भारत

तमिलनाडु: क़र्ज़ से परेशान किसान ने परिवार संग की ख़ुदकुशी

अपेक्षित फसल न होने से हताश किसान मुथुसामी ने अपने 2 बच्चों की हत्या कर 70 वर्षीय मां संग फांसी लगा ली. मुथुसामी पर करीब 13 लाख रुपये का क़र्ज़ बकाया था.

प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो: पीटीआई)

प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो: पीटीआई)

कोयंबटूर: तमिलनाडु में तिरूपुर जिले के पास एक किसान परिवार के चार सदस्यों ने आर्थिक परेशानी की वजह से रविवार को कथित रूप से ख़ुदकुशी कर ली.

पुलिस ने बताया कि पड़ोसियों को सुबह मुथुसामी और अन्य अपने घर में फंदे से लटके मिले. लंबे वक्त तक घर का दरवाज़ा बंद रहने की वजह से पड़ोसियों ने उनके घर में झांककर देखा था.

अन्य मृतकों में किसान की 70 वर्षीय मां, 11 वर्षीय बेटी और 4 वर्षीय बेटा शामिल है. उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी नज़दीक के एक गांव में एक उत्सव में गई हुई थीं.

मुथुसामी ने चार एकड़ भूमि बटाई पर ली थी लेकिन अपेक्षित फसल नहीं होने की वजह से वह हताश था. वो मौसम के अनुसार टमाटर और प्याज़ की खेती किया करता था.

पुलिस ने बताया कि शुरूआती जांच में आत्महत्या की वजह आर्थिक परेशानी लग रही है.

द इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, ‘पुलिस ने बताया की मुथुसामी ने विभिन्न लोगों से नौ लाख रुपये कर्ज के रूप में लिया था, जो ब्याज के साथ 13 लाख रुपये हो चुका था.’

किसानी से पैसा न कमा पाने के चलते मुथुसामी ने खेती छोड़ मवेशी पालन का काम शुरू किया था. उनकी पत्नी सेल्वी तिरुपुर के एक कपड़ा फ़ैक्टरी में काम करती हैं.

पुलिस ने बताया कि लेनदार कई बार मुथुसामी के घर पैसा मांगने आया करते थे, जिसके चलते पति-पत्नी में काफ़ी झगड़ा होता था. कुछ दिन पहले दोनों में झगड़ा हुआ और सेल्वी अपनी मां के घर चली गई.

इस बात से परेशान होकर रविवार को मुथुसामी ने पंखे से फांसी लगाकर दोनों बच्चों की हत्या कर दी और फिर अपनी मां के साथ घर के बाहर आत्महत्या की.

स्थानीय लोगों द्वारा सूचना देने के बाद तिरुपुर ग्रामीण पुलिस मौके पर पहुंची. तिरुपुर ग्रामीण पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) और आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 174 के तहत मामला दर्ज किया है और मामले की जांच जारी है.

(समाचार एजेंसी भाषा इनपुट के साथ)