राजनीति

भाजपा नेता खड़से और दाऊद के बीच नहीं था संबंध: पुलिस

महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री और भाजपा नेता एकनाथ खड़से पर दाऊद इब्राहिम के कराची स्थित आवास से फोन आने का आरोप लगाने वाले एथिकल हैकर मनीष भांगले को मामले में कथित तौर पर फर्जी फोन बिल तैयार करने की वजह से गिरफ्तार कर लिया गया है.

पूर्व मंत्री एकनाथ खड़से (फोटो: पीटीआई)

पूर्व मंत्री एकनाथ खड़से (फोटो: पीटीआई)

एक अधिकारी ने बताया कि भांगले ने खड़से और दाऊद के पाकिस्तान स्थित आवास के बीच कॉल रिकॉर्ड दिखाने के लिए फर्जी मोबाइल बिल तैयार किया.

संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) संजय सक्सेना ने कहा, हमने शुक्रवार को भांगले को गिरफ्तार कर लिया और उनको अदालत में पेश किया जाएगा. उन्होंने कहा, भांगले को खड़से और दाऊद इब्राहिम के बीच रिश्ता स्थापित करने के लिए कथित तौर पर फर्जी दस्तावेज बनाने को लेकर गिरफ्तार कर लिया गया.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, मुंबई पुलिस के संयुक्त आयुक्त (क्राइम) अतुल चंद्र कुलकर्णी ने कहा, ‘हमारे जांच से पता चलता है कि एकनाथ खड़से के नंबर पर ऐसा कोई इनकमिंग या आउटगोइंग कॉल नहीं आया-गया जिसका संबंध दाऊद इब्राहिम से हो.’

मनीष भांगले ने पिछले वर्ष दावा किया था कि एकनाथ खड़से को दाऊद इब्राहिम की बीवी महज़बीन शेख़ के पाकिस्तानी नंबर 021-35871639 से सिंतबर 2015 से अप्रैल 2016 तक सैकड़ों फोन कॉल आए थे.

तब खड़से इन आरोपों को बेबुनियाद बताया था. इस मामले में खड़से को इससे पहले एटीएस ने भी क्लीनचिट दे दिया था.

बता दें कि भांगले के दावे के बाद आम आदमी पार्टी इस मामले को उठाया था. पार्टी की प्रवक्ता प्रीति शर्मा मेनन ने महाराष्ट्र की भाजपा सरकार को घेर लिया था. इस विवाद के चलते एकनाथ खड़से को मंत्री पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

द वायर से बात करते हुए आप की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रीति शर्मा मेनन कहती हैं, ‘मुझे इस बात की उम्मीद थी कि खड़से को क्लीनचिट मिल जाएगी. सरकार जब कांग्रेस के भ्रष्ट नेताओं पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही है तो भाजपा से कैसे उम्मीद किया जाए कि खुद के नेताओं पर कोई कार्रवाई करेंगे.’

भांगले के गिरफ्तारी पर प्रीति का कहना है, ‘हमने मुख्यमंत्री को मामले की निष्पक्ष जांच करने को कहा था पर ठोस जांच नहीं की गई. भांगले हिरासत में हैं और इतने बड़े नेता के खिलाफ आवाज उठाने पर तो ये सब झेलना ही होगा. अगर जरूरत पड़ेगी तो हमारी तरफ से भंगाले को कानूनी लड़ाई में मदद दी जाएगी.’