भारत

पश्चिम बंगाल: बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने चार महिलाओं को पीटकर निर्वस्त्र किया

घटना जलपाईगुड़ी ज़िले के एक गांव की है. पुलिस ने बताया कि ज़िले में बच्चा चोरी के शक में भीड़ द्वारा हमले की यह इस महीने की चौथी घटना है.

Jalpaiguri

 

जलपाईगुड़ी (पश्चिम बंगाल): पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में भीड़ ने बच्चा चोर होने के संदेह में चार महिलाओं से कथित तौर पर मारपीट की और उनमें से दो को निर्वस्त्र कर दिया.

पुलिस ने बताया कि घटना धूपगुड़ी प्रखंड के दवकिमारी गांव में हुई. बच्चा चोर होने के संदेह में जिले में इस महीने हमले की यह चौथी घटना है.

पिछले सप्ताह बच्चा चोरी के संदेह में जिले के उसी प्रखंड में मानसिक रूप से परेशान एक महिला से मारपीट की गई थी.

जलपाईगुड़ी के पुलिस अधीक्षक अमिताभ मैती ने बताया कि चारों महिलाओं की उम्र 20 से 50 साल के बीच है. महिलाएं स्थानीय नहीं थीं और भीड़ ने उनसे कुछ सवाल पूछे जिसके जवाब पर उन्हें यकीन नहीं हुआ.

पुलिस ने बताया कि एक महिला ने कथित तौर पर कहा कि वह एक परिजन की तलाश कर रही थी. दूसरी महिला ने कहा कि वह रिश्तेदार के यहां जा रही थी, जबकि तीसरी महिला ने कहा कि वह घर-घर जाकर कपड़ा बेचती है और चौथी महिला ने कहा कि वह बगल के बैंक में काम से आई थी.

मैती ने बताया कि बच्चा चोरी के संदेह में भीड़ ने चारों महिलाओं से कथित तौर पर मारपीट की और उनमें से दो को निर्वस्त्र कर दिया.

पुलिस ने महिलाओं को बचाया और उन्हें निकटवर्ती प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया जहां उनकी हालत स्थिर है.

मैती ने कहा कि मंगलवार की घटना के संबंध में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. पूर्व की घटना के मामले में कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

उन्होंने कहा कि जिले में कानून-व्यवस्था बिगाड़ना चाह रहे लोग बच्चा चोरी की अफवाह फैला रहे हैं.

इससे पहले इसी महीने जिले के माल ब्लॉक के क्रांति क्षेत्र में कई लोग पत्थरबाजी में घायल हो गए थे. घटना इस अफवाह के फैलने के बाद हुई थी कि क्षेत्र में बच्चा चोर घूम रहे हैं.

पुलिस ने बताया कि कुछ दिन बाद सदर ब्लॉक के बालापारा में बच्चा चोर होने के शक में एक और व्यक्ति पर कथित तौर पर हमला किया गया.

मैती ने कहा कि हालांकि सोमवार की घटना के संबंध में अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है, लेकिन कई लोगों को पुराने मामलों में पकड़ा गया है. उन्होंने कहा कि बच्चो चोरी की अफवाह उन लोगों के द्वारा फैलाई गई थी जो जिले में क़ानून व्यवस्था को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, ‘हम सोशल मीडिया और पब्लिक मीडिया जैसे कि लाउड स्पीकर पर घोषणा करवाने के जरिए इस बारे में जागरुकता फैला रहे हैं. लोगों को पुलिस की हेल्पलाइन पर संपर्क करना चाहिए अगर वे कुछ संदिग्ध पाते हैं, लेकिन कानून को अपने हाथों में नहीं लेना चाहिए.’

उन्होंने कहा कि पुलिस घटना के पीछे के लोगों को खोजने का कोशिश कर रही है और जल्द से जल्द जांच पूरी करना चाहती है.

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से देशभर में फैलीं बच्चा चोरी की अफवाहों से पश्चिम बंगाल भी अछूता नहीं रहा है. जलपाईगुढ़ी के अलावा मालदा और बोलपुर से भी पिछले दिनों ऐसी ही घटनाएं सामनेे आईं थीं.

मालदा ज़िले में आक्रोशित भीड़ ने 35 वर्षीय व्यक्ति की खंबे से बांधकर पिटाई की. अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई.

वहीं, बोलपुर नगर में ग्रामीणों ने बच्चा चोर के संदेह में एक अधेड़ व्यक्ति की बुरी तरह से पिटाई कर दी थी.

ग्रामीणों का आरोप था कि टैक्सी चला रहे अधेड़ ने अपनी गाड़ी में 11 साल की एक बच्ची को जबरन बैठाने की कोशिश की.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)