भारत

भारत सरकार ने फेसबुक से छह महीने में 16,580 बार मांगी जानकारी

फ़र्ज़ी ख़बर और डेटा चोरी के मामलों को लेकर फेसबुक सरकार की निगरानी में है. भारत सरकार ने जनवरी से जून 2018 के बीच ये जानकारी मांगी थी. फेसबुक से सूचना मांगने के मामले में 68 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार की ओर से फेसबुक से विभिन्न जानकारी और सूचनायें मांगने के मामलों में पहली छमाही में सालाना आधार पर 68 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है.

इस दौरान फेसबुक को भारत सरकार की ओर से जानकारी उपलब्ध कराने के लिए करीब 16,580 अनुरोध प्राप्त हुए हैं.

उल्लेखनीय है कि फर्जी खबर और डेटा चोरी के मामलों को लेकर फेसबुक सरकार की निगरानी में है. फेसबुक ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट के अनुसार उसने करीब 53 प्रतिशत मामलों में सरकार को ‘कुछ डेटा’ उपलब्ध कराया है.

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘फेसबुक ने अपनी सेवा के नियम-शर्तों और लागू कानूनों के अनुसार ही सरकार से मिले अनुरोधों पर जवाब दिया है. सरकार के हर अनुरोध को ध्यान से सावधानीपूर्वक देखा गया और उसकी कानूनी समीक्षा की गई. हम किसी अनुरोध को खारिज भी कर सकते हैं या फिर उस बारे में अतिरिक्त और विशेष ब्यौरा भी मांग सकते हैं.’

रिपोर्ट में कहा गया है कि जनवरी से जून 2018 के बीच सरकार से 16,580 अनुरोध प्राप्त हुए जबकि जुलाई से दिसंबर 2017 में यह संख्या 12,171 और जनवरी से जून 2017 में इनकी संख्या 9,853 थी.

उल्लेखनीय है कि देश में फेसबुक के 20 करोड़ से अधिक यूजर्स हैं. इस लिहाज से भारत उसके बड़े यूजर्स वाले देशों में से एक है.

जानकारी लीक करने के आरोपों में दुनियाभर के नीति-निर्माताओं ने फेसबुक की आलोचना की है. भारत सरकार ने भी उसे ऐसे मामले में नोटिस जारी किया है.

पहले नोटिस के जवाब में कंपनी स्वीकार कर चुकी है कि डेटा चोरी से 5.62 लाख भारतीय प्रभावित हुए हैं.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार अमेरिका के बाद भारत दूसरे नंबर पर है, जिसकी सरकार ने फेसबुक से जानकारी के लिए अनुरोध किया है. रिपोर्ट में बताया गया है कि सरकार द्वारा अधिकांश सामग्री हटाने की अनुरोध में धर्म, नफरत भरे भाषण या राज्य-विरोधी मानहानि से संबंधित पोस्ट शामिल है.

भारत में फेसबुक पोस्ट या सामग्री हटाने का अनुरोध 2015 में 30,000 के साथ बढ़ी लेकिन बाद में यह 3,500 से भी कम हो गई है.

2013 में भारत पहले स्थान पर था, जिसकी सरकार ने फेसबुक पोस्ट हटाने का अनुरोध किया था. हालांकि अब भारत सातवें  स्थान पर पहुंच गया है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि फेसबुक ने ये पाया है कि सबसे ज़्यादा इंटरनेट अवरोध अफ्रीका और एशिया में देखा गया है, जिसमें फेसबुक ने पाया है कि भारत में सबसे ज़्यादा इंटरनेट शटडाउन है.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)