भारत

पेट्रोल और डीज़ल के बाद रसोई गैस, केरोसिन और विमान ईंधन हुए महंगे

बिना सब्सिडी वाला सिलेंडर 48.50 रुपये बढ़ा, वहीं सब्सिडी वाले सिलेंडर के दामों में दो रुपये की बढ़ोतरी की गई है. कांग्रेस ने कहा कि जनता का बजट बिगाड़ रहा है मोदी जी का लालच.

Kolkata: Congress activists stage a demonstration in front of Indian Oil Bhavan against the fuel price hike, in Kolkata on Friday, June 01, 2018. (PTI Photo)(PTI6_1_2018_000062B)

पेट्रोल-डीज़ल के बाद रसोई गैस के दामों में बढ़ोतरी के विरोध में कोलकाता में शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल की कीमत में लगातार बढ़ोतरी के बीच तेल कंपनियों ने शुक्रवार को सब्सिडी वाली रसोई गैस के दाम दो रुपये प्रति सिलेंडर बढ़ा दिए, जबकि विमान ईंधन यानी एटीएफ (एविएशन टरबाइन फ्यूल) की कीमत में सात प्रतिशत की वृद्धि की गई. इस बढ़ोतरी के बाद विमान ईंधन चार वर्ष के उच्च स्तर पर पहुंच गया.

दिल्ली में सब्सिडी वाला रसोई गैस सिलेंडर (14.2 किलोग्राम) 491.21 रुपये से बढ़कर 493.55 रुपये प्रति सिलेंडर हो गया. मुंबई में रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 491.31 रुपये और कोलकाता में 496.65 रुपये प्रति सिलेंडर हो गई.

प्रत्येक परिवार सालभर में सब्सिडी वाले 12 सिलेंडर लेने का हकदार है. इससे अधिक खपत होने पर उसे बाजार मूल्य पर सिलेंडर उपलब्ध कराया जाता है.

वहीं, बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर 48.50 रुपये बढ़कर 698.50 रुपये प्रति सिलेंडर पर पहुंच गया. जनवरी के बाद लगातार गिरावट के बाद अब यह बढ़ोतरी हुई है.

मई में बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमत 650 रुपये थी पर अब 1 जून से इसकी कीमत सीधा 48 रुपये बढ़कर 698 रुपये हो गई है. इस तरह सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमत 491.21 रुपये थी जो कि अब 493.54 रुपये में मिलेगी.

नई दरों के हिसाब से दिल्ली में रहने वालों को सब्सिडी वाले एलपीजी गैस सिलेंडर के लिए 493.55 रुपये चुकाने होंगे. वहीं बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर के लिए 698.50 रुपये खर्च करने पड़ेंगे.

1 जून से प्रभावी दरों के हिसाब से बिना सब्स‍िडी वाले सिलेंडर दिल्ली में 698.5, कोलकाता में 623.5, मुंबई 671.5 और चेन्नई में 712.5 रुपये में उपलब्ध होंगे.

इस साल फरवरी महीने के बाद से रसोई गैस के दामों में यह सबसे बड़ी बढ़ोतरी है.

दूसरी ओर, मिट्टी के तेल (केरोसिन) के कीमत में 26 पैसे की वृद्धि की गई. यह वृद्धि मिट्टी के तेल पर धीरे-धीरे सब्सिडी ख़त्म किए जाने के आधार पर की गई है. दिल्ली को मिट्टी तेल मुक्त घोषित किया गया है जबकि मुंबई में इसके दाम 24.77 रुपये से बढ़कर 25.03 रुपये प्रति लीटर हो गए.

वहीं सरकारी तेल कंपनियों के मुताबिक, दिल्ली में एटीएफ के दाम 4,688 रुपये यानी 7.17 प्रतिशत बढ़कर 70,028 रुपये प्रति किलोलीटर हो गए.

विमान ईंधन में यह दूसरी सीधी वृद्धि की गई है. इससे पहले एक मई को एटीएफ की कीमत 3,890 रुपये प्रति किलोलीटर यानी 6.3 प्रतिशत बढ़ाकर 61,450 रुपये प्रति किलोलीटर की गई थी. दोनों वृद्धि की वजह से एटीएफ के दाम 2014 के बाद से सबसे अधिक हो गए.

सरकारी खुदरा तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय दरों और रुपया-डॉलर विनिमय दर के आधार पर हर महीने की एक तारीख़ को विमान ईंधन, रसोई गैस और मिट्टी के तेल की दरों में संशोधन करती हैं.

जनता का बजट बिगाड़ रहा है ‘मोदी जी का लालच’: कांग्रेस

कांग्रेस ने रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर शुक्रवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और दावा किया कि ईंधन के दाम बार-बार बढ़ाए जाने की वजह से जनता का बजट बिगड़ गया है.

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘ईंधन की कीमतों में फिर बढ़ोतरी. इस बार रसोईं गैस का दाम बढ़ा दिया गया. मोदी सरकार ने सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत में 2.34 रुपये और बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर में 48 रुपये की बढ़ोतरी कर दी. इससे देश के 19.8 करोड़ लोग परेशान होंगे.’

उन्होंने दावा किया, ‘मोदी जी के लालच ने जनता का बजट बिगाड़ दिया है. अब इनको जाने में सिर्फ एक साल बचा है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments