कैंपस

राजस्थान में कश्मीरी छात्रों को पत्थरबाज़ कहकर पीटा, राजनाथ बोले- सुरक्षा दें राज्य

राजनाथ ने किया ट्वीट, ‘कश्मीरियों के साथ बदसलूकी के मामले सामने आए हैं. मैंने सभी मुख्यमंत्रियों से उनकी सुरक्षा के लिए अपील की है. कश्मीरी युवाओं को अपना मानें और उनके साथ अच्छा बर्ताव करें.’

गृह मंत्री राजनाथ सिंह (फोटो: पीटीआई)

गृह मंत्री राजनाथ सिंह (फोटो: पीटीआई)

देश के कई इलाकों में कश्मीरी छात्रों पर हो रहे हमलों के बीच केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा है कि अपने राज्य में रहने वाले कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करें. कुछ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में कुछ कश्मीरी छात्रों को प्रताड़ित किया गया है.

बुधवार को राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में कश्मीरी छात्रों पर कथित तौर हमला किया गया था. एनडीटीवी की ख़बर के मुताबिक, ‘बताया जा रहा है कि कश्मीरी छात्र बाज़ार में थे जब उनके पास क़रीब पांच लोग आए और उनका नाम और बाक़ी की जानकारी लेने लगे. पुलिस अधिकारी दिनेश कुमार ने बताया ‘यह गुट फिर उनकी पिटाई करने लगा.’ हमलवारों को अभी तक पकड़ा नहीं गया है. मेवाड़ यूनिवर्सिटी में क़रीब 500 कश्मीरी और 300 जम्मू के छात्र पढ़ते हैं. पिछले साल कुछ कश्मीरी छात्रों को यूनिवर्सिटी के होस्टल में बीफ़ खाने की अफ़वाह पर पीटा गया था.’

हिंदी समाचार पत्र अमर उजाला ने लिखा है, ‘मेवाड़ यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी छात्रों पर स्थानीय लोगों द्वारा पीटे जाने का मामला सामने आया है. छात्रों ने पुलिस को बताया कि उन्हें ‘पत्थरबाज़’ बोलकर लोगों ने उन्हें बुरी तरह से पीटा. पुलिस ने छात्रों की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है. त्वरित कार्रवाई करते हुए गंगरार पुलिस ने मेवाड़ यूनिवर्सिटी के कैंपस में और बाहर पुलिस का अतिरिक्त दस्ता तैनात कर दिया है और जांच शुरू कर दी है. वहीं कैंपस में कश्मीरी छात्रों ने इस घटना के बाद जमकर हंगामा किया और पुलिस एवं यूनिवर्सिटी प्रशासन पर सुरक्षा मुहैया नहीं कराने के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी की.’

इस हमले के बाद राजनाथ सिंह ने कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा की बात कही है. उन्होंने कहा, उन्हें कल रात इस बारे में जानकारी मिली कि भारत के एक-दो हिस्सों में कश्मीरी युवाओं के साथ लोगों ने बदसलूकी की है. राजनाथ ने शुक्रवार को कहा कि कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जानी चाहिए. उन्होंने सभी राज्य सरकारों से अपील की है कि उनके राज्यों में कश्मीरियों को सुरक्षा की जाए, वो भी समान भारतीय नागरिक हैं. गृह मंत्रालय का कहना है कि उन्होंने सभी राज्यों के मुख्यमंत्री को ये निर्देश भेजा है कि वो उनके राज्य में रह रहे कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करें.

राजनाथ ने ट्वीट कर कहा है, ‘मुझे पता चला है कि कश्मीरियों के साथ बदसलूकी के मामले सामने आए हैं. मैंने सभी राज्य के मुख्यमंत्री से उनकी सुरक्षा के लिए अपील की है.’ उन्होंने आगे कहा कि ‘मैं सभी से अपील करना चाहता हूं कि कश्मीरी युवाओं को अपना मानें और उनके साथ अच्छा बर्ताव करें.’

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के अनुसार राजनाथ को कश्मीरी युवाओं के ख़िलाफ़ बदसलूकी और धमकाने की घटना के बारे में पता चला था. दरअसल उत्तर प्रदेश एक संगठन उत्तर प्रदेश नव निर्माण सेना ने मेरठ में कश्मीरियों को उत्तर प्रदेश छोड़ने की धमकी देने वाले पोस्टर लगाए थे.

उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना का कश्मीरियों के ख़िलाफ़ पोस्टर (फोटो: हिंदुस्तान टाइम्स)

उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना का कश्मीरियों के ख़िलाफ़ पोस्टर (फोटो: हिंदुस्तान टाइम्स)

नव निर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी ने कश्मीरियों को 30 अप्रैल तक राज्य छोड़ कर चले जाने की धमकी दी है. मेरठ-देहरादून हाइवे पर ‘कश्मीरियों यूपी छोड़ो’ लिखकर ऐसे पोस्टर लगाए गए हैं.

एनडीटीवी की ख़बर के मुताबिक, ‘यूपी के मेरठ में मेडकल कॉलेज के बाहर लगाया गया एक पोस्टर फेसबुक पर घूम रहा है जिसमें ‘कश्मीरियों उत्तर प्रदेश छोड़ो’ लिखा हुआ है. बताया जा रहा है कि यह पोस्टर एक स्थानीय नेता द्वारा लगाया गया है जिसका किसी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है. अमित जॉनी नाम का यह शख़्स ख़ुद को उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना का सदस्य बताता है और इससे पहले उसने मायावती की मूर्ति तोड़ने और कन्हैया को मारने की घोषणा करके भी ध्यान बटोरने की कोशिश की है. यह पोस्टर शुभार्थी मेडकिल कॉलेज के बाहर  लगाया गया है जहां कई कश्मीरी छात्र पढ़ते हैं.