भारत

उत्तर प्रदेश के हापुड़ में गोहत्या की शंका में एक व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या

हापुड़ के मदापुर गांव निवासी समीउद्दीन के खेत पर गाय एवं बछिया बंधी देख ग्रामीणों को गोवध करने का शक हुआ. उन्होंने समीउद्दीन और उनके साथी कासिम पर हमला कर दिया जिसमें कासिम की मौत हो गई. पुलिस ने दो लोगों को गिरफ़्तार किया.

hapur

उत्तर प्रदेश: हापुड़ जिले के पिलखुवा में सोमवार दोपहर भीड़ ने दो लोगों पर इसलिए हमला कर दिया क्योंकि उन्हें शक था कि वे अपने साथ गाय और बछिया को हत्या करने के मकसद से ले जा रहे हैं. भीड़ द्वारा बेरहमी से पीटे गए दोनों व्यक्तियों में से एक की मौत हो गई है.

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘भीड़ ने तीन गाय और एक बछिया ले जा रहे दो लोगों की बेरहमी से पिटाई की जिसके चलते एक की अस्पताल में मौत हो गई.’

हापुड़ के गांव बझेढ़ा खुर्द के ग्रामीणों को चारा काटने वाली महिलाओं ने सोमवार दोपहर सूचना दी कि चार लोग गोकशी के लिए गोवंश ले जा रहे हैं. भीड़ को देख दो लोग फायरिंग करते हुए भाग गए लेकिन दो को ग्रामीणों ने दबोच लिया. घायल को हापुड़ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक, भीड़ द्वारा पीटे जाने के बाद दोनों युवकों को पुलिस द्वारा एक निजी अस्पताल पहुंचाया गया. जहां दोनों में से एक सद्दीकपुरा निवासी कासिम की मौत हो गई. मदापुर निवासी समीउद्दीन गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं.

पुलिस का कहना है कि हत्या की धारा में रिपोर्ट दर्ज की गई है. साथ ही आरोपियों को पकड़ने के लिए एक टीम गठित की गई है. मदापुर एवं बझेढ़ा खुर्द गांव में पुलिस बल तैनात है.

वहीं, मारपीट के बाद दोनों समुदायों के बीच पत्थरबाजी भी हुई. जिसके चलते तनाव से निपटने के लिए पुलिस ने दोनों गांवों में पुलिस बल लगा दिया है.

वहीं, रिपोर्ट के मुताबिक मदापुर गांव के रहने वाले समीउद्दीन के बझेढ़ा खुर्द गांव से खेत सटे हैं. सोमवार दोपहर उसके खेत में दो गाय एवं बछिया बंधी देख ग्रामीणों को गोवध किए जाने की तैयारी का शक हुआ.

अफवाह फैलते ही वहां बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्र हो गए. लोगों का कहना है कि मौके पर चार लोग मौजूद थे.

मारपीट की सूचना पर दूसरे समुदाय के लोग भी पहुंच गए और पथराव शुरू हो गया.

हालांकि लाइव हिंदुस्तान के मुताबिक, पुलिस इसे बाइक की टक्कर लगने के बाद हुई मारपीट की घटना बता रही है.

वहीं, समीउद्दीन के भाई यासीन ने 30-35 अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है.

उनका कहना है कि उनके बड़े भाई समीउद्दीन अपने दोस्त कासिम के साथ बाइक से गांव आ रहे थे. रास्ते में ही उन्हें 30-35 लोगों ने घेर कर उनके साथ बेरहमी से मारपीट की.

पिलखुवा डीएसपी पवन कुमार ने बताया कि मोटरसाइकिल की टक्कर के चलते दो पक्षों में विवाद हो गया था, जिसके चलते आरोपियों ने मोटरसाइकिल सवार दो लोगों की पिटाई कर दी थी. इस मामले में 25 लोगों को नामजद किया गया है. दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच जारी है.

उन्होंने बताया कि गौकशी की अफवाह गलत थी. यह माहौल बिगाड़ने की साज़िश थी, जिसे पुलिस ने नाकाम कर दिया. मामले की जांच की जा रही है.

मालूम हो कि हाल ही में असम के कार्बी आंगलांग ज़िले में दो लोगों की बच्चा चोर समझ कर लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी. इसी तरह झारखंड के गोड्डा ज़िले में मवेशी चोर समझकर भीड़ ने दो लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी.

पश्चिम बंगाल के मालदा ज़िले में भी बच्चा चोर समझकर एक व्यक्ति की पीट-पीट पर हत्या कर दी गई थी. इसी तरह के एक अन्य घटना महाराष्ट्र के औरंगाबाद ज़िले में हुई. यहां लुटेरा समझकर दो लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments