भारत

पश्चिम बंगाल: दलित भाजपा कार्यकर्ता की हत्या, पार्टी ने टीएमसी पर लगाया हत्या का आरोप

पेड़ पर लटका मिला युवक का शव, पास में कागज़ पर लिखा मिला कि इतनी कम उम्र में भाजपा के लिए काम करने का यही हश्र होगा.

फोटो: पीटीआई

फोटो: पीटीआई

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव खत्म हो जाने के बाद भी राज्य में अब तक हिंसा जारी है. पुरुलिया जिले में एक दलित भाजपा कार्यकर्ता की हत्या का मामला सामने आया है. बीए में पढ़ने वाला 18 वर्षीय त्रिलोचन महतो का शव बुधवार को उनके घर से 200 मीटर की दूरी पर एक पेड़ से लटका मिला.

इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक त्रिलोचन की टी-शर्ट पर लिखा मिला कि ‘तुम इतने कम उम्र में भाजपा के लिए काम कर रहे थे, भाजपा के लिए काम करने का यही हश्र होगा.’

त्रिलोचन बलरामपुर ब्लॉक की भाजपा नेता पानो महतो का बेटा था. यह ब्लॉक तृणमूल कांग्रेस का मजबूत क्षेत्र माना जाता था, लेकिन हाल ही में हुए पंचायत चुनाव में बलरामपुर ब्लॉक की सभी सातों सीट पर भाजपा ने कब्ज़ा कर लिया.

त्रिलोचन के शव के पास एक पत्र भी मिला है, जिसमें बांग्ला में लिखा है, ‘तुम इस उम्र में भाजपा के लिए काम कर रहे हो. हम चुनाव (पंचायत) के समय से ही तुम्हें मारने की कोशिश कर रहे थे और आज हमने तुम्हें मार दिया.
शव के पास मिला लेटर (फोटो: फेसबुक)

शव के पास मिला पत्र (फोटो: फेसबुक)

त्रिलोचन की मां और भाजपा नेता पानो महतो ने बताया कि उनका बेटा मंगलवार को बाज़ार जाने के लिए घर से निकला था. करीब आठ बजे उनके नंबर पर कॉल करने पर उसकी चीखें सुनाई दीं, जिसके बाद परिवार ने इस बारे में गांव वालों को बताया और जंगलों में त्रिलोचन को ढूंढा, लेकिन उनका पता नहीं चला.

बुधवार सुबह जब कुछ किसान खेतों में काम करने गए, तब एक पेड़ पर उनका शव पेड़ से लटका हुआ मिला.

भाजपा ने इस हत्या के लिए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को जिम्मेदार बताया है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार भाजपा जिला अध्यक्ष विद्यासागर चक्रवर्ती ने कहा, ‘राजनीति में टीएमसी से ज्यादा ख़राब कोई नहीं हो सकता है. हम इससे लड़ेंगे. महतो भाजपा के यूथ विंग के सदस्य थे और पंचायत चुनाव के समय उन्होंने सक्रिय रूप से काम कर रहे थे.’

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘महीने भर के भीतर सत्तारूढ़ टीएमसी द्वारा की गयी यह 18वीं हत्या है. हमारे कार्यकर्ताओं को भाजपा का सदस्य होने की वजह से मारा जा रहा है. अब उन्होंने एक नाबालिग को मार दिया. और टीएमसी इसे लोकतंत्र कहती है.’

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी इस हत्या पर दुःख जताते हुए ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने तृणमूल पर हिंसा की राजनीति करने का आरोप लगाया है.

हालांकि टीएमसी ने इन आरोपों से इनकार किया है. उनका कहना है कि महतो की हत्या पार्टी की अंदरूनी राजनीति के चलते हुई है. बलरामपुर से तृणमूल विधायक शांतिराम महतो ने कहा, ‘पंचायत चुनाव के बाद से ही उनकी पार्टी (भाजपा) में बहुत समूहवाद चल रहा है. असुरक्षा के चलते वे हमें दोषी ठहरा रहे हैं. हम चाहते हैं कि सीआईडी इस मामले की उचित जांच करे.’

पुलिस को दर्ज करवाई शिकायत में त्रिलोचन के पिता हरिराम महतो ने 6 लोगों का नाम लिखवाया है और कहा है कि वे सभी टीएमसी से जुड़े हैं. उन्होंने यह भी बताया कि त्रिलोचन को पहले जान से मरने की धमकियां मिल चुकी हैं. उनकी शिकायत पर पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है.

पुरुलिया के एसपी जॉय बिस्वास ने बताया, ‘त्रिलोचन के शरीर पर किसी बाहरी चोट के निशान नहीं है. बस टी-शर्ट पर संदेश लिखा था और शव के बगल में एक संदेश लिखा मिला है. हम जांच कर रहे हैं.’

Comments