भारत

महाराष्ट्र में कुएं में नहाने के चलते तीन नाबालिग दलितों को पीटा और निर्वस्त्र घुमाया

गुजरात के मेहसाणा ज़िले में भी मोजड़ी पहनने के चलते राजपूत समुदाय के लोगों ने एक दलित नाबालिग की पिटाई कर दी.

जलगांव (फोटो: गूगल मैप)

जलगांव: महाराष्ट्र के जलगांव जिले में तीन नाबालिग दलित बच्चों को गांव के कुएं में नहाने के चलते निर्वस्त्र करके घुमाया गया और पीटा गया. दरअसल मामला जलगांव जिले के वाकड़ी गांव में 10 जून रविवार को हुआ था. सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद मामला सामने आया.

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के अनुसार, महाराष्ट्र के सामाजिक न्याय मंत्री दिलीप कांबले का कहना है कि मामले से जुड़े दो लोगों को गिरफ़्तार किया गया है और मामले की जांच चल रही है.

नाबालिगों की उम्र 12 से 14 वर्ष बताई जा रही है.

तीनों नाबालिग दलित बच्चे गर्मी के चलते गांव के कुएं में नहा रहे थे. पुलिस ने बताया कि गांव वाले इससे नाराज़ हो गए और बच्चों को कुएं से बाहर निकालकर निर्वस्त्र कर पीटा और उनकी परेड कराई. आरोप है कि बच्चों को चमड़े के बेल्ट से पीटा गया है. बच्चों के परिजनों ने पुलिस में इसकी शिकायत की है.

वडगाम से विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने मामले से संबंधित वीडियो ट्वीट किया और कहा कि उना के बाद अब महाराष्ट्र में दलित बच्चों को गैर-दलितों के कुएं में कूदने के चलते पीटा गया. अगर उना के दलितों को न्याय मिलता तो ऐसा नहीं होता.

राजस्व राज्यमंत्री चंद्रकांत पाटिल ने मामले में एससी/एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई का आश्वासन देते हुए कहा है कि इस तरह की घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक चह्वाड़ ने घटना की निंदा करते हुए कहा, ‘भाजपा के सत्ता में आने के बाद से दलितों के खिलाफ अत्याचार बढ़ गया है. राज्यों में दलितों के खिलाफ हमलों के कई उदाहरण सामने आए हैं. सरकार उन लोगों के खिलाफ ठोस कदम नहीं उठा रही है.’

‘मोजड़ी’ पहनने को लेकर दलित किशोर को पीटा

वहीं, गुजरात में ‘मोजड़ी’ पहनने को लेकर चार राजपूत युवकों ने 13 वर्षीय एक दलित किशोर की कथित रूप से पिटाई कर दी.

गुजरात के मेहसाणा जिले के बहुचाराजी कस्बे में गुरुवार हुई इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद घटना सामने आई है.

बहुचाराजी के थाना प्रभारी आरआर सोलंकी ने बताया कि नाबालिग की ओर से मिली शिकायत के आधार पर चार लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है.

सोलंकी ने बताया कि आरोप है कि भरत सिंह दरबार सहित चार राजपूत युवकों ने मोजड़ी पहनने को लेकर पीड़ित की पिटाई की. उन सभी के खिलाफ संबंधित धाराओं में मामला दर्ज कर लिया गया है.

अहमदाबाद जिला निवासी नाबालिग ने अपनी शिकायत में कहा है कि जब वह बस स्टॉप पर बैठा हुआ था तो कुछ युवक आए और उससे जाति पूछी. जब उसने बताया कि वह दलित है तो उन्होंने पूछा कि दलित होने के बावजूद उसने मोजड़ी कैसे पहनी हुई है. जब किशोर ने खुद को राजपूत बताकर अपना बचाव करना चाहा तो युवक उसे एक जगह ले गए और उसकी पिटाई की.

चारों आरोपियों में से एक ने कथित तौर पर घटना का वीडियो भी बनाया.

(समाचार एजेंसी भाषा इनपुट के साथ)