भारत

मुंबई में बारिश से राहत नहीं, रेल सेवा प्रभावित, नालासोपारा में 411 यात्रियों को बचाया गया

मौसम विभाग ने गुरुवार तक बारिश रहने की आशंका जताई. पालघर ज़िले के मानिकपुर गांव ने तकरीबन 81 कर्मचारियों और उनके परिवार को निकालने के लिए कार्रवाई जारी.

Mumbai: A motorcyclist moves through a waterlooged road during heavy rains, at King Circle in Mumbai on Tuesday, July 10, 2018. (PTI Photo/Shashank Parade) (PTI7_10_2018_000103B)

मुंबई के किंग सर्किल में बारिश के पानी में फंसा एक बाइकसवार. (फोटो: पीटीआई)

मुंबई: मुंबई और इसके आसपास के क्षेत्रों में पिछले कई दिनों से जारी बारिश से मुंबईकरों को मंगलवार को भी राहत नहीं मिली. मंगलवार को बारिश की वजह से रेल सेवा और जनजीवन प्रभावित हो गया है.

मुंबई के विभिन्न इलाकों में बारिश का पानी जमा होने से ट्रैफिक लगभग रुका हुआ है. लगातार हो रही बारिश की वजह से लोग घरों में कैद होकर रह गए हैं. बेस्ट की बसों के मार्गो में परिवर्तन किया गया है.

महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े के ट्वीट के बाद मुंबई के स्कूल प्रिंसिपलों ने मंगलवार को स्कूल बंद रखने का फैसला किया है. पड़ोसी पालघर और ठाणे ज़िलों के स्कूल में भी मंगलवार को बंद रहे. मौसम विभाग की ओर से भारी बारिश जारी रहने की आशंका जताने के बाद मुंबई के डब्बावालों ने भी मंगलवार को काम बंद रखा.

भारी बारिश की वजह से शहर और इसके पड़ोसी ज़िले पालघर और ठाणे के निचले इलाके की कई सड़कों और गलियों में पानी भर गया है. कुछ स्थानों पर लोग कमर तक गहरे पानी में चलते देखे गए.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने पालघर ज़िले के मानिकपुर गांव ने तकरीबन 81 कर्मचारियों और उनके परिवार को निकालने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है. वहीं पालघर में नालासोपारा स्टेशन में पानी जमा होने के बाद फंसी वडोदरा एक्सप्रेस ट्रेन से 411 यात्रियों को बचाया गया.

अधिकारियों ने बताया कि पश्चिमी रेलवे (डब्ल्यूआर) के एक हिस्से में पटरियों पर पानी भरने की वजह से उपनगरीय सेवा निलंबित कर दी गई और लंबी दूरी वाली कई ट्रेन सेवाएं और इंटरसिटी एक्सप्रेस या तो विलंब से चल रही हैं या रद्द कर दी गई हैं.

फिलहाल मौसम विभाग ने गुरुवार तक बारिश होने की संभावना जताई है. एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने कहा है कि आपात स्थितियों से निपटने के लिए नेवी और एनडीआरएफ को तैयार रहने का निर्देश दिया गया है.

शहर और आसपास के क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति करने वाली सबसे बड़ी तुलसी झील में पानी लबालब भर गया है और यह उफनकर बह रही है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बृहस्पतिवार तक भारी और भीषण बारिश का अनुमान व्यक्त किया है.

मुंबई के लिए बारिश का स्तर दर्ज करने वाली आईएमडी कोलाबा वेधशाला ने बीते नौ जुलाई को 8:30 बजे से 10 जुलाई 8:30 बजे तक यानी 24 घंटे में 165.8 मिमी बारिश दर्ज की.

Thane: A woman is helped by other commuters after she fell on the tracks at Thane Railway Station during heavy rains, in Thane on Monday, July 9, 2018. (PTI Photo) (PTI7_9_2018_000049B)

बारिश के दौरान ठाणे स्टेशन पर रेलवे लाइन पार करते हुए यात्री. (फोटो: पीटीआई)

उपनगरीय मुंबई में बारिश का स्तर दर्ज करने वाली सांताक्रूज वेधशाला ने इसी दौरान 184 मिमी बारिश दर्ज की. रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि नौ जुलाई की रात से 200 मिमी बारिश दर्ज की गई है और इससे रेलवे ट्रैक पर पानी भर गया है.

उन्होंने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पालघर ज़िले में वसई और विरार तक में फास्ट ट्रैक सेवा और एयर कंडीशन लोकल ट्रेन सेवा तब तक के लिए निलंबित कर दी है जब तक ट्रैक पर से पानी घट न जाए.

Mumbai: People take cover under umbrellas as they wade through a waterlogged street during rains, in Mumbai on Tuesday, July 10, 2018. (PTI Photo/Mitesh Bhuvad) (PTI7_10_2018_000129B)

मुंबई में बारिश. (फोटो: पीटीआई)

पश्चिमी रेलवे ने एक ट्वीट में कहा, ‘नालासोपारा में रेलवे ट्रैक पर भारी बारिश की वजह से पानी जमा होने से एसी लोकल ट्रेन आगे की जानकारी मिलने तक रद्द कर दी गई है.’

उन्होंने बताया कि रेलवे ट्रैक पर पानी भरने की वजह से पश्चिमी रेलवे ने नौ आउटस्टेशन ट्रेनों को गंतव्य स्थान से पहले ही रोक दिया या रद्द कर दिया. मध्य रेल के एक अधिकारी ने बताया कि मध्य रेल की स्थानीय ट्रेन सेवा इसके मुख्य मार्ग और हार्बर लाइन पर 15 से 25 मिनट की देरी से चल रही है.

वहीं शहर में टिफिन सेवा देने वाले डब्बावालों ने जलभराव के मद्देनज़र मंगलवार को पूरे शहर में काम बंद रखने का फैसला किया है.

वसई में फंसे लोगों को निकालने के लिए शुरू किया अभियान

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने मुंबई के पड़ोस में पालघर ज़िले के वर्षा प्रभावित वसई तालुका में बचाव अभियान शुरू किया है. मंगलवार सुबह तक पिछले 24 घंटे में यहां 240 मिलीमीटर बारिश हुई है.

अत्यधित बारिश के कारण वसई तालुका और नगर के विभिन्न इलाके में कई लोग फंस गए हैं.

पालघर के जिला कलेक्टर प्रशांत नरनावरे ने बताया, ‘एनडीआरएफ की कंपनी वसई पहुंची है। जरूरत पड़ने पर और कर्मियों को बुलाया जाएगा.’

इलाके में पानी भर जाने के कारण करीब 300 लोग कल अपने घरों में फंस गए.

हालात पर सरकार की नजर: फड़णवीस

नागपुर: मुंबई और इसके आसपास के इलाके में ख़ास तौर से पालघर जिले में हुई जबरदस्त बारिश के बाद उत्पन्न स्थिति पर महाराष्ट्र सरकार गहरी नज़र रखे हुए है. मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने विधानसभा में मंगलवार को इसके बारे में जानकारी दी और कहा कि पालघर जिले में अप्रत्याशित बारिश हुई है.

मुख्यमंत्री ने बताया कि मुंबई में 11 स्थानों पर जलजमाव की सूचना है और तीन स्थानों पर यातायात परिवर्तित कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि वसई विरार इलाके में जलजमाव के कारण पश्चिम रेलवे में रेल यातायात बाधित हो गया है.

उन्होंने बताया कि अभी मुंबई के तटीय इलाके में ज्वार उठ रहा है. जल निकासी के लिए सक्शन पंप पूरी क्षमता से काम कर रहे हैं. मुख्यमंत्री ने बताया कि वर्षा जल निकासी के लिए इसके अतिरिक्त 150 और पम्प लगाए गए हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर आवश्यक हुआ तो स्कूलों में छूट्टी की घोषणा की जाएगी क्योंकि मौसम विभाग ने जबरदस्त बारिश का पूर्वानुमान ज़ाहिर किया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments