राजनीति

जम्मू-कश्मीर में भाजपा कार्यकर्ता का आरोप, पार्टी में होता है महिलाओं का शोषण

जम्मू में भाजपा की महिला नेता ने सार्वजानिक रूप से पार्टी अध्यक्ष रवींद्र रैना से शिकायत करते हुए कहा पार्टी में महिलाओं का कोई सम्मान नहीं है. पार्टी  के पुरुष नेता नहीं जानते कि महिलाओं के साथ कैसे व्यवहार किया जाता है.

फोटो: रॉयटर्स

फोटो: रॉयटर्स

जम्मू-कश्मीर में भाजपा की एक सदस्य ने आरोप लगाया है कि पार्टी की राज्य इकाई में पुरुष नेताओं द्वारा महिलाओं का शोषण किया जाता है और पार्टी के भीतर उन्हें ख़ुद अपमान झेलना पड़ा है.

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के अनुसार यह घटना गुरुवार की शाम की है, जब जम्मू के कन्वेशन सेंटर में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की श्रद्धांजलि सभा के कुछ देर बाद ही भाजपा की सदस्य प्रिया जराल ने प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना से ‘मातृशक्ति’ की रक्षा करने की गुहार लगाई.

प्रिया ने कहा कि आप (रवींद्र) हमें मातृशक्ति हैं, झांसी की रानी कहते हैं. इस पर रैना ने कहा कि इस तरह बात करना अच्छा नहीं लगता, बाद में बात करेंगे, लेकिन प्रिय अपनी बात पर अड़ी रहीं, और कहा कि वे इस मुद्दे पर बोल-बोलकर थक चुकी हैं.

अख़बार की खबर के अनुसार पास खड़े विधानसभा स्पीकर निर्मल सिंह ने भी प्रिया को समझाने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने रवींद्र रैना से बात करने पर जोर दिया.

इसके बाद जब रैना अन्य नेताओं के साथ वहां से जाने लगे, तब प्रिया उनके पीछे-पीछे चल पड़ी और कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी महिला शोषण के खिलाफ बोलते थे, महिलाओं के लिए आवाज उठाते थे.

उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि पार्टी में महिलाओं का कोई सम्मान नहीं है और वे (पार्टी  के पुरुष नेता) नहीं जानते कि महिलाओं के साथ कैसे व्यवहार किया जाता है. 

जब उनसे यह कहा गया कि वे बहुत गंभीर आरोप लगा रहीं हैं, तब उन्होंने जवाब दिया कि यहां ऐसा होता है. उन्होंने कहा, ‘मैं चुप रहने वालों में से नहीं हूं, मैं इसके खिलाफ आवाज उठाती रहूंगी.’

इसके अलावा प्रिया ने आरोप लगाया कि पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उनसे कहा था कि अगर पार्टी के सीनियर लेवल पर कोई ‘सेटिंग’ है, तब ही उन्हें प्रमोशन मिलेगा. लेकिन प्रिया ने उनकी बात को तवज्जो नहीं दी.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस बाबत रवींद्र रैना से संपर्क करने की कोशिशों के बावजूद उनसे संपर्क नहीं हो सका,  वहीं महिला कांग्रेस की कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को प्रदर्शन किया और इन आरोपों की राज्य सरकार द्वारा उच्चस्तरीय जांच करवाने की मांग की है.