भारत

मतदान केंद्रों की तरह कश्मीर में स्कूल भी होंगे ‘संवेदनशील’ और ‘अतिसंवेदनशील’

कश्मीर के डिविजनल कमिश्नर बसीर अहमद खान ने राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थानों को संवेदनशीलता के पैमाने पर वर्गीकृत करने का निर्देश दिया.

PTI_kashmir_4

(फाइल फोटो: पीटीआई)

अखबार ग्रेटर कश्मीर के मुताबिक सरकार ने सभी डिप्टी कमिश्नरों को निर्देश दिया है कि वह उच्च माध्यमिक विद्यालयों और कॉलेजों को उनके लोकेशन के आधार पर संवेदनशील और अतिसंवेदनशील के तौर पर वर्गीकृत करें.

अभी तक मतदान केंद्रों को हिंसा की आशंका होने के चलते संवेदनशील और अतिसंवेदनशील का टैग दिया जाता रहा है.

कश्मीर के डिविजनल कमिश्नर बसीर अहमद खान ने राज्य के सभी डिप्टी कमिश्नरों और कॉलेज प्रिंसिपलों (श्रीनगर को छोड़कर) को वीडियो के जरिए संबोधित किया और सभी डिप्टी कमिश्नरों को शैक्षणिक संस्थानों को संवेदनशीलता के पैमाने पर वर्गीकृत करने का निर्देश दिया.

डिविजनल कमिश्नर ने प्रिसिपलों को यह भी निर्देश दिया है कि वह छात्रों को नियंत्रण में रखें और बाहरी लोगों का कैंपस में प्रवेश रोकें. साथ ही डिप्टी कमिश्नरों को शैक्षणिक संस्थानों की औचक निरीक्षण का निर्देश दिया गया है.

इसके अलावा सभी स्कूलों और कॉलेजों को यह निर्देश दिया गया है कि छात्रों को नए आईकार्ड दिए जाएं. ख़ान ने जिला अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वह शैक्षणिक संस्थानों का औचक निरीक्षण करके हर तीसरे दिन हालात की समीक्षा रिपोर्ट भेजें.

गौरतलब है कि पिछले दिनों कश्मीर में स्कूली छात्रों और सुरक्षाबलों के बीच झड़प हुई थी. जिसके बाद कुलगाम, सोपोर, श्रीनगर, पुलवामा समेत पूरे कश्मीर में प्रदर्शन हुआ था. इसके चलते सरकार ने स्कूल कॉलेज बंद रखने का फ़ैसला किया था.