राजनीति

विपक्ष की रैली में ममता बनर्जी ने कहा, मोदी सरकार की एक्सपाइरी डेट ख़त्म हो गई

कोलकाता में विपक्ष की यूनाइटेड इंडिया रैली में एकजुट नज़र आए विपक्ष के नेताओं ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और भाजपा के ख़िलाफ़ भरी हुंकार. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मोदी-शाह की जोड़ी 2019 में चुनाव जीतती है तो संविधान बदल देगी. पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने कहा कि भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए विपक्ष को मिलकर लड़ना होगा.

Kolkata: West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee, JDS leader HD Kumaraswamy, Samajwady Party President Akhilesh Yadav, Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal, BSP General Secretary Satish Chandra Mishra, National Conference President Farooq Abdullah and other opposition leaders join hands together during Trinamool Congress (TMC)'s mega rally 'Brigade Samavesh' in Kolkata, Saturday, Jan 19, 2019. (PTI Photo/Swapan Mahapatra) (PTI1_19_2019_000105B)

कोलकाता में विपक्ष की यूनाइटेड इंडिया रैली में जुटे विपक्ष के नेता. (फोटो: पीटीआई)

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी की ओर से आयोजित महारैली में शामिल हुए विपक्षी दल के नेताओं ने केंद्र की मोदी सरकार और भाजपा पर हमला बोला है.

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रैली में लोगों से ‘दिल्ली में सरकार बदल दो’ की अपील करते हुए कहा कि मोदी सरकार की ‘एक्सपायरी डेट’ ख़त्म हो गई है. उन्होंने यह भी कहा कि एकजुट विपक्ष आगामी आमचुनाव में जीत हासिल करेगा.

ममता ने कोलकाता के ब्रिगेड परेड मैदान में आयोजित रैली में अन्य विपक्षी दलों के साथ मिल कर काम करने का भी वादा किया.

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री कौन होगा, यह हम चुनाव के बाद तय करेंगे.’ ममता ने दावा किया कि केंद्र में भाजपा के गिने-चुने दिन ही बचे रह गए हैं. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की ‘एक्सपायरी डेट’ ख़त्म हो गई है.

मुख्यमंत्री ने इस बात का जिक्र किया कि देश में मौजूदा हालात ‘सुपर इमरजेंसी’ के हैं और उन्होंने नारा दिया ‘बदल दो, बदल दो, दिल्ली में सरकार बदल दो.’

उन्होंने भाजपा की आलोचना करते हुए कहा, ‘राजनीति में शिष्टता होती है लेकिन भाजपा इसका पालन नहीं करती. जो लोग भाजपा के साथ नहीं हैं, उन्हें चोर बता दिया जाता है.’

ममता ने यह दावा भी किया कि भाजपा अपने वरिष्ठ नेताओं का सम्मान नहीं करती और राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज तथा नितिन गडकरी जैसे लोगों की भगवा पार्टी ने अनदेखी की है।

उन्होंने कहा, ‘मोदी और उनके सहयोगी अब सामूहिक नेतृत्व की बातें कर रहे हैं लेकिन यदि भाजपा (आगामी) लोकसभा चुनाव जीत जाती है तो इन नेताओं को फिर से नज़रअंदाज़ किया जाएगा.’

उन्होंने कहा, ‘दंगा लगा दो, फसाद लगा दो, एक ही उनका (भाजपा) मुद्दा है. हम बंगाल में रथयात्रा के नाम पर दंगा फसाद नहीं करने देंगे.’

इस रैली में शामिल दलों ने मोदी सरकार को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाने के लिए एकजुट होने का आह्वान किया. ममता बनर्जी ने इसे यूनाइटेड इंडिया रैली नाम दिया है.

रैली से पहले ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘ब्रिगेड परेड ग्राउंड में ऐतिहासिक ‘एकजुट भारत रैली’ में कुछ ही घंटे शेष हैं. मैं एकजुट, मज़बूत एवं प्रगतिशील भारत बनाने की प्रतिज्ञा के लिए सभी राष्ट्रीय नेताओं, समर्थकों एवं लाखों लोगों का इस रैली में हिस्सा लेने के लिए स्वागत करती हूं.’

इस रैली के बारे में तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि यह आगामी लोकसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए ‘ताबूत में आख़िरी कील’ होगी.

रैली में सपा प्रमुख, अखिलेश यादव, आम आदमी प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक़ अब्दुल्ला, कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी और मल्लिकार्जुन खड़गे, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, दलित नेता जिग्नेश मेवाणी, राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी, बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा, झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता हेमंत सोरेन आदि शामिल हुए.

मोदी और शाह की जोड़ी 2019 में चुनाव जीतती है तो संविधान बदल देगी: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को लोगों से केंद्र में खतरनाक भाजपा सरकार को किसी भी कीमत पर हराने का आह्वान किया.

उन्होंने कहा कि देश गंभीर संकट के दोराहे पर है. देश और लोकतंत्र को बचाने के लिए मोदी सरकार को तुरंत बदलने की ज़रूरत है.

रैली में उन्होंने कहा, ‘अगर (नरेंद्र) मोदी-(अमित) शाह की जोड़ी 2019 का चुनाव जीतकर देश में शासन करती रही तो वह संविधान को बदल देगी और कभी चुनाव नहीं करवाएगी. जर्मनी में हिटलर ने जो किया था, वही होगा.’

उन्होंने भाजपा पर धर्म के नाम पर लोगों के बीच दुश्मनी फैलाने का आरोप लगाया.

ब्रिगेड परेड मैदान में केजरीवाल ने कहा, ‘पाकिस्तान का सपना देश को टुकड़ों में बांटने का था. भाजपा सरकार लोगों के बीच रंज़िश फैलाकर और धर्म, भाषा के नाम पर राष्ट्र को बांटने कर प्रयास कर उस दिशा में आगे बढ़ रही है.’

केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में वह रोज़गार के अवसर पैदा करने में नाकाम रही है और किसान भीषण दिक्कतों का सामना कर रहे हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया, ‘नोटबंदी ने रोज़गार के सारे अवसरों को ख़त्म कर दिया और मोदी की मित्र बीमा कंपनियां किसानों के नाम पर पैसे बना रही है.’

उन्होंने कहा कि आम चुनाव का लक्ष्य अगले प्रधानमंत्री को खोजना नहीं बल्कि मोदी और उनकी पार्टी को हटाना है.

सपा-बसपा गठबंधन से भाजपा चिंतित: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि सपा और बसपा के साथ आने से देश में खुशी की लहर दौड़ गई है और इससे चिंतित होकर भाजपा उत्तर प्रदेश में एक-एक सीट जीतने की रणनीति तैयार करने लिए बैठकें कर रही है.

रैली को संबोधित करते हुए यादव ने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को लेकर विपक्षी दलों से सवाल करने पर भी भाजपा से जवाब मांगा.

यादव ने कहा, ‘वे पूछते हैं विपक्षी दलों का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन है… हमारा कहना है कि हमारी तरफ से लोग प्रधानमंत्री उम्मीदवार का फैसला करेंगे. लेकिन, उनकी ओर से इस नाम (नरेंद्र मोदी) ने देश को निराश किया है, आपका दूसरा नाम कौन सा है?’

उन्होंने कहा कि आम लोगों को साथ लेकर विपक्षी दलों ने गठबंधन किया है, जबकि भाजपा ने सीबीआई और ईडी के साथ समझौता किया है.

भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने की शुरुआत है बसपा-सपा गठबंधन: सतीश चंद्र मिश्रा

बहुजन समाज पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बसपा-सपा गठबंधन केंद्र की ‘दलित-विरोधी’ और ‘अल्पसंख्यक-विरोधी’ राजग सरकार के अंत की शुरुआत है.

रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार को सत्ता से बाहर करने में सपा-बसपा गठबंधन के बाद यह रैली अगला कदम है.

बसपा प्रमुख मायावती के प्रतिनिधि के रूप में रैली में शामिल हुए मिश्रा मंच पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ बैठे थे.

वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए विपक्ष को साथ मिलकर लड़ना होगा. विपक्षी दलों को चुनाव में साथ मिलकर भाजपा के खिलाफ एक उम्मीदवार उतारना चाहिए.

भाजपा नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ‘अगर सच कहना बगावत है तो समझो हम बागी हैं. मैं सच के साथ, सिद्धांतों से समझौता नहीं कर सकता.’

आंकड़ों के साथ ‘बाज़ीगरी’ कर रही है मोदी सरकार: यशवंत सिन्हा

कभी भाजपा का हिस्सा रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज़ादी के बाद यह पहली सरकार है जो विकास के आंकड़ों के साथ ‘बाज़ीगरी’ कर रही है.

सिन्हा ने कहा कि मौजूदा शासन में अगर आप सरकार की तारीफ़ करते हैं तो वह ‘देश भक्ति’ है और अगर आलोचना करते हैं तो वह ‘राजद्रोह’ है.

अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय वित्त मंत्री रहे सिन्हा ने कहा, ‘आज़ादी के बाद यह पहली सरकार है जो जनता को मूर्ख बनाने के लिए विकास के झूठे और मनगढ़ंत आंकड़े पेश कर रही है.’

कश्मीर समस्या का हल निकालने के लिए गठित समिति में शामिल रहे सिन्हा ने कहा कि जब उन्होंने प्यार-मोहब्बत वाले वातावरण में सभी तबके के लोगों से बात करने का सुझाव दिया था तो उन्हें ‘पकिस्तानी एजेंट’ बताया गया था.

सिन्हा ने नरेंद्र मोदी सरकार के नारे ‘सबका साथ, सबका विकास’ का भी मज़ाक बनाया. उन्होंने इसे ‘सबका साथ, सबका विनाश’ बताया.

भाजपा ने लोगों से धोखा किया, वादे पूरे करने में असफल रही: चंद्रबाबू नायडू

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को कहा कि भाजपा ने 2014 के आम चुनाव से पहले किए सभी वादों को पूरा नहीं करके देश के लोगों से धोखा किया है.

Kolkata:West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee interacts with Karnataka Chief Minster H D Kumarswamy and Samajwadi Party Chief Akhilesh Yadav as AP CM N Chandrababu Naidu and BSP leader SC Mishra look on, Trinamool Congress (TMC)'s mega rally 'Brigade Samavesh' in Kolkata, Saturday, Jan 19, 2019. (PTI Photo/Ashok Bhaumik) (PTI1_19_2019_000107B)

कोलकाता में शनिवार को यूनाइटेड इंडिया रैली में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू और बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा. (फोटो: पीटीआई)

नायडू ने कहा कि भाजपा भ्रष्टाचार मुक्त सरकार देने, विदेशों से कालाधन वापस लाने और किसानों की आय दोगुनी करने सहित अपने कई अन्य वादों को पूरा करने में असफल रही.

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) प्रदर्शन वाले प्रधानमंत्री नहीं, प्रचार वाले प्रधानमंत्री हैं.’ नायडू ने दावा किया कि मोदी ने देश के किसानों से धोखा किया है जो वित्तीय बोझ के चलते अपना जीवन समाप्त कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘उन्होंने (मोदी) किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया लेकिन किसान अब आत्महत्या कर रहे हैं.’

उन्होंने दसाल्ट से राफेल लड़ाकू विमान खरीद में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि 36 विमान 126 विमानों की कीमत पर खरीदे गए.

मतभेद भुला और एकजुट होकर भाजपा के खिलाफ लड़ें विपक्षी दल : देवगौड़ा

पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने कहा कि आम चुनाव सिर पर हैं, ऐसे में विपक्षी दलों को चाहिए कि वे आपसी मतभेद भुलाकर और एकजुट होकर भाजपा के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ें.

जनता दल (सेक्युलर) प्रमुख ने सलाह दी कि वरिष्ठ नेताओं का एक छोटा समूह बनाया जाना चाहिए जो एक खाका तैयार करने पर फैसला करेगी कि वे सुशासन कैसे देंगे.

उन्होंने कहा कि भाजपा के ख़िलाफ़ सीधी लड़ाई हो, यह सुनिश्चित करने के लिये आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर सीट बंटवारे के कठिन कार्य को भी सुलझा लिया जाना चाहिए.

देवगौड़ा ने कहा, ‘मजबूत राष्ट्र के निर्माण के लिए एक स्थिर सरकार की ज़रूरत है. लेकिन 2014 के चुनाव में 282 सीटें पाने के बाद भी नरेंद्र मोदी एक मज़बूत राष्ट्र का निर्माण करने के बजाय देश के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को तहस-नहस करना और सभी संवैधानिक संस्थानों को बर्बाद कर देना चाहते हैं.’

चोरों के ख़िलाफ़ लड़ रहे हैं हम लोग: हार्दिक पटेल

गुजरात में पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने ‘गोरों’ के ख़िलाफ़ लड़ने की अपील की थी और हम ‘चोरों’ के खिलाफ लड़ रहे हैं.

युवा गुजराती नेता ने सभी विपक्षी दलों को एक साथ एक मंच पर लाने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को धन्यवाद दिया.

जनसैलाब की ओर इशारा करते हुए पटेल ने कहा कि यह संकेत है कि भाजपा सत्ता से बाहर जा रही है.

‘महागठबंधन’ भाजपा की हार सुनिश्चित करेगा: जिग्नेश मेवाणी

दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस की रैली में कई विपक्षी दलों का एक साथ आना आगामी लोकसभा चुनाव में बदलाव का संदेश देता है.

मेवाणी ने कहा कि ‘महागठबंधन’ आरएसएस और भाजपा की हार सुनिश्चित करेगा.

गुजरात से निर्दलीय विधायक ने कहा, ‘भाजपा के साढ़े चार साल के शासन में गरीबों, अल्पसंख्यकों और दलितों के शोषण से देश अभूतपूर्व संकट से गुज़र रहा है.’

उन्होंने उम्मीद जताई कि केंद्र में ‘महागठबंधन’ की सरकार बनने पर वह संविधान के पालन को सुनिश्चित करेगा और देश एक सच्चा समाजवादी गणराज्य बन जाएगा.

‘चोर’ मशीन है ईवीएम: फारूक़ अब्दुल्ला

पारदर्शिता के लिए मतपत्र प्रणाली फिर से लागू करने की वकालत करते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक़ अब्दुल्ला ने ईवीएम को ‘चोर’ मशीन क़रार दिया.

रैली को संबोधित करते हुए जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘यह किसी एक व्यक्ति (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) को सत्ता से बाहर करने की बात नहीं है. यह देश को बचाने और आज़ादी के लिए लड़ने वालों के बलिदान का सम्मान करने की बात है.’

उन्होंने कहा, ‘ईवीएम, चोर मशीन है. ईमानदारी से कह रहा हूं. इसके इस्तेमाल पर रोक लगनी चाहिए. दुनिया में कहीं भी मशीन का इस्तेमाल नहीं होता है. ईवीएम का इस्तेमाल रोकने और पारदर्शिता के लिए मतपत्र प्रणाली को वापस लाने के लिए विपक्षी दलों को निर्वाचन आयोग और भारत के राष्ट्रपति से मिलना चाहिए.’

जम्मू कश्मीर के हालात के लिए भाजपा को ज़िम्मेदार ठहराते हुए अब्दुल्ला ने कहा, ‘लोग धार्मिक आधार पर बंट रहे हैं. लोगों को पाकिस्तानी बताया जा रहा है.

विपक्षी गठबंधन का मक़सद धर्मनिरपेक्ष सरकार बनाना: अभिषेक मनु सिंघवी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने तृणमूल कांग्रेस की महारैली की प्रशंसा की और कहा कि विपक्षी गठबंधन का मक़सद भाजपा को हराना एवं धर्मनिरपेक्ष सरकार बनाना है.

Kolkata: A view of the crowd at Trinamool Congress (TMC)'s mega rally in Kolkata, Saturday, Jan 19, 2019. (PTI Photo) (PTI1_19_2019_000091B)

कोलकाता में शनिवार को विपक्ष की यूनाइटेड इंडिया रैली में जुटी भीड़. (फोटो: पीटीआई)

रैली में सिंघवी कांग्रेस का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘हमने इस तरह की बदले की राजनीति पहले कभी नहीं देखी थी. जब अमित शाह ने उत्तर प्रदेश में 100 रैलियां की, किसी ने सवाल नहीं पूछा लेकिन जब राजद ने एक रैली का आयोजन किया तो उसे आयकर का नोटिस मिला.’

कांग्रेस बिहार में महागठबंधन में लालू प्रसाद की पार्टी राजद की सहयोगी है.

सिंघवी ने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष के गठबंधन का मजाक उड़ाते हैं लेकिन उनकी पार्टी ने कश्मीर में सबसे अनैतिक गठबंधन किया. वह उसके बारे में क्या कहेंगे?’

सोनिया और राहुल ने विपक्ष की रैली के लिए शुभकामनाएं भेजी: खड़गे

रैली में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ नेता नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी ने इस रैली के लिए अपनी शुभकामनाएं भेजी हैं.

रैली में सोनिया गांधी का संदेश पढ़ते हुए खड़गे ने कहा कि देश पर संकट है और किसानों एवं मछुआरे बहुत परेशानी का सामना कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि भाजपा नीत सरकार में भारत की आर्थिक एवं राजनीतिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है तथा आगामी लोकसभा चुनाव देश में लोकतंत्र की बहाली के लिए होंगे.

खड़गे ने कहा, ‘जब तक विपक्ष एकजुट नहीं हो जाता तब तक हमें मोदी और शाह को लोकतंत्र और देश के धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को कुचलते देखते रहना होगा.’

लोकसभा चुनाव आज़ादी की दूसरी लड़ाई जैसा: स्टालिन

द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कहा कि आगामी आम चुनाव भाजपा के कट्टर हिंदुत्व के ख़िलाफ़ भारत के लोगों के लिए आज़ादी की दूसरी लड़ाई के समान होंगे.

उन्होंने कहा, ‘अगले (लोकसभा) चुनाव आज़ादी की दूसरी लड़ाई जैसे होंगे. हम हिंदुत्व एवं कट्टर हिंदूवाद के जहर को फैलने से रोकेंगे. हमारी अपील मोदी को हराने और देश को बचाने की है.’

स्टालिन ने केंद्र सरकार पर कॉरपोरेट घरानों के लिए काम करने का आरोप लगाते हुए उसकी आलोचना की.

उन्होंने कहा, ‘अगर मोदी फिर से सत्ता में आते हैं तो देश 50 साल पीछे चला जाएगा.’

हेमंत सोरेन ने केंद्र और राज्यों से भाजपा को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया

झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता हेमंत सोरेन ने भाजपा को देश से उखाड़ फेंकने का आह्वान करते हुए विपक्षी दलों से अपील की कि अगले लोकसभा चुनावों में वे सांप्रदायिक पार्टी को क़रारा जवाब दें.

सोरेन ने कहा कि जिस तरह से भाजपा देश को चला रही है उससे देश में हिंसा और अशांति का माहौल पैदा हो गया है.

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हम सभी विपक्षी दलों को सांप्रदायिक ताकतों का माकूल जवाब देना होगा… हमें भाजपा को न सिर्फ केंद्र से उखाड़ फेंकना होगा बल्कि उसे राज्यों से भी हटाना होगा.’

उन्होंने कहा, ‘आप देख रहे हैं, यहां विपक्ष के कई नेता हैं… यह सिर्फ देश में मौजूदा राजनीतिक स्थिति के कारण हो रहा है कि किस तरह से सांप्रदायिक ताकतें पांव पसार रही हैं. किस तरह से भाजपा देश और राज्यों को चलाने की कोशिश कर रही है. मेरा मानना है कि यह देश के लिये बहुत खतरनाक स्थिति है.’

आदिवासी बहुल झारखंड का संदर्भ देते हुए सोरेन ने कहा कि सत्ताधारी भाजपा आदिवासियों के ख़िलाफ़ काम कर रही है और हमें इससे छुटकारा पाना ही होगा.

अलोकतांत्रिक लोग लोकतांत्रिक सरकार के प्रमुख बने बैठे हैं: कुमारस्वामी

भारत को दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में से एक बताते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि आज हम केंद्र में कुछ ‘अलोकतांत्रिक’ लोगों को ‘लोकतांत्रिक’ सरकार की अगुवाई करते देख रहे हैं.

कुमारस्वामी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 70 साल में देश ने क्षेत्रीय पार्टियों को मज़बूती से उभरते हुए देखा है. इन दलों ने अपने राज्यों के हितों की रक्षा की है और अपने लोगों की भावनाओं को समझा है.

क्षेत्रीय दलों और क्षेत्रीय नेताओं की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के लोगों के हितों की रक्षा के लिए एम. कुरुणानिधि ने बहुत कुछ किया है. ठीक वैसे ही सपा और बसपा ने उत्तर प्रदेश में जबकि एन. चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश के लिए किया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)