भारत

मध्य प्रदेश: प्रेम विवाह करने जा रही बेटी को पिता और भाई ने ज़िंदा जलाया

खंडवा ज़िले में हुए घटनाक्रम में बेटी पड़ोस में रहने वाले एक युवक से प्रेम करती थी. पिता ने समझाया कि लड़का दूसरी जाति का है, लेकिन वह नहीं मानी तो उसे ज़िंदा जला दिया गया.

KHANDAWA

खंडवा: मध्य प्रदेश में खंडवा जिले के ग्राम चैनपुर सरकार में एक व्यक्ति ने प्रेम विवाह करने जा रही अपनी बेटी को शुक्रवार सुबह कथित रूप से जिंदा जला दिया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

इस मामले में पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है और बड़े भाई को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है.

मौके पर पहुंचे खालवा पुलिस थाना प्रभारी कैलाश पानसे ने बताया, ‘19 वर्षीय लक्ष्मी बाई को शुक्रवार सुबह साढ़े सात बजे जिंदा जला देने के आरोप में उसी के पिता सुंदर लाल यादव (52) को गिरफ्तार कर लिया गया है और लड़की के बड़े भाई राजेंद्र यादव (28) को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है.’

उन्होंने कहा कि लक्ष्मी का शव उसी के घर के आंगन में जला पड़ा मिला. उसका शव पोस्टमॉर्टम के लिये भेज दिया गया है.

पानसे ने कहा कि प्रारभिक जांच में यह बात सामने आई है कि लक्ष्मी का पिता एवं पूरा परिवार बेटी द्वारा पड़ोस में रहने वाले एक युवक से शादी करने की जिद से बहुत नाराज था.

लक्ष्मी शुक्रवार सुबह जब कोर्ट मैरिज करने के लिए अपनी मार्कशीट लेकर घर से जाने लगी तो आक्रोशित पिता ने कथित रूप से उसे पकड़ लिया और उसके ऊपर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी.

उन्होंने बताया कि लक्ष्मी के चिल्लाने की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे लेकिन उसे बचा नहीं सके. अपने घर के आंगन में ही उसकी झुलसने से मौत हो गई.

पानसे ने बताया कि मौके पर पहुंचे पड़ोसियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की विस्तृत जांच शुरू कर दी गई है.

दैनिक भास्कर को खंडवा एसपी रूचि वर्धन मिश्र ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामले में हत्या का प्रकरण दर्ज किया है. मौका मुआयना किया है. हर पहलू पर जांच की जा रही है. चश्मदीदों सहित अन्य के बयान लिए जा रहे हैं.

अखबार के मुताबिक, लक्ष्मी और पड़ोस में रहने वाले राजकुमार के बीच महीनों से प्रेम प्रसंग चल रहा था. इसकी भनक लगने पर सुंदरलाल ने बेटी को समझाया कि लड़का दूसरी जाति का है, लेकिन लक्ष्मी नहीं मानी. शुक्रवार को कोर्ट में शादी करने के लिए लक्ष्मी ने राजकुमार को अंकसूची सहित अन्य जरूरी दस्तावेज भी दे दिए थे.

हालांकि, राजकुमार की मां को लक्ष्मी पसंद थी. उसने दोनों के रिश्ते को लेकर लक्ष्मी के माता-पिता से भी बात की थी, लेकिन वे शादी के लिए राजी नहीं हुए.

वहीं, पत्रिका के मुताबिक पिता का कहना है कि मैंने बेटी को नहीं जलाया है उसने खुद को आग लगाकर आत्महत्या की है.

तो वहीं युवक की मां का कहना है कि लक्ष्मी के पिता उसे हमारे घर से घसीटते हुए ले गए थे. वह रोती, गिड़गिड़ाती रही लेकिन उन्होंने उसकी एक नहीं सुनी. बेरहमी से उसे पीटा और केरोसिन डालकर आग लगा दी. घटना देखते ही हमने तुरंत पुलिस को सूचना दी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)