भारत

किसान आंदोलन: राहुल ने कहा, मध्य प्रदेश में सरकार आई तो 10 दिन में क़र्ज़ माफ़

मंदसौर गोलीकांड की पहली बरसी पर आयोजित ‘किसान समृद्धि संकल्प’ रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘पूरे देश में आज किसान अपना हक़ मांग रहा है, आत्महत्या कर रहा है.’

rahul twitter

पिछली साल पुलिस फायरिंग में मारे गये किसानों के परिजनों से मंदसौैर में बुधवार को मुलाकात करते कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. (फोटो साभार: ट्विटर/कांग्रेस)

मंदसौर: भाजपा नीत केंद्र एवं राज्यों की सरकारों पर उद्योगपतियों की समर्थक एवं किसान विरोधी होने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को दावा किया कि मध्य प्रदेश में जिस दिन कांग्रेस की सरकार आएगी, उसके 10 दिन के अंदर प्रदेश के किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि इसके अलावा प्रदेश के पिपलिया मंडी में पिछले वर्ष छह जून को किसान आंदोलन के दौरान पुलिस गोलीबारी में छह किसानों के मारे जाने के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ भी कांग्रेस की सरकार आने पर 10 दिन के अंदर कार्रवाई की जाएगी.

गौरतलब है कि इस साल नवंबर में मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं और पिछले 15 साल से प्रदेश में भाजपा सत्ता में है. मंदसौर की पिपलिया मंडी में ‘किसान समृद्धि संकल्प रैली’ को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, ‘कमलनाथ जी, सिंधिया जी एवं कांग्रेस पार्टी के नेता यहां पर बैठे हैं. मैं मंच से मंदसौर के परिवारों को और हिंदुस्तान के किसानों को आश्वासन देना चाहता हूं. जिस दिन मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आएगी, उसके बाद आप 10 दिन गिनना. और 10 दिन के अंदर गारंटी के साथ कह रहा हूं कि आपका कर्जा माफ हो जाएगा. 11 दिन नहीं लगेंगे.’

उन्होंने यह भी कहा, ‘यहां जो किसानों के परिवार आये हैं, मैं आपको कहना चाहता हूं जैसे ही यहां कांग्रेस पार्टी की सरकार आयेगी, 10 दिन के अंदर आपको न्याय मिलेगा और जिन लोगों ने आप पर गोली चलाई है, उनके खिलाफ हम कार्रवाई करके दिखाएंगे.’

राहुल ने कहा कि इससे पहले भी कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार देश के किसानों का 70,000 करोड़ रुपये माफ कर चुकी है. राहुल ने कहा कि जब संप्रग सरकार थी तो किसान हमारे पास आये थे और हमने 10 दिन के अंदर 70,000 करोड़ रुपये का किसानों का कर्जा माफ कर दिया था.

राहुल ने कहा कि पूरे देश के किसान आज अपना हक मांग रहे हैं. किसान आत्महत्या कर रहे हैं. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं अन्य राज्यों की भाजपा सरकारों के दिल में हिंदुस्तान के किसानों के लिए थोड़ी भी जगह नहीं है.

केंद्र सरकार पर हमला करते हुए राहुल ने कहा, ‘ढाई लाख करोड़ रुपया हिंदुस्तान के 15 सबसे बड़े उद्योगपतियों का माफ किया जा सकता है, मगर हिंदुस्तान के करोड़ों किसानों का एक रुपया भी माफ नहीं किया जा सकता है.’

राहुल ने कहा कि अगर वे (भाजपा सरकारें) हिंदुस्तान के किसानों एवं उनके परिवारों की रक्षा नहीं कर सकते तो ऐसी सरकारों का कोई मतलब नहीं है.

मोदी पर किसानों एवं युवाओं को धोखा देने का आरोप लगाते हुए राहुल ने कहा, ‘मोदी ने कहा था कि वह दो करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे और 15 लाख रुपये आपके बैंक खाते में डालेंगे. क्या किसी युवा को मोदी ने पांच रुपये दिए. क्या कोई कह सकता है कि मोदी ने मुझे रोजगार दिया.’

कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जनता के बीच जाने का अनुरोध करते हुए उन्होंने कहा कि शहरों, घरों, गांवों, मोहल्लों एवं गली-गली में जाएं, ताकि कांग्रेस को मजबूत किया जा सके और प्रदेश में सत्ता में वापस आ सकें. राहुल ने कहा कि कांग्रेस की पहली प्राथमिकता हिंदुस्तान की जनता है, जबकि दूसरी कांग्रेस कार्यकर्ता और तीसरे पर कांग्रेस नेता हैं.

इससे पहले राहुल उन किसानों के परिजनों से मिले, जिनकी पिछले साल पुलिस गोलीबारी में मंदसौर में मौत हो गई थी. उन्होंने उनके परिजन को सांत्वना भी दी.

राहुल पर भाजपा का कटाक्ष, ‘आलू से सोना निकालना नहीं है किसानों की कर्ज माफी’

मध्य प्रदेश में अगले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिन के भीतर किसानों की कर्ज माफी करने की पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की ताजा घोषणा पर भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कटाक्ष किया है.

विजयवर्गीय ने संवाददाताओं से कहा, ‘राहुल जी, कर्ज माफी का कदम आपकी उस मशीन की तरह नहीं है जिसमें एक तरफ से आलू डालने पर दूसरी तरफ से सोना निकलता है. कांग्रेस अध्यक्ष अपनी इसी मशीन की तर्ज पर किसानों को कर्ज माफी का नया जुमला देकर गए हैं.’

उन्होंने कहा, ‘केंद्र और मध्य प्रदेश की भाजपा सरकारों से किसान खुश हैं. इसलिए राज्य में इस साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनावों में न तो कांग्रेस की सरकार आयेगी, न ही वह किसानों का कर्ज माफ कर सकेगी.’

विजयवर्गीय ने दावा किया कि पंजाब और कर्नाटक में सभी किसानों का कर्ज माफ नहीं किया गया है, जहां कांग्रेस सत्ताधारी दल के रूप में है.

भाजपा महासचिव ने कहा कि राहुल को मंदसौर के बजाय बैतूल जिले के मुल्ताई जाना चाहिये था, जहां दिग्विजय सिंह की अगुवाई वाले कांग्रेस शासनकाल में वर्ष 1998 में पुलिस गोलीबारी में 24 किसानों की मौत हो गयी थी.

विजयवर्गीय ने कहा, ‘मुल्ताई गोली कांड में किसानों की मौत पर राहुल ने घड़ियाली आंसू क्यों नहीं बहाए. जब कांग्रेस के शासन में किसानों को गोली लगती है, तो उनकी आंखों में आंसू क्यों नहीं आते हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Categories: भारत, विशेष

Tagged as: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Comments