भारत

पंजाब: अमृतसर के निरंकारी भवन पर ग्रेनेड हमला, तीन लोगों की मौत

घटना में दस लोग घायल हो गए. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने मृतकों को पांच लाख का मुआवज़ा और घायलों का मुफ़्त इलाज करने का आदेश दिया है. बताया जा रहा है कि धार्मिक सभा के दौरान मोटरसाइकिल से आए लोगों ने भीड़ पर एक ग्रेनेड फेंका और फरार हो गए.

(फोटो साभार: एएनआई)

(फोटो साभार: एएनआई)

अमृतसर: पंजाब में अमृतसर के निरंकारी भवन में रविवार को करीब 200 लोगों से भरे एक प्रार्थना सभागार में ग्रेनेड हमले में तीन लोगों की मौत हो गई और 10 लोग घायल हो गए.

अमृतसर के राजासांसी के समीप अदलिवाला गांव में निरंकारी भवन में निरंकारी पंथ की धार्मिक सभा के दौरान यह विस्फोट हुआ. यह स्थान अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के काफी करीब है. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, मोटरसाइकल पर आए लोगों ने ग्रेनेड फेंका.

घटनास्थल का निरीक्षण करने वाले पुलिस महानिरीक्षक एसएस परमार ने पत्रकारों से कहा, ‘एक ग्रेनेड फेंका गया और घटना में तीन लोग मारे गए जबकि 10 लोग घायल हो गए, जिनमें से दो गंभीर रूप से घायल हैं.’

प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से आईजी ने बताया कि दोनों आरोपियों के पास पिस्तौल थी और ग्रेनेड फेंकने के बाद वे घटनास्थल से फरार हो गए. उन्होंने बताया कि आरोपियों को पकड़ने के लिए खोज अभियान चलाया गया है.

उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच के अनुसार, घटना के समय करीब 200 लोग सभागार में मौजूद थे. परिसरों में कोई सीसीटीवी नहीं लगा है.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हमले की निंदा की है.

कानून एवं व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करने के बाद उन्होंने गृह सचिव, डीजीपी (कानून एवं व्यवस्था) और डीजी खुफिया को जांच की निगरानी करने के लिए राजा सांसी जाने के निर्देश दिए.

कुछ प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि चेहरा ढंके दो हथियारबंद लोगों ने प्रवेश द्वार पर ड्यूटी दे रही एक महिला श्रद्धालु पर बंदूक तानकर उसे भवन की ओर चलने के लिए मजबूर किया.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा, ‘प्रवेश करने के बाद उन्होंने भीड़ पर एक ग्रेनेड फेंका और भाग गए.’

पुलिस ने घटना के बाद भवन को सील कर दिया और राज्य में अन्य ‘निरंकारी भवनों’ पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है. संत निरंकारी मिशन एक आध्यात्मिक संगठन है.

एक खुफिया सूचना में दावा किया गया है कि जैश-ए-मोहम्मद के छह से सात आतंकवादियों का एक समूह राज्य में, खासतौर से फिरोजपुर में मौजूद है. इस सूचना के बाद से पंजाब अलर्ट पर है.

चार लोगों ने पिछले सप्ताह पठानकोट जिले में माधोपुर के समीप बंदूक दिखाकर एक ड्राइवर से एसयूवी छीन ली थी जिसके बाद से राज्य अलर्ट पर है.

उन्होंने बताया कि सिंह ने इस घटना में मारे गए लोगों के परिजन को पांच लाख रुपये का मुआवजा देने और घायलों का मुफ्त इलाज किये जाने की घोषणा की है.

सिंह ने ट्वीट कर कहा, ‘अमृतसर में निरंकारी भवन में बम विस्फोट की कड़ी निंदा करता हूं. मेरी संवेदनाएं अमृतसर बम विस्फोट के पीड़ितों और उनके परिजनों के साथ है. मेरी सरकार मारे गए प्रत्येक व्यक्ति के परिजन को पांच लाख रुपये देगी और घायलों का मुफ्त इलाज कराएगी.’

जिला प्रशासन से मदद बढ़ाने के लिए कहा गया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)