राजनीति

उत्तर प्रदेश: महिला ने भाजपा विधायक पर लगाया बलात्कार का आरोप, मामला दर्ज

बदायूं के बिसौली से भाजपा विधायक कुशाग्र सागर पर महिला ने शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोप लगाया है. विधायक का कहना है कि सभी आरोप निराधार हैं और इसके पीछे राजनीतिक साज़िश है.

(फोटो साभार: कुशाग्र सागर/फेसबुक पेज)

(फोटो साभार: कुशाग्र सागर/फेसबुक पेज)

बरेली: पुलिस ने बुधवार को बताया कि पीड़ित युवती ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (बरेली) को लिखित शिकायत दी है. उसने धमकी दी है कि अगर उसे इंसाफ़ नहीं मिला तो वह जान दे देगी.

पीड़िता का कहना है कि बिसौली विधानसभा सीट से पूर्व विधायक योगेंद्र सागर का बेटा कुशाग्र इस समय बिसौली से ही विधायक है. महिला का आरोप है कि कुशाग्र ने शादी का झांसा देकर उसके साथ दो साल तक लगातार दुष्कर्म किया.

बरेली के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि प्रकरण की जांच क्षेत्राधिकारी नीति द्विवेदी को सौंपी गई है और रिपोर्ट आते ही कार्रवाई की जाएगी.

उल्लेखनीय है कि उन्नाव बलात्कार प्रकरण में आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर फिलहाल जेल में हैं.

पीड़िता ने अपनी शिकायत में कहा कि उनकी मां पूर्व विधायक योगेंद्र सागर के बरेली में थाना बारादरी के ग्रीन पार्क स्थित घर पर काम करती थी. कभी-कभी मां के साथ पीड़िता भी विधायक के घर पर चली जाती थी. उस समय पीड़िता और कुशाग्र में प्रेम प्रसंग हो गया.

पीड़िता ने बताया कि कुशाग्र ने शादी का झांसा देकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाये और दो साल तक उसका यौन शोषण करता रहा. दो साल बीतने पर जब पीड़िता ने शादी करने को कहा तो कुशाग्र ने मना कर दिया.

पीड़िता ने 2014 में तत्कालीन एसएसपी से मामले की शिकायत की थी. पीड़िता ने बताया कि उस समय कुशाग्र के पिता ने पीड़िता से कुशाग्र के बालिग होने पर शादी करने का वायदा किया था, जिस पर वह मान गई.

पीड़िता के अनुसार, अब कुशाग्र बिसौली से विधायक हैं और जब उसे (पीड़िता) पता लगा कि कुशाग्र की शादी कहीं और हो रही है तो उसने एसएसपी से शिकायत की. युवती ने इंसाफ़ नहीं मिलने पर आत्महत्या करने की धमकी दी है.

टाइम्स ऑफ इंडिया से बीतचीत में पीड़िता ने बताया, ‘जब से कुशाग्र सागर विधायक बने हैं तब से मेरा जीवन ख़राब हो गया है. हम बहुत गरीब परिवार से हैं, हमारे पिता बेरोज़गार हैं इसलिए मेरी मां ग्रीन पार्क के आस-पास की जगह में लोगों के घरों में घरेलू काम करती हैं, कई बार मुझे भी अपने साथ सहायता के लिए ले जाती थीं.’

पीड़िता ने कहा, ‘साल 2012 में जब मैं 16 साल की थी मैं अपनी मां के साथ आरोपी विधायक कुशाग्र सागर के घर जाया करती थी. मैं उससे संपर्क में आई और हमारे बीच बातचीत होने लगी सागर ने मुझसे शादी करने का वादा भी किया था लेकिन उसने मेरा फ़ायदा उठाया और साल 2012 से 2014 के बीच में मेरे साथ कई बार बलात्कार किया. मैं यह सब इसलिए सहन कर रही थी क्योंकि मुझे उम्मीद थी कि एक दिन वह मुझसे शादी करेगा पर अब वह मुझे धमका रहा है कि अगर मैंने पुलिस के पास गई तो वह मेरे परिवार की हत्या कर देगा.’

डीएनए की ख़बर के अनुसार, ‘पीड़िता का आरोप है कि बाद में इस मामले को रफ़ा-दफ़ा करने के लिए विधायक की ओर से 20 लाख रुपये की रक़म पेश की गई थी.’

इस संबंध में विधायक कुशाग्र सागर का कहना है कि यह लड़की के परिवार की साज़िश है और लड़की द्वारा लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं. लड़की हमारे घर काम करती थी, तभी उसके परिजनों ने आरोप लगाए थे. उस दौरान पुलिस जांच में पूरा मामला फ़र्ज़ी पाया गया था. ख़ुद को फंसता देख लड़की के परिजनों ने लिखित माफ़ी मांगी और कहा कि भूलवश ऐसे आरोप लगाए थे.

कुशाग्र ने दावा किया कि लड़की के परिवार का लिखित कबूलनामा और पुलिस जांच की रिपोर्ट हमारे पास है.

विधायक के पिता पूर्व विधायक योगेंद्र सागर ने सभी आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि इसी तरह के आरोप लड़की ने 2014 में भी लगाए थे लेकिन पुलिस जांच में आरोप झूठे पाये गये. लड़की ने स्वयं शपथपत्र देकर ग़लतफ़हमी के चलते आरोप लगाने की बात स्वीकार की थी.

टाइम्स आॅफ इंडिया से बातचीत में विधायक कुशाग्र सागर ने कहा, ‘पहले लोगों ने मेरे पिता का करिअर ख़त्म किया अब मेरा करना चाह रहे हैं. यह महिला साल 2014 में भी पुलिस के पास गई थी और मुझसे 10 लाख रुपये लेकर समझौते के लिए मान गई थी. मेरे पास समझौते की लिखित कॉपी भी है, अब अचानक से जब मेरी शादी अगले महीने होने वाली है तो यह फिर से इस मामले को उछाल रही है, मैं इन सभी आरोपों का सामना करूंगा और नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार हूं. इसकी जांच होने के बाद सच सबके सामने आ जाएगा.

टाइम्स आॅफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कुशाग्र सागर के पिता और पूर्व विधायक योगेंद्र सागर भी बलात्कार और हत्या के आरोप में जेल जा चुके हैं. साल 2008 में उन पर एक महिला का बलात्कार करने का आरोप था. उस मामले की सुनवाई के दौरान सरकार की वकील साधना शर्मा की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी. इसके बाद साल 2016 में योगेंद्र सागर पर हत्या के भी आरोप लगे थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments