भारत

तमिलनाडु के मंत्री बोले, जग्गी-रामदेव के नज़रिए से फ़र्क नहीं पड़ता, स्टरलाइट दोबारा नहीं खुलेगा

बीते दिनों तूतीकोरिन में हुई हिंसा का केंद्र रहे वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट को बंद किए जाने पर बाबा रामदेव और सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने निराशा ज़ाहिर की है.

Sterlite Reuters

फोटो: रॉयटर्स

पर्यावरणीय नियमों की अनदेखी के आरोप के बाद तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता समूह के स्टरलाइट कॉपर प्लांट को बंद रखने पर राज्य सरकार का रवैया सख्त है.

एनडीटीवी की खबर के अनुसार तमिलनाडु के मंत्री ने डी जयकुमार ने साफ कहा है कि यह प्लांट दोबारा नहीं खुलेगा.

उन्होंने कहा, ‘हमने एक सख्त कदम उठाया है. स्टरलाइट प्लांट दोबारा नहीं खुलेगा. हमें फर्क नहीं पड़ता कि रामदेव और सद्गुरु इस बारे में क्या सोचते हैं.

ज्ञात हो कि राज्य सरकार ने इस प्लांट को बंद करने का फैसला बीते 22 मई को हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद दिया था. स्थानीय लोग कारखाने को बंद करने की मांग को लेकर 99 दिन से प्रदर्शन कर रहे थे. आंदोलन के 100वें दिन प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए और पुलिस की गोलीबारी में 13 लोग मारे गए.

राज्य सरकार में मत्स्यपालन मंत्री और विधानसभा के पूर्व स्पीकर डी जयकुमार का यह बयान आध्यात्मिक गुरु जग्गी वासुदेव और योग गुरु रामदेव के स्टरलाइट कॉपर के बंद होने पर निराशा जाहिर करने के बाद आया है.

यह भी पढ़ें: वेदांता द्वारा पर्यावरणीय नियमों की धज्जियां उड़ाने में मोदी सरकार का पूरा सहयोग रहा है

सद्गुरु के नाम से विख्यात जग्गी वासुदेव ने बुधवार को ट्विटर पर लिखा था कि देश में तांबे का बहुतायत प्रयोग होता है. अगर हम यह नहीं बनाएंगे तो हमें चीन से खरीदना पड़ेगा. पर्यावरण से जुड़े मुद्दों से कानूनी रूप से निपटा जा सकता है लेकिन बड़े कारोबारों को बंद करना आर्थिक आत्महत्या करने जैसा है.

इस ट्वीट में उन्होंने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री कार्यालय और पीएमओ को भी टैग किया था.

जग्गी वासुदेव इससे पहले भी एक चैनल को दिए इंटरव्यू कह चुके हैं, ‘आपने राजनीतिक दबाव के चलते एक इंडस्ट्री को बंद कर दिया. यह सही नहीं है. आप इंडस्ट्री को ऐसे उपाय खोजने के लिए कहते जिससे प्रदूषण न फैलता. मुझे यकीन है कि रास्ते जरूर निकलते लेकिन अगर इस तरह व्यापार के बाद व्यापार बंद कराते रहेंगे तो देश का क्या होगा.’

जग्गी वासुदेव के अलावा योग गुरु बाबा रामदेव भी स्टरलाइट के बंद होने पर दुख जाहिर कर चुके हैं. उन्होंने तो यह भी कहा कि विदेशी षड्यंत्रों के चलते स्टरलाइट प्लांट बंद हुआ है.

25 जून को रामदेव ने ट्विटर पर वेदांता समूह के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल के साथ एक तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा था कि मैं देश में लाखों नौकरियां देकर देश निर्माण और आर्थिक समृद्धि लाने में अनिल अग्रवाल के योगदान को सलाम करता हूं.

आगे उन्होंने लिखा, ‘विदेशी षड्यंत्रकारियों ने भोले स्थानीय लोगों के जरिये दक्षिण भारत में वेदांता के एक प्लांट में हंगामा खड़ा किया. देश के विकास के लिए उद्योग मंदिर की तरह हैं. उन्हें बंद नहीं करना चाहिए.

यह भी पढ़ें: लंबे समय से वेदांता का इतिहास जनविरोधी गतिविधियों का ही रहा है

Comments