भारत

मोदी को 43 साल से जानता हूं, कभी चाय बेचते नहीं देखा: प्रवीण तोगड़िया

विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि जिस दिन राम मंदिर बन गया उस दिन भाजपा और आरएसएस ख़त्म हो जाएंगे.

Chennai: Vishva Hindu Parishad (VHP) Working President Praveen Togadia addresses a press conference, in Chennai, on Saturday. (PTI Photo/R Senthil Kumar) (PTI5_19_2018_000221B)

प्रवीण तोगड़िया (फोटो: पीटीआई)

आगरा: विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के पूर्व अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में कहा कि उनसे दोस्ती 43 साल रही, लेकिन उन्होंने मोदी को कभी चाय बेचते नहीं देखा है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी चाय बेचने वाले की छवि निर्मित करके जनता से सहानुभूति पाना चाहते हैं.

इंडिया टुडे की ख़बर के अनुसार, विहिप से अलग होने के बाद अंतराष्ट्रीय हिंदू परिषद का गठन करने वाले तोगड़िया ने भाजपा और आरएसएस पर हमला करते हुए कहा कि इनकी नीयत नहीं है कि राम मंदिर का निर्माण हो.

तोगड़िया ने कहा, ‘पीएम मोदी के बयान के बाद, यहां तक कि आरएसएस नेता भैयाजी जोशी ने भी स्पष्ट कर दिया कि राम मंदिर अगले पांच वर्षों में नहीं बनाया जाएगा. भाजपा और आरएसएस ने 125 करोड़ भारतीयों को अंधेरे में रखा है, लेकिन अब देश का हिंदू जाग गया है.’

उन्होंने कहा कि 9 फरवरी को हिंदुओं के एक नए राजनीतिक दल की घोषणा की जाएगी और एक बार जब पार्टी संसद में जीत जाती है, तो अगले दिन मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा.

नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि अगर वह तीन तलाक बिल के लिए आधी रात को कानून ला सकते हैं, तो फिर मंदिर के लिए ऐसा क्यों नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि अगर मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बन जाते हैं फिर भी वह मंदिर नहीं बनाएंगे.

तोगड़िया ने भाजपा और आरएसएस पर हमला बोलते हुए कहा कि आरएसएस और भाजपा कभी भी मंदिर का निर्माण नहीं होने देगी, क्योंकि उन्हें पता है कि जिस भी दिन मंदिर का निर्माण होजाएगा, उसी दिन दोनों संगठन ख़त्म हो जाएंगे, क्योंकि उनके पास कुछ करने को होगा नहीं. इसलिए दोनों संगठन मंदिर का मुद्दा जीवित रखना चाहते हैं.

तोगड़िया ने कहा कि जब उनकी पार्टी सत्ता में आएगी, तब कश्मीर से धारा 35ए को हटा दिया जायेगा, ताकि हिंदू भी वहां ज़मीन ख़रीद सकें और बहुमत में आ जाएं.

उन्होंने आगे कहा कि अगर ये सब होता है, तो पत्थरबाजों को भी सबक मिलेगा. इसके अलावा मोदी को वापस गुजरात जाना होगा और भैयाजी जोशी को वापस नागपुर जाना होगा.