भारत

उत्तर प्रदेश में भीड़ ने दो लोगों की पीट-पीटकर हत्या की

उत्तर प्रदेश के अमेठी के सरैया गांव का मामला. एक युवक पर कथित तौर पर गोली चलाने के बाद दोनों युवकों को गांववालों ने बुरी तरह से पीटा था. दोनों तरफ से केस दर्ज.

Amethi

अमेठी: उत्तर प्रदेश में अमेठी के सरैया गांव में एक मंदिर में धार्मिक समारोह के दौरान 12 साल के लड़के पर कथित तौर पर गोली चलाने वाले दो लोगों की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी.

पुलिस ने बीते रविवार को बताया कि एक लड़के को गोली मारी गई और उसका एक स्थानीय अस्पताल में इलाज चल रहा है. घायल की पहचान सुमित कुमार के रूप में हुई है.

मुसाफिरखाना थाना क्षेत्र के प्रभारी विश्वनाथ यादव ने बताया कि शनिवार रात को नशे में धुत्त दिलीप यादव (28) और राहुल सिंह (30) ने सुमित को गोली मारकर घायल कर दिया.

उन्होंने बताया कि मंदिर में पूजा के दौरान यह घटना हुई जिसके बाद भीड़ ने यादव और सिंह की पीट-पीटकर हत्या कर दी.

पुलिस ने बताया कि यादव और सिंह पड़ोसी गाजनपुर दुअरिया गांव के रहने वाले थे. उन्हें मुसाफिरखाना के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

एसएचओ ने बताया कि मृतकों में से एक के भाई की शिकायत के आधार पर भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत चार लोगों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज की गई.

उन्होंने बताया कि दूसरी ओर गांववालों की शिकायत पर छह लोगों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज की गई है.

घटना के बाद पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्या और अतिरिक्त एसपी बीसी दुबे समेत शीर्ष पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे.

एसपी ने बताया कि किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए गांव में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है.

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में अमेठी के एसपी अनुराग आर्या ने बताया कि दोनों मृतकों के ख़िलाफ़ हत्या के प्रयास की एफआईआर दर्ज कर ली गई है. वहीं मृतकों के परिवारवालों की शिकायत के बाद अज्ञात गांववालों के ख़िलाफ़ क्रॉस एफआईआर दर्ज की गई है.

उन्होंने बताया कि मामले में संदिग्ध लोगों की पहचान होने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा.

पुलिस के अनुसार, मृतक राहुल सिंह की पहले से ही आपराधिक पृष्ठभूमि थी. उसके ख़िलाफ़ हत्या के प्रयास और आर्म्स ऐक्ट के तहत कई मुक़दमे दर्ज थे. दिलीप यादव के साथ वह अपने एक दोस्त के घर गया था जो कि मुसाफिरखाना क्षेत्र का सरैया गांव था.

पुलिस के अनुसार, राहुल और दिलीप ने शनिवार रात तकरीबन 8:30 बजे कथित तौर पर फायरिंग शुरू कर दी थी. इस दौरान गोली सुमित के पांव में लग गई और ख़ून निकलने लगा.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उस समय गांव के मंदिर में भागवत पाठ हो रहा था. वहां दर्जनों गांववाले मौजूद थे. गांववालों ने राहुल और दिलीप को घेर लिया और लोहे की रॉड और बेत से बुरी तरह पिटाई, जिससे दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए और इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments