भारत

पश्चिम बंगाल: बोलपुर में ग्रामीणों ने एक व्यक्ति को बच्चा चोर समझकर पीटा

गांववालों का आरोप है कि अधेड़ उम्र के इस व्यक्ति ने एक बच्ची को जबरन गाड़ी में बैठाने की कोशिश की, व्यक्ति का कहना है कि वह सिर्फ पीने का पानी मांग रहा था.

Bolpur West Bengal

बोलपुर: पश्चिम बंगाल के बोलपुर नगर में ग्रामीणों ने बच्चा चोर के संदेह में एक अधेड़ व्यक्ति की बुरी तरह से पिटाई कर दी.

पुलिस ने बताया कि ग्रामीणों का आरोप है कि एक टैक्सी चला रहे इस व्यक्ति ने अपनी गाड़ी में 11 साल की एक बच्ची को जबरन बैठाने की कोशिश की.

उस वक्त वह लड़की बोलपुर नगर के बाहरी इलाके में स्थित रजतपुर में एक मैदान में खेल रही थी. लड़की ने जब शोर मचाया, तब ग्रामीणों ने संदिग्ध का पीछा किया.

ग्रामीणों ने बताया कि इस व्यक्ति ने अपनी टैक्सी की गति बढ़ा दी लेकिन ट्रैफिक जाम की वजह से उसे रुकना पड़ गया, तभी उसे पकड़ लिया गया.

ग्रामीण उसे गांव में ले गए और उसे पुलिस के हवाले करने से पहले उसकी बुरी तरह से पिटाई की. इस व्यक्ति ने पुलिस को बताया कि उसने केवल बच्ची से पीने का पानी मांगा था.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस व्यक्ति को हिरासत में ले लिया गया है और उससे पूछताछ की जा रही है.

गौरतलब है कि हाल के समय में महाराष्ट्र, असम और त्रिपुरा में बच्चा चोर के संदेह में कई लोगों की पीट-पीट कर हत्या करने या उन्हें घायल करने की घटनाएं दर्ज की गई हैं.

इससे पहले रविवार को महाराष्ट्र के धुले जिले में ग्रामीणों ने बच्चा चोरी करने वाले गिरोह का सदस्य होने के संदेह में पांच लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. इस मामले में पुलिस ने अब तक 23 लोगों को हिरासत में लिया है.

बीते कुछ हफ़्तों से देश के विभिन्न हिस्सों में खबरें आ रही है कि इलाके में बच्चा चोर गिरोह सक्रिय है. महाराष्ट्र में भी ऐसा ही हुआ था. महाराष्ट्र पुलिस और गृह राज्यमंत्री दीपक केसरकर ने लोगों से अपील की कि सोशल मीडिया पर प्रसारित अफवाहों पर ध्यान न दें.

सोशल मीडिया पर फैली हुई है बच्चा चोरी की अफवाह

गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में बच्चा चोर गैंग के सक्रिय होने की सोशल मीडिया पर अफवाह फैली हुई है.

बीते हफ्ते त्रिपुरा के अलग-अलग हिस्सों में बच्चा चोर होने के संदेह में त्रिपुरा सूचना एवं संस्कृति विभाग के एक सदस्य सहित तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या की दी गई थी.

इससे पहले मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में भी बच्चा चोर गिरोह का सदस्य समझ कर माड़ा थाना क्षेत्र में ग्रामीणों ने बहरूपिये का स्वांग करने वाले एक युवक की बेहरमी से पिटाई की थी. यह युवक पड़ोस के किसी गांव में साड़ी पहनकर नाचने-गाने जा रहा था, जब  रास्ते में लोगों ने बच्चा चोर गिरोह का सदस्य समझ कर बुरी तरह पीट दिया. घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस वहां पहुची और युवक को भीड़ के चंगुल से बचाया.

गुजरात से भी बच्चा चोरी की अफवाह  पर हिंसा की घटनाएं सामने आई हैं. कुछ दिन पहले गुजरात के कई शहरों में अफवाह के चलते पीट-पीट कर मारने के मामले सामने आए हैं. अहमदाबाद में बच्चा चुराने के शक में एक भीड़ ने 40 वर्षीय महिला की पीट-पीटकर हत्या कर दी.

इसी उत्तर प्रदेश के हापुड़ ज़िले के पिलखुआ क्षेत्र में बीते 18 जून को ग्रामीणों ने गोहत्या के शक में दो मुस्लिम व्यक्तियों को पीटकर घायल कर दिया था. इनमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी.

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर ज़िले में ग्रामीणों ने बीते 23 जून को बच्चा चोर होने के संदेह में एक विक्षिप्त व्यक्ति को कथित रूप से पीट-पीटकर मार डाला था. बिहार के पूर्णिया में भी डायन होने के आरोप में एक महिला के अपने ही परिजनों ने उसकी पीट-पीट कर हत्या कर दी.

जून महीने में ही झारखंड के गोड्डा ज़िले के बनकट्टी गांव में मवेशी चोरी के आरोप में सिराबुद्दीन अंसारी और मुर्तजा की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई है. इसी तरह महाराष्ट्र के औरंगाबाद ज़िले के वैजापुर तालुका के चंदगांव गांव में बीते आठ जून को लुटेरे होने के संदेह में ग्रामीणों की भीड़ ने दो लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी.

हाल ही में पश्चिम बंगाल में बच्चा चोर होने के संदेह में मालदा जिले में व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. इसके अलावा पिछले महीने असम के कार्बी आंगलांग जिले में बच्चा चुराने के शक में संगीतकार और उसके दोस्त की पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments