भारत

कच्चे तेल और रुपये की चिंता में बाज़ार बेहाल, निवेशकों के पांच लाख करोड़ रुपये डूबे

गुरुवार को सेंसेक्स 806 अंक टूटकर 35,200 अंक से नीचे आ गया. यह इसका तीन महीने का निचला स्तर है. इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 259 अंक के नुक़सान से 10,600 अंक से नीचे आ गया.

(फाइल फोटो: रॉयटर्स)

(फाइल फोटो: रॉयटर्स)

मुंबई: डॉलर के मुकाबले रुपये के नए सर्वकालिक निचले स्तर पर आने तथा कच्चे तेल के दाम 86 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंचने से गुरुवार को शेयर बाजारों का हाल बेहाल रहा. सेंसेक्स 806 अंक टूटकर 35,200 अंक से नीचे आ गया. यह इसका तीन महीने का निचला स्तर है. इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 259 अंक के नुकसान से 10,600 अंक से नीचे आ गया.

अन्य एशियाई बाजारों में कमजोरी तथा यूरोपीय बाजारों की गिरावट के रुख के साथ शुरुआत से भी यहां धारणा नकारात्मक हुई. स्वास्थ्य सेवा, सूचना प्रौद्योगिकी, तेल एवं गैस, बैंकिंग और वाहन कंपनियों के शेयरों में बिकवाली का सिलसिला चलने से बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 806.47 अंक या 2.24 प्रतिशत टूटकर 35,169.16 अंक पर आ गया. लगातार दूसरे दिन सेंसेक्स में गिरावट आई. कारोबार के दौरान सेंसेक्स 35,022.12 अंक के निचले स्तर तक गया.

यह सेंसेक्स को दो जुलाई के बाद का सबसे निचला स्तर है. उस दिन सेंसेक्स 35,264.41 अंक पर बंद हुआ था. बुधवार को सेंसेक्स 550.51 अंक टूटा था. शेयर बाजारों में जोरदार गिरावट का सिलसिला रुपये के लगातार कमजोर होने से कायम रहा. अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में रुपया दिन में कारोबार के दौरान 73.81 प्रति डॉलर के अपने नए सर्वकालिक निचले स्तर तक आ गया.

वहीं, कच्चा तेल 86 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को पार गया जिससे बाजार में जोरदार बिकवाली का सिलसिला चला. इसके अलावा निवेशक भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजों के इंतजार में भी सतर्क है. मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजे शुक्रवार को आएंगे. ब्रोकरों ने कहा कि अन्य एशियाई बाजारों में कमजोरी के रुख और अमेरिका में ब्याज दर बढ़ने तथा बेहतर आर्थिक आंकड़ों से यह आशंका बनी है कि निवेशक दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका की ओर रुख कर सकते हैं.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 259 अंक या 2.39 प्रतिशत के नुकसान से 10,600 अंक से नीचे 10,599.25 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह 10,547.25 अंक के निचले स्तर तक भी गया.

सेंट्रम वेल्थ मैनेजमेंट के प्रमुख (इक्विटी सलाहकार) देवांग मेहता ने कहा कि बड़े से बड़ी और मजबूत कंपनियों के शेयर पिछले कुछ सत्रों में टूटे हैं. यह नकारात्मक धारणा और निराशा को दर्शाता है. मेहता ने कहा, ‘रुपये के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आने, कच्चे तेल के दाम चढ़ने से चालू खाते का घाटा बढ़ने की आशंका पैदा हुई है. इसके अलावा नकदी संकट को लेकर भी चिंता बनी हुई है. इस वजह से बाजारों में जोरदार गिरावट आई है.’

इस बीच, शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने बुधवार को 1,550 करोड़ रुपये के शेयर बेचे. वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 1,402 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे. सेंसेक्स की कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर सबसे अधिक 7.03 प्रतिशत टूटा. हीरो मोटोकॉर्प में 5.45 प्रतिशत का नुकसान रहा.

NEW DELHI: SENSEX. PTI GRAPHICS(PTI10_4_2018_000085B)

(पीटीआई ग्राफिक्स)

अन्य कंपनियों में टीसीएस में 4.54 प्रतिशत, अडाणी पोर्ट्स में 4.17 प्रतिशत, ओएनजीसी में 3.74 प्रतिशत, सनफार्मा में 3.70 प्रतिशत, एचडीएफसी बैंक में 3.46 प्रतिशत, बजाज आटो में 3.04 प्रतिशत, इंडसइंड बैंक में 3.03 प्रतिशत, हिंदुस्तान यूनिलीवर में 2.97 प्रतिशत, भारती एयरटेल में 2.95 प्रतिशत, आईटीसी लि. में 2.49 प्रतिशत, कोटक बैंक में 1.93 प्रतिशत, एशियन पेंट में 1.90 प्रतिशत, टाटा मोटर्स में 1.89 प्रतिशत, कोल इंडिया में 1.61 प्रतिशत, एचडीएफसी लि. में 1.33 प्रतिशत, मारुति सुजुकी में 0.80 प्रतिशत तथा एसबीआई में 0.69 प्रतिशत का नुकसान रहा. विप्रो, एनटीपीसी तथा पावरग्रिड के शेयर 0.08 प्रतिशत तक टूट गए.

वहीं, दूसरी ओर आईसीआईसीआई बैंक का शेयर 4.07 प्रतिशत चढ़ गया. एक्सिस बैंक में 2.70 प्रतिशत, एलएंडटी में 1.18 प्रतिशत, यस बैंक में 1.08 प्रतिशत, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 0.52 प्रतिशत और टाटा स्टील में 0.38 प्रतिशत का लाभ रहा. स्मॉलकैप और मिडकैप में भी उल्लेखनीय गिरावट दर्ज हुई.

एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग 1.73 प्रतिशत, जापान का निक्की 0.56 प्रतिशत और ताइवान 1.33 प्रतिशत टूट गया. शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार नीचे चल रहे थे.

निवेशकों को दो दिन में पांच लाख करोड़ रुपये का नुकसान

शेयर बाजारों में जोरदार गिरावट से दो दिन में निवेशकों की पूंजी पांच लाख करोड़ रुपये कम हुई है. दो दिन में बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 1,357 अंक टूटा है. गुरुवार को बाजार में जोरदार बिकवाली का सिलसिला चला. सेंसेक्स 806 अंक टूटकर 35,169 अंक पर आ गया. रुपया अपने सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंचा जबकि कच्चा तेल 86 डॉलर प्रति बैरल को पार गया.

बुधवार को सेंसेक्स 550.51 अंक टूटा था. बाजार में जोरदार गिरावट से बंबई शेयर बाजार की सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण दो दिन में 5,02,895.97 करोड़ रुपये घटकर 1,40,39,742.92 करोड़ रुपये पर आ गया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments