राजनीति

कांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर का पार्टी से निलंबन रद्द किया

पिछले साल गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर विवादित टिप्पणी करने की वजह से पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर. (फोटो: पीटीआई)

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर का निलंबन तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया है.

पिछले साल गुजरात विधानसभा चुनाव के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संदर्भ में ‘नीच किस्म का आदमी’ वाली विवादित टिप्पणी करने की वजह से अय्यर को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था.

कांग्रेस के संगठन महासचिव अशोक गहलोत की ओर से जारी बयान के मुताबिक पार्टी की केंद्रीय अनुशासन समिति की अनुशंसा पर राहुल गांधी ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अय्यर का निलंबन तत्काल प्रभाव से रद्द करने को मंज़ूरी प्रदान की.

दरअसल, अय्यर ने पिछले साल दिसंबर में गुजरात में चुनाव से चंद दिनों पहले प्रधानमंत्री के बारे में विवादित टिप्पणी की थी जिसे ख़ुद मोदी और भाजपा ने चुनावी सभाओं में ज़ोर-शोर से उठाया था.

राहुल गांधी और पार्टी ने अय्यर की टिप्पणी को ख़ारिज करते हुए उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया था.

गौरतलब है कि मणिशंकर अय्यर की टिप्पणी और खासकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर कही गईं बातें अक्सर कांग्रेस के लिए मुसीबत का सबब बनती रही हैं. बीते 11 अगस्त को ही मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर फिर से एक बयान दिया था.

मणिशंकर अय्यर ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि मुसलमानों को पिल्ला समझने वाला मुख्यमंत्री कभी इस देश का प्रधानमंत्री भी बन सकता है.

अय्यर ने कहा था, ‘2014 से पहले मैंने नहीं सोचा था कि एक ऐसा मुख्यमंत्री जो मुसलमानों को पिल्ले (कुत्ते का बच्चा) समझता हो, वो देश का नेतृत्व करेगा. मोदी से जब पूछा गया कि क्या आपको दुख है कि 2002 में इतने मुसलमानों को जान की कुर्बानी देनी पड़ी तो उन्होंने कहा कि एक पिल्ला भी गाड़ी के नीचे आ जाए तो दिल में कुछ चोट लगता है.’

इससे पहले जनवरी 2014 में दिल्ली में हुए कांग्रेस के अधिवेशन के दौरान उन्होंने सबके सामने नरेंद्र मोदी को ‘चायवाला’ कहकर संबोधित किया था. जिसे भी आम चुनाव के दौरान भाजपा ने चुनावी मुद्दा बनाया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)