भारत

उर्जित के इस्तीफे पर रघुराम राजन बोले, सरकारी कर्मचारी का इस्तीफा विरोध का प्रतीक होता है

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि उर्जित पटेल द्वारा इस्तीफा एक गंभीर चिंता का विषय है. पूरे देश को इसे लेकर चिंतित होना चाहिए.

Urjit Patel Raghuram Rajan Reuters

उर्जित पटेल और रघुराम राजन. (फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे पर पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने बयान दिया है. रघुराम राजन ने कहा कि उर्जित पटेल ने इस्तीफा देकर विरोध दर्ज कराया है.

राजन ने रॉयटर्स से बातचीत में कहा, ‘आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल द्वारा इस्तीफा एक गंभीर चिंता का विषय है. एक सरकारी कर्मचारी द्वारा इस्तीफा देना विरोध का प्रतीक होता है. पूरे देश को इसे लेकर चिंतित होना चाहिए.’

उर्जित पटेल आरबीआई के 24वें गवर्नर थे. उन्हें सितंबर 2016 में तीन साल के लिए इस पद पर गवर्नर नियुक्त किया गया था. उन्होंने पूर्व गवर्नर रघुराम राजन की जगह ली थी.

पिछले कुछ समय से केंद्र की मोदी सरकार और उर्जित पटेल के साथ गतिरोध चल रहा था. हालांकि उर्जित पटेल ने कहा है कि वे व्यक्तिगत कारणों से इस्तीफा दे रहे हैं.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक उर्जित पटेल ने कहा, ‘व्यक्तिगत कारणों से मैंने आरबीआई गवर्नर के पद से इस्तीफा देने का निर्णय लिया है. ये मेरे लिए सम्मान की बात है कि मैं पिछले कुछ सालों में रिजर्व बैंक के विभिन्न पदों पर रहा.’

रिजर्व बैंक के कर्मचारियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, ‘इन सालों में आरबीआई के कर्मचारी, अधिकारियों और प्रबंधन की वजह से बैंक ने काफी काम किया. मैं अपने सहयोगियों और निदेशकों के प्रति आभार व्यक्त करता हूं और उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं.’

बता दें कि हाल ही में केंद्र सरकार की ओर से अब तक कभी नहीं इस्तेमाल की गई रिज़र्व बैंक अधिनियम की धारा-7 के तहत पहली बार आरबीआई को निर्देश दिए जाने और रिज़र्व बैंक की कमाई में सरकार के हिस्से को लेकर नियम बनाने जैसे मामलों को लेकर विवाद चल रहा था.

ऐसा माना जा रहा है कि केंद्र की ओर से रिजर्व बैंक पर दबाव डाला जा रहा है और बैंक स्वायत्तता को प्रभावित किया जा रहा है.