राजनीति

प्रियंका कर्मठ हैं, ज्योतिरादित्य डायनामिक हैं और भाजपा वाले घबराए हुए हैं: राहुल गांधी

प्रियंका गांधी को कांग्रेस महासचिव बनाए जाने पर भाजपा ने कहा कि कांग्रेस ने स्वीकार कर लिया कि राहुल गांधी पार्टी को नेतृत्व देने में असफल रहे.

New Delhi: Congress President Rahul Gandhi gestures as he addresses the media at party office, in New Delhi, on Saturday. (PTI Photo/ Manvender Vashist)(PTI5_19_2018_000134B)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. (फोटो: पीटीआई)

अमेठी/उत्तर प्रदेश: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बहन प्रियंका गांधी वाड्रा को पार्टी महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाए जाने के बाद बुधवार को कहा कि उनके (प्रियंका) आने से उत्तर प्रदेश में एक नए तरीके की सोच आएगी और राजनीति में सकारात्मक बदलाव आएगा.

राहुल ने अमेठी में संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिशन दिया है कि वे राज्य में कांग्रेस की सच्ची विचारधारा को आगे बढ़ाएं जो कि न सिर्फ ग़रीबों और कमज़ोर लोगों की विचारधारा है बल्कि सबको आगे लेकर बढ़ने की भी विचारधारा है.’

उन्होंने कहा कि इस फैसले से उत्तर प्रदेश में नए तरीके की सोच आएगी और राजनीति में सकारात्मक बदलाव आएगा.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘मुझे पूरा भरोसा है कि प्रियंका और ज्योतिरादित्य काम करेंगे. जो उत्तर प्रदेश को चाहिए, जो उत्तर प्रदेश के युवा को चाहिए, वह कांग्रेस पार्टी ही दे सकती है.’

उल्लेखनीय है कि प्रियंका को कांग्रेस महासचिव नियुक्त करने के साथ-साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभार सौंपा गया है जबकि ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिमी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया है.

राहुल गांधी ने कहा, ‘हम कहीं भी बैकफुट पर नहीं खेलेंगे. हम राजनीति जनता के लिए, विकास के लिए करते हैं. जहां मौका मिलेगा, हम फ्रंटफुट पर खेलेंगे.’

उन्होंने कहा कि वह बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा मुखिया अखिलेश यादव का पूरा आदर करते हैं. कांग्रेस और सपा-बसपा की विचारधारा में काफी समानताएं हैं. हमारी लड़ाई भाजपा के खिलाफ है. राहुल ने कहा कि सपा और बसपा के साथ हमारा जहां भी सहयोग हो सकता है, हम करने को तैयार हैं. जहां भी हम भाजपा को हराने के लिए एक साथ काम कर सकते हैं, करेंगे.

साथ ही उन्होंने कहा, ‘मगर कांग्रेस पार्टी की जगह बनाने का काम हमारा है. हमने यह जगह बनाने के लिए बड़ा कदम उठाया है. मुझे बहुत खुशी हो रही है कि मेरी बहन, जो बहुत कर्मठ हैं, अब मेरे साथ काम करेंगी. ज्योतिरादित्य भी ऊर्जावान युवा नेता हैं.’ कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि प्रियंका को उत्तर प्रदेश में लाने से भाजपा वाले भी कुछ घबराए हुए हैं.

उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश की जनता को, युवाओं को, किसान को कहना चाहते हैं कि आपने बहुत समय जाया किया. आपने यहां भाजपा की सरकार बना रखी है . पूरा प्रदेश जानता है कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को बर्बाद कर दिया.

राहुल ने जनता का आह्वान करते हुए कहा, ‘आप इनको (भाजपा को) हटाइए. हम आपको नई दिशा देंगे. हम चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश नंबर-वन प्रदेश बने. मैं किसी जाति-धर्म की बात नहीं करता. यहां के युवाओं ने अपने प्रदेश को देखा है कि किस प्रकार इसे नष्ट किया गया है. हम आपके साथ एक नया सपना पूरा करना चाहते हैं.’

प्रियंका की नियुक्ति कांग्रेस द्वारा यह स्वीकार करना है कि राहुल गांधी विफल रहे: भाजपा

प्रियंका गांधी वाड्रा के कांग्रेस में औपचारिक प्रवेश को ‘पारिवारिक गठबंधन’ क़रार देते हुए भाजपा ने बुधवार को कहा कि यह कांग्रेस द्वारा इस बात की स्वीकारोक्ति है कि राहुल गांधी नेतृत्व प्रदान करने में विफल रहे हैं.

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि प्रस्तावित महागठबंधन में विभिन्न दलों से ख़ारिज किए जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने पारिवारिक गठबंधन को अपनाया है.

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस ने वास्तव में सार्वजनिक तौर पर घोषणा कर दी है कि राहुल गांधी विफल हो गए हैं. यह महागठबंधन के दलों द्वारा ख़ारिज किए जाने के कारण हुआ है और ऐसे में उन्होंने पारिवारिक गठबंधन को चुना.’

बहरहाल, विपक्षी पार्टी पर चुटकी लेते हुए पात्रा ने कहा कि यह स्वाभाविक है कि कांग्रेस पार्टी को परिवार के ही किसी सदस्य को ताज देना था.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाले लोकसभा चुनाव को ‘नामदार’ और ‘कामदार’ के बीच की लड़ाई बता चुके हैं.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कौन अगला नेता होगा, यह पहले से ही तय होता है. पात्रा ने इस संदर्भ में पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी का उदाहरण दिया.

पात्रा ने कहा कि सभी नियुक्तियां एक परिवार से होती हैं. कांग्रेस और भाजपा में यही अंतर है.

प्रियंका के महासचिव बनने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल

नई दिल्ली: प्रियंका गांधी के कांग्रेस महासचिव नियुक्त होने की घोषणा के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल देखा गया. पार्टी कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका के पक्ष में जमकर नारेबाजी की.

प्रियंका का नाम की घोषणा के साथ ही नई दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय के बाहर कार्यकर्ताओं की भीड़ जमा हो गई. कार्यकर्ताओं ने ‘प्रियंका गांधी आई है, नयी रोशनी लाई है’ के नारे लगाए.

कार्यकताओं ने ‘राहुल गांधी जिंदाबाद, प्रियंका गांधी जिंदाबाद’ के भी नारे लगाए.

अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की महासचिव और रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने कहा, ‘प्रियंका जी का राजनीति में आज आधिकारिक रूप से पदार्पण हुआ है. इससे पूरे देश के कांग्रेसजन में खुशी का माहौल है और उनमें नया उत्साह पैदा हुआ है.’

उन्होंने कहा, ‘प्रियंका जी के सक्रिय राजनीति में आने की मांग कांग्रेस के कार्यकर्ता लंबे समय से कर रहे थे. उनके पार्टी महासचिव बनने से कांग्रेस को बहुत मज़बूती मिलेगी और इस लोकसभा में पार्टी को बड़ी जीत हासिल होगी.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)