साले बदमाश हैं किसान. किसानों को जूते मारना चाहिए. जूते खाने लायक हैं ये किसान लोग. ये किसान कभी नहीं सुधरेंगे. किसान को बहुत हराम का चाहिए, हरामी है किसान. किसानों को जूते मारो.’

वे अपने जवाब में आगे 1 जून से होने वाले किसान आंदोलन पर निशाना साधते हुए हंसते हुए कहते हैं, ‘और एक तारीख, एक तारीख… क्या कर लोगे एक तारीख को आप.  हम सब शिवराज सिंह चौहान के साथ हैं.’

अंत में वे कहते नजर आ रहे हैं, ‘हम भी किसान हैं, मैं एक किसान हूं और मैं शिवराज सिंह चौहान से पूरी तरह संतुष्ट हूं. आज तक भावांतर योजना किसी ने चालू नहीं की थी. ये शिवराज सिंह चौहान ने की.’

दैनिक भास्कर की एक खबर के मुताबिक,  हाकम सिंंह को भाजपा ने पार्टी से निकाल दिया है. शनिवार को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने हाकम सिंह को पार्टी से निष्काषित करने का पत्र जारी कर दिया.

Comments