भारत

महिलाओं के लिहाज़ से भारत विश्व में सबसे ख़तरनाक देश: सर्वे

थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन के सर्वे में 193 देशों को शामिल किया गया था, जिनमें से महिलाओं के लिए बदतर शीर्ष 10 देशों का चयन किया गया. सूची में युद्धग्रस्त अफगानिस्तान और सीरिया दूसरे और तीसरे, सोमालिया चौथे और सउदी अरब पांचवें स्थान पर है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

लंदन: पूरी दुनिया में भारत महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक और असुरक्षित देश माना गया है. मंगलवार को थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन की ओर से जारी किए गए एक सर्वे में महिलाओं के प्रति यौन हिंसा, मानव तस्करी और यौन व्यापार में ढकेले जाने के आधार पर भारत को महिलाओं के लिए खतरनाक बताया गया है.

इस सर्वे के अनुसार महिलाओं के मुद्दे पर युद्धग्रस्त अफगानिस्तान और सीरिया क्रमश: दूसरे और तीसरे, सोमालिया चौथे और सउदी अरब पांचवें स्थान पर हैं.

550 विशेषज्ञों के द्वारा किए गए इस सर्वे में महिलाओं के प्रति यौन हिंसा के खतरों के लिहाज से एकमात्र पश्चिमी देश अमेरिका है. इस सर्वे में 193 देशों को शामिल किया गया था, जिनमें से महिलाओं के लिए बदतर शीर्ष 10 देशों का चयन किया गया.

इस सर्वे को 26 मार्च से 4 मई के बीच ऑनलाइन, टेलीफ़ोन के माध्यम के साथ लोगों3 से मिलकर बातचीत कर पूरा कराया गया. इसमें यूरोप, अफ्रीका, अमेरिका, दक्षिण-पूर्व  एशिया के पेशेवर, शिक्षाविद, स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारी, गैर सरकारी संगठन के लोग, नीति निर्माता, विकास विशेषज्ञ और सामाजिक टिप्पणीकार शामिल थे.

2011 में हुए इस सर्वे में अफगानिस्तान, कॉन्गो, पाकिस्तान, भारत और सोमालिया महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक देश माने गए थे.

वहीं, इस साल भारत तीन पायदान ऊपर खिसक पहले स्थान पर आ गया है इससे यह साबित होता है कि 2011 में दिल्ली में एक चलती बस में हुए सामूहिक बलात्कार के बाद अभी तक महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पर्याप्त काम नहीं किए गए हैं.

साल 2011 में हुए निर्भया कांड के बाद महिलाओं की सुरक्षा और उनके ख़िलाफ़ होने वाली हिंसा देश के लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया था.

सरकारी आंकड़े बताते हैं कि 2007 से 2016 के बीच महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध में 83 फीसदी का इजाफा हुआ है. साथ ही हर घंटे में 4 रेप के मामले दर्ज किए जाते है.

सर्वे के मुताबिक, भारत मानव तस्करी, यौन हिंसा, सांस्कृतिक व धार्मिक परंपराओं के कारण और महिलाओं को सेक्स धंधों में ढकेलने के लिहाज से अव्वल है. रॉयटर्स के मुताबिक, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने इस सर्वे के परिणामों पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया.

सर्वेक्षण में उत्तरदाताओं से पूछा गया कि 193 संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों में से महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक पांच देश कौन से हैं और स्वास्थ्य, आर्थिक संसाधन, सांस्कृतिक  और पारंपरिक प्रथाओं, यौन हिंसा, उत्पीड़न, गैर-यौन हिंसा और मानव तस्करी के मामले में कौन सा देश सबसे खराब है.

उत्तरदाताओं ने भारत को मानव तस्करी, यौन उत्पीड़न और सेक्स स्लेवरी, घरेलू ग़ुलामी और ज़बरदस्ती विवाह कराने और भ्रूण हत्या कराने के आधार पर भी महिलाओं के लिए सबसे ख़तरनाक देश बताया है.

इस लिस्ट में पाकिस्तान नंबर 6 पर है, जबकि अमेरिका का स्थान दसवां है.

अफगानिस्तान आर्थिक संसाधनों, स्वास्थ्य सुविधाओं की भारी कमी और यौन हिंसा के कारण तीसरे स्थान पर है.

वहीं सीरिया और सोमालिया में लंबे समय से चल रहे युद्ध के कारण महिलाओं की स्थिति काफ़ी ख़राब हुई है. सीरिया में स्वास्थ्य सुविधाओं तक महिलाओं की कोई पहुंच नहीं है और सोमालिया में सांस्कृतिक व धार्मिक परंपराओं के कारण भी महिलाएं परेशान हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सीरिया में सरकारी बलों द्वारा महिलाओं के साथ यौन हिंसा की जाती है. घरेलू हिंसा और बाल विवाह के मामले बढ़ रहे हैं और बच्चे को जन्म देते हुए महिलाओं की मृत्युदर में वृद्धि हो रही है. और इस सबका कहीं अंत नहीं दिखता है. वहीं, सोमालिया में क़ानून लागू करने वाली संस्थाएं कमजोर हो चुकी हैं.

सऊदी अरब में कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ भेदभाव होता है. सांस्कृतिक व धार्मिक परंपराओं के कारण भी महिलाएं असुरक्षित महसूस करती हैं. हालांकि, हाल के सालों में कुछ सुधार देखा गया है. लेकिन, अभी भी काफी कुछ किए जाने की जरूरत है.

पाकिस्तान में महिलाओं के ख़िलाफ़ घरेलू हिंसा, इज़्ज़त के नाम पर हत्या के मामले सामने आए हैं. वहीं अमेरिका पिछले साल हुई मीटू कैम्पेन के कारण 10वें स्थान पर रहा.

Comments