भारत

बिहार में सीट बंटवारे पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, ‘एनडीए में रहेंगे, लेकिन अपमान सहकर नहीं’

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने एनडीए में सीट बंटवारे को लेकर की जा रही बातों पर नाराजगी जताते हुए कहा कि रालोसपा अपमानित महसूस कर रही है.

केंद्रीय राज्य मानव संसाधन मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा (फोटो: एएनआई/ट्विटर)

केंद्रीय राज्य मानव संसाधन मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा (फोटो: एएनआई/ट्विटर)

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने मुंगेर में शनिवार को कहा कि वह राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में हैं, लेकिन अपमान सहकर कहीं नहीं रह सकते.

मुंगेर के पोलो मैदान में आयोजित ‘हल्ला बोल-दरवाजा खोल’ कार्यक्रम में उन्होंने अगले लोकसभा चुनाव के लिए एनडीए में सीट बंटवारे को लेकर की जा रही बातों पर नाराजगी जताते हुए कहा कि रालोसपा अपमानित महसूस कर रही है.

उन्होंने कहा, ‘हम एनडीए में हैं और एनडीए में रहेंगे. लेकिन अपमान सहकर नहीं, बल्कि सम्मान के साथ.’

कुशवाहा ने भाजपा और जद (यू) के कुछ नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे लोग नहीं चाहते कि नरेंद्र मोदी फिर प्रधानमंत्री बनें.

पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा, ‘साल 2014 में जब नरेंद्र मोदी का नाम प्रधानमंत्री उम्मीदवार के लिए सामने आया था, उस समय भाजपा के एक नेता भी नरेंद्र मोदी का नाम नहीं ले रहे थे. उस समय रालोसपा ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने की बात कही. मैं नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाना चाहता हूं.’

रालोसपा को कार्यकर्ताओं की पार्टी बताते हुए उन्होंने कहा कि 30 नवंबर को सीट बंटवारे को लेकर प्रधानमंत्री को हस्तक्षेप करना चाहिए.

उन्होंने चेतावनी के लहजे में कहा, ‘चार दिसंबर को वाल्मीकि नगर में कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित की गई है, जिसमें रालोसपा अपना निर्णय तय कर अपनी राह चलेगी.’

मालूम हो कि पिछले कुछ दिनों से कुशवाहा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर लगातार टिप्पणी कर रहे हैं और जेडीयू की तरफ से भी जुबानी जंग शुरू है. कुछ दिन पहले कुशवाहा ने कहा था कि बिहार का अगला मुख्यमंत्री कोई भी हो सकता है और उनकी पार्टी का गठबंधन भाजपा के साथ है न कि जेडीयू.

कुशवाहा जेडीयू द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी में भी शामिल नहीं हुए थे. सीट बंटवारे को लेकर चल रहे विवाद के बीच कुशवाहा हाल ही में वरिष्ठ नेता शरद यादव से भी मुलाकात की थी.

जेडीयू पर हमला बोलते हुए कुशवाहा ने कहा था कि उनकी पार्टी जेडीयू की तरह नहीं है, जो सुविधा अनुसार राजनीति करे, जबकि उनकी पार्टी एनडीए के साथ बनी हुई है.

बिहार में भाजपा और जेडीयू के बीच सीटों के बंटवारे के बाद से ही कुशवाहा जेडीयू पर लगातार हमले कर रहे हैं. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से भी उनकी मुलाकात हो चुकी है.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)