भारत

ट्रोल्स द्वारा भारत विरोधी कहने पर एयरपोर्ट अथॉरिटी ने टीएम कृष्णा का कार्यक्रम रद्द किया

रेमन मैग्सेसे पुरस्कार विजेता और प्रसिद्ध गायक टीएम कृष्णा ने कहा, ‘मुझे दिल्ली में किसी भी जगह 17 नवंबर को एक मंच दीजिए. मैं आऊंगा और गाऊंगा. हम इस तरह की धमकियों के आगे खुद को झुका नहीं सकते हैं.’

TM krishna PTI

टीएम कृष्णा (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया) ने कथित तौर पर दक्षिणपंथी ट्रोल्स द्वारा अभियान चलाने की वजह से रेमन मैग्सेसे पुरस्कार विजेता और प्रसिद्ध गायक टीएम कृष्णा के कार्यक्रम को रद्द कर दिया. यह कार्यक्रम 17 नवंबर यानि कि इसी शनिवार को नई दिल्ली में होना था.

हालांकि दक्षिणपंथी ट्रोल्स द्वारा दिए जा रहे धमकियों से बेफिक्र टीएम कृष्णा ने कहा, ‘मुझे दिल्ली में किसी भी जगह 17 नवंबर को एक मंच दीजिए. मैं आऊंगा और गाऊंगा. हम इस तरह की धमकियों के आगे खुद को झुका नहीं सकते हैं.’

टीएम कृष्णा का कंसर्ट दो दिवसीय ‘डांस एंड म्यूजिक इन द पार्क’ कार्यक्रम का हिस्सा था. ये कार्यक्रम दिल्ली के नेहरु पार्क, चाणक्यपुरी में होने वाला है और इसे एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) और सांस्कृतिक संस्था स्पिक-मैके (SPIC-MACAY) द्वारा संयुक्त रुप से इसका आयोजन किया जा रहा है.

बीते पांच नवंबर को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने अपने ट्विटर पेज पर संगीत कार्यक्रम की घोषणा की थी और कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले कलाकारों के बारे में जानकारी दी थी.

इसके बाद दस नवंबर को इन्होंने ट्वीट कर टीएम कृष्णा के कार्यक्रम की जानकारी दी. इस कार्यक्रम के संबंध में शहर के कुछ अखबारों में विज्ञापन भी दिए गए थे. हालांकि बीते मंगलवार देर रात एएआई ने स्पिक-मैके को ईमेल भेजकर जानकारी दी कि कंसर्ट कैंसिल कर दिया गया है.

उन्होंने ईमेल में लिखा, ‘काम की कुछ मजबूरियों के कारण, हम 17 और 18 नवंबर, 2018 को नेहरू पार्क, नई दिल्ली स्पिक-मैके के साथ संयुक्त रूप से आयोजित नृत्य और संगीत कार्यक्रम के साथ आगे बढ़ने की स्थिति में नहीं हैं. इसलिए, हम आपसे अनुरोध करते हैं कि कृपया इसे स्थगित कर दें. जल्द ही स्पिक-मैके के साथ नई तारीख पर चर्चा की जाएगी.’

हालांकि एएआई के चेयरमैन गुरुप्रसाद मोहापात्रा ने इस बात को खारिज किया है कि कृष्णा को बुलाने की वजह से एएआई को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था इसलिए उन्होंने कंसर्ट को कैंसिल कर दिया. मोहापात्रा ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘हमारी कुछ दिक्कतें हैं. कुछ जरूरी काम है और हम उस दिन खाली नहीं हैं. मीडिया में जो भी नोट हमने दिया है, उतनी ही बात है, मैं इस पर कुछ और कहना नहीं चाहता हूं.’

टीएम कृष्णा ने एएआई के निमंत्रण को सोमवार को रिट्वीट किया था. इसके बाद से ही ट्रोल्स एएआई को निशाना बनाने लगे कि उन्होंने टीएम कृष्णा को कार्यक्रम में क्यों बुलाया है. ट्रोल्स ने ट्वीट कर कहा कि एएआई जनता के पैसे को टीएम कृष्णा पर खर्च कर रही है. ट्रोल्स ने कहा कि कृष्णा ‘ईसामसीह और अल्लाह’ के बारे में गाते हैं, ‘भारत विरोधी’ हैं और ‘शहरी नक्सल’ हैं.

ट्रोल्स ने कहा कि क्या एएआई के अधिकारियों को पता है कि वे किस प्रकार के व्यक्ति का समर्थन कर रहे हैं. ट्रोल्स ने इन्हीं ट्वीट्स में सरकार के बड़े अधिकारी और मंत्री जैसे कि रेल मंत्री, कोयला और कार्पोरेट मामलों के मंत्री और नागरिक उड्यन मंत्री सुरेश प्रभु को टैग किया था.

कृष्णा ने कहा कि स्पिक-मैके ने मंगलवार को उन्हें बताया था कि एएआई ने वादा किया है कि वे इस प्रकार के ट्वीट को नजरअंदाज करेंगे और अतिरिक्त सुरक्षा के साथ कंसर्ट का आयोजन करेंगे. हालांकि बुधवार शाम तक स्थिति काफी बदल गई और एएआई ने बताया कि उन्होंने कार्यक्रम को स्थगित कर दिया है और जल्द ही नई तारीख का ऐलान किया जाएगा.

टीएम कृष्णा के अलावा डांसर सोनल मानसिंह व प्रियदर्शिनी गोविंद और सितारवादक शाहिद परवेज़ कार्यक्रम में भाग लेने वाले थे.

संवैधानिक मूल्यों जैसे कि धर्मरमनिरपेक्षता और जाति व्यवस्था पर अपने विचारों की वजह से टीएम क्रिष्णा हिंदुत्व समर्थकों के निशाने पर रहते हैं. अगस्त में, मेरीलैंड मंदिर ने कथित रूप से उनके कार्यक्रम को इसलिए रद्द कर दिया था क्योंकि हिंदुत्ववादी गुटों ने कृष्णा पर आरोप लगाया था कि वे ‘ईसाई भजन’ गाते हैं.

इसी साल जनवरी में हिंदुवादी गुटों ने तमिलनाडु के तिरुपुर में होने वाले उनके कार्यक्रम में बाधा पहुंचाने की धमकी दी थी. हालांकि भारी सुरक्षा के बीच ये कार्यक्रम संपन्न हुआ था.

Comments