भारत

केंद्र ने एक लाख से ज़्यादा सैन्यकर्मियों को ज़्यादा मिलिट्री सेवा भत्ता देने की मांग ख़ारिज की

मोदी सरकार के इस फैसले से थलसेना के 87,646 जूनियर कमीशंड अधिकारी और नौसेना एवं वायुसेना में जूनियर कमीशंड अधिकारियों के समकक्ष 25,434 कर्मचारियों सहित क़रीब 1.12 लाख सैन्यकर्मी प्रभावित होंगे.

Kupwara: Army personnel cordon off the spot where militants were hiding during an encounter in which four militants and four security personnel including two policemen and two army jawans were killed, at Halmatpora in Kupwara district of North Kashmir on Wednesday. PTI Photo (PTI3_21_2018_000161B)

प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने थलसेना के जूनियर कमीशंड अधिकारियों (जेसीओ) सहित सशस्त्र बलों के करीब 1.12 लाख जवानों को ज्यादा सैन्य सेवा वेतन (मिलिट्री सर्विस पे- एमएसपी) दिए जाने की बहुप्रतीक्षित मांग खारिज कर दी है. सैन्य सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि वित्त मंत्रालय के इस फैसले से थलसेना मुख्यालय में ‘बहुत रोष’ है और वह इसकी समीक्षा की मांग करेगा.

87,646 जेसीओ और नौसेना एवं वायुसेना में जेसीओ के समकक्ष 25,434 कर्मचारियों सहित करीब 1.12 लाख सैन्यकर्मी इस फैसले से प्रभावित होंगे.

सूत्रों ने बताया कि मासिक एमएसपी 5,500 रुपये से बढ़ाकर 10,000 रुपये करने की मांग थी. यदि सरकार ने मांग मान ली होती तो इस मद में हर साल 610 करोड़ रुपये खर्च होते.

सैनिकों की विशिष्ट सेवा स्थितियों और उनकी मुश्किलों को देखते हुए सशस्त्र बलों के लिए एमएसपी की शुरुआत की गई थी.

एक सूत्र ने बताया, ‘जेसीओ और नौसेना एवं वायुसेना में इसकी समकक्ष रैंक के लिए उच्चतर एमएसपी के प्रस्ताव को वित्त मंत्रालय ने खारिज कर दिया है.’

अभी एमएसपी की दो श्रेणियां हैं. एक अधिकारियों के लिए और दूसरी जेसीओ एवं जवानों के लिए.

सातवें वेतन आयोग ने जेसीओ और जवानों के लिए मासिक एमएसपी 5,200 रुपये तय की थी जबकि लेफ्टिनेंट रैंक और ब्रिगेडियर रैंक के बीच के अधिकारियों के लिए एमएसपी के तौर पर 15,500 रुपये तय किए थे.

थलसेना जेसीओ के लिए ज्यादा एमएसपी की मांग करती रही है. उसकी दलील है कि वे राजपत्रित अधिकारी (ग्रुप बी) हैं और सेना की कमान एवं नियंत्रण ढांचे में अहम भूमिका निभाते हैं.

एक सैन्य अधिकारी ने अपने नाम का खुलासा नहीं करने की शर्त पर कहा, ‘चूंकि जेसीओ ग्रुप बी के राजपत्रित अधिकारी होते हैं और उनकी सेवा की अवधि भी लंबी होती है, लिहाजा उन्हें जवानों के बराबर की एमएसपी देना गलत है. यह बहुत अनुचित है.’

सूत्रों ने बताया कि थलसेना ने रक्षा मंत्री के सामने इस मुद्दे को जोरदार तरीके से उठाया था. तीनों सेनाओं और रक्षा मंत्रालय का इस मामले में एक ही रुख है.

एमएसपी की शुरुआत पहली बार छठे वेतन आयोग ने की थी. यूरोपीय देशों में सशस्त्र बलों के जवानों के लिए एमएसपी की अवधारणा काफी प्रचलित है.
सशस्त्र बल जेसीओ और इसके समकक्ष रैंकों के लिए एमएसपी की अलग राशि तय करने की मांग कर रहे थे.

पिछले साल नवंबर में थलसेना ने साफ किया था कि जेसीओ राजपत्रित अधिकारी होते हैं. थलसेना ने सात साल पुराने उस नोट को भी खारिज कर दिया था जिसमें उन्हें ‘अराजपत्रित’ अधिकारी करार दिया गया था.

Comments