भारत

बिहार: राजद नेता की हत्या के बाद उग्र भीड़ ने की दो कथित आरोपियों की पीट-पीटकर हत्या

नालंदा ज़िले में स्थानीय राजद नेता की मंगलवार को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हत्या के संदेह में भीड़ ने कथित हत्यारों के घरों पर हमला किया और एक घर में आग लगा दी.

Nalanda Map

बिहारशरीफ: बिहार के नालंदा जिले में बुधवार को हिंसा भड़क उठी. स्थानीय राजद नेता की हत्या से गुस्साई भीड़ ने नाबालिग समेत दो लोगों को पीट-पीटकर मार डाला और एक को बुरी तरह घायल कर दिया. पुलिस सूत्रों ने यह जानकारी दी.

पुलिस ने बताया कि राजद के अनुसूचित जाति-जनजाति प्रकोष्ठ के पदाधिकारी इंदल पासवान पर अज्ञात हमलावरों ने घात लगाकर हमला किया और गोली मार दी. वह एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मंगलवार को जिले के दीप नगर पुलिस थाना क्षेत्र में मगंडा सराय गांव में स्थित अपने घर लौट रहे थे.

सूत्रों ने बताया कि जब वह रात तक घर नहीं लौटे तब उनके परिजनों ने स्थानीय थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी और तलाशी के दौरान नजदीक के खेतों से उनका गोलियों से छलनी शव पाया गया.

उन्होंने बताया कि घटनास्थल पर बड़ी संख्या में पासवान के समर्थक एकत्र हो गये और नारेबाजी शुरू कर दी. समर्थकों ने हत्या के पीछे स्थानीय निवासी चुन्नी लाल का हाथ होने का आरोप लगाया.

उन्होंने बताया कि इसके बाद भीड़ ने चुन्नी लाल को उनके आवास पर पीटा और उसके घर को आग के हवाले कर दिया. भीड़ ने चुन्नी लाल के दो सहयोगियों नाबालिग रंजन यादव और संटी मालकर को बुरी तरह से पीटा.

सूत्रों ने बताया कि बुरी तरह घायल यादव ने स्थानीय अस्पताल में दम तोड़ा जबकि पटना मेडिकल कॉलेज ले जाते समय रास्ते में मालकर की मौत हो गई.

परिजनों का आरोप, पुलिस की मौजूदगी में हुई लिंचिंग

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक मंगलवार रात राजद नेता की हत्या के बाद गांव में तनाव फैल गया था, जिसके बाद बुधवार सुबह ही करीब दो सौ लोगों की उग्र भीड़ ने कथित हत्यारों के घरों पर हमला किया.

उग्र लोग घरों पर पत्थर भी फेंक रहे थे. भीड़ के सामने जो भी था, उसे पीटा जा रहा था. अख़बार के मुताबिक उस समय तक अधिकतर ग्रामीणों को इंदल की हत्या की जानकारी भी नहीं थी. इस बीच भीड़ ने एक घर में आग भी लगा दी.

इसी दौरान भीड़ ने रंजन और संटी को बुरी तरह पीटा, जिसके बाद रंजन की मौके पर ही मौत हो गयी और संटी ने अस्पताल जाने के रास्ते में दम तोड़ दिया.

मृतक रंजन के परिजनों का आरोप है कि भीड़ द्वारा यह हिंसा और हत्याएं पुलिस की मौजूदगी में हुईं. दैनिक भास्कर के अनुसार जब स्थानीय थाने की पुलिस गांव में मौजूद थी, उसी दौरान भीड़ ने हमला बोला था. उग्र भीड़ ने पुलिस पर भी पथराव किया था.

स्थानीय लोगों का आरोप है कि चुन्नीलाल ने इंदल की हत्या की और खुद अपने घर में आग लगाकर फरार हो गया. पुलिस का कहना है कि शुरुआती जांच में पता चला है कि इंदल की हत्या आपसी रंजिश में की गई, वहीं, ग्रामीण घटना का कारण अवैध शराब के धंधे का विवाद बता रहे हैं.

उप मंडल पुलिस अधिकारी (सदर) इमरान परवेज और पुलिस उपाधीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) संजय कुमार समेत वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पहुंचे और भीड़ को तितर बितर करते हुए स्थिति पर काबू पाया.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)