भारत

मुख्य आर्थिक सलाहकार अ​रविंद सुब्रमण्यम का इस्तीफ़ा

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने फेसबुक पर दी जानकारी, बताया- मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम पारिवारिक वजहों से अमेरिका लौट रहे हैं.

449717-arvind-subramanian-4pti

मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) अरविंद सुब्रमण्यम वित्त मंत्रालय छोड़ रहे हैं और वह अपनी ‘पारिवारिक प्रतिबद्धताओं’ की वजह से अमेरिका लौट रहे हैं. केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने फेसबुक पोस्ट के जरिये यह जानकारी दी.

सुब्रमण्यम को 16 अक्टूबर, 2014 को वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया गया था. उनकी नियुक्ति तीन साल के लिए हुई थी. 2017 में उनका कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ाया गया था.

जेटली ने कहा, ‘कुछ दिन पहले सुब्रमण्यम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मुझसे बात की. उन्होंने बताया कि वह पारिवारिक प्रतिबद्धताओं की वजह से अमेरिका लौटना चाहते हैं. उनके कारण व्यक्तिगत हैं, लेकिन उनके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं. मेरे पास उनसे सहमत होने के अलावा कोई विकल्प नहीं था.’

जेटली ने कहा कि पिछले साल अक्टूबर में सुब्रमण्यम का तीन साल का कार्यकाल पूरा हुआ था. इसके बाद उन्होंने सुब्रमण्यम से कुछ समय और पद पर बने रहने का आग्रह किया था. जेटली ने कहा, ‘यहां तक उन्होंने अभी मुझे बताया है कि वह पारिवारिक प्रतिबद्धताओं और मौजूदा नौकरी के बीच फंसे हुए हैं. यह उनकी अब तक की यह सबसे संतोषजनक नौकरी है.’

जेटली का मई मध्य में गुर्दा प्रत्यारोपण हुआ था. अभी वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार पीयूष गोयल के पास है. जेटली ने भारतीय अर्थव्यवस्था के वृहद आर्थिक प्रबंधन के लिए सुब्रमण्यम का आभार व्यक्त किया.

उन्होंने कहा, ‘व्यक्तिगत रूप से मुझे उनके व्यक्तित्व, ऊर्जा, बौद्धिक क्षमता और विचारों की कमी खलेगी. एक दिन में वह कई बार मेरे कमरे में आकर मुझे ‘मिनिस्टर’ कहकर बुलाते थे. कभी वह अच्छी खबर देने तो कभी दूसरे तरह का समाचार देने आते थे. निश्चित रूप से मुझे उनकी कमी खलेगी. मुझे विश्वास है कि वह कहीं भी होंगे वहां से अपनी सलाह या विश्लेषण भेजते रहेंगे.’

अरविंद सुब्रमण्यम ने भी ट्वीट कर वित्त मंत्री अरुण जेटली का साभार व्यक्त किया है.

मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि वह एक दो माह में वित्त मंत्रालय से विदाई ले लेंगे. हालांकि, उन्होंने कहा कि अभी वित्त मंत्रालय छोड़ने के लिए उन्होंने कोई तारीख तय नहीं की है. सुब्रमण्यम ने कहा कि यह मेरी सबसे अच्छी नौकरी थी. ‘यह मेरे लिए हमेशा सबसे बढ़िया नौकरी रहेगी.’

जेटली को ‘ड्रीम बॉस’ बताते हुए सुब्रमण्यम ने कहा कि मैं अच्छी यादों के साथ वापस जाऊंगा. मैं भविष्य में हमेशा देश सेवा के लिए प्रतिबद्ध रहूंगा. यह पूछे जाने पर कि वह वित्त मंत्रालय से कब विदाई ले रहे हैं, ‘ सुब्रमण्यम ने कहा कि उन्होंने अभी तारीख तय नहीं की है. मैं एक या दो महीने में विदाई लूंगा.’ उन्होंने बताया कि सितंबर में वह दादा बनने वाले हैं. सुब्रमण्यम ने कहा कि उनके उत्तराधिकारी की तलाश जल्द शुरू की जाएगी.

सुब्रमण्यम ने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से ग्रेजुएशन की थी और एनबीए की डिग्री इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, अहमदाबाद से ली थी. इसके बाद उन्होंने एमफिल और डीफिल की डिग्री यूके की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से हासिल की.

आपको बता दे 2014 में एनडीए सरकार के आने के बाद से अरविंद सुब्रमण्यम तीसरे बड़े आर्थिक विशेषज्ञ हैं जो भारत छोड़कर अमेरिका जा रहे हैं.

इसके पहले रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन अमेरिका की शिकागो यूनिवर्सिटी वापस लौट गए थे. इसके अलावा नीति आयोग के डिप्टी चेयरमैन अरविंद पनगढ़िया ने करीब ढाई साल तक भारत में काम करने के बाद दोबारा कोलंबिया यूनिवर्सिटी ज्वाइन कर ली थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments