भारत

महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारने के मामले में 9 लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज

महात्मा गांधी की ‘हत्या’ दोहराए जाने के मामले पुलिस ने अखिल भारत हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया. महासभा के प्रवक्ता बोले- कुछ गलत नहीं किया, देश में रावण दहन भी तो होता है.

hindu-mahasabha Gandhi Effigy

महात्मा गांधी के पुतले को गोली मारती हुई हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे (फोटो साभार: ट्विटर)

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर अखिल भारत हिंदू महासभा द्वारा महात्मा गांधी के पुतले पर गोली चलाने के मामले में पुलिस ने 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए हिंदू महासभा के 2 कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है.

बुधवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में संगठन की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडेय गांधी जी के पुतले को गोली मारते हुए नज़र आ रही हैं. इसके बाद कार्यकर्ताओं ने नाथूराम गोडसे की तस्वीर को माला पहनते हुए मिठाई बांटी.

ख़बरों के मुताबिक इसके बाद कार्यकर्ताओं ने गांधी के पुतले को जलाकर जश्न मनाया. हिंदू महासभा गांधी की पुण्यतिथि को शौर्य दिवस के रूप में मनाता है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में दो कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है. सोशल मीडिया पर यह वीडियो आने के बाद पुलिस तुरंत हिंदू महासभा के दफ्तर पहुंची और दो कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

अलीगढ़ के गांधी पार्क थाने में पूजा शकुन पांडेय समेत 9 लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की 153-ए, 295-ए और 147 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

क्षेत्राधिकारी नीरज कुमार जादौन ने बताया, ‘वीडियो दिख रहे दो नामजद आरोपियों मनोज सैनी और अभिषेक को हिरासत में ले लिया गया है. मनोज को वीडियो में पुतला जलाते हुए देखा जा सकता है. जांच में ही यह पता चलेगा कि यह वीडियो किसने फैलाया.’

उन्होंने यह भी बताया कि संगठन ने जिला प्रशासन से यह आयोजन करने की अनुमति नहीं ली थी.

वहीं, अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अशोक पांडेय ने उनके द्वारा गांधी की ‘हत्या’ को दोहराने की पुष्टि करते हुए कहा, ‘हमें इसमें कुछ गलत नहीं लगता क्योंकि देश में रावण दहन भी उस घटना को दोहराते हुए किया जाता है. हमने ऐसा अपने दफ्तर के परिसर के अंदर किया है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘वो (गांधी) बंटवारे के लिए भी जिम्मेदार थे… 10 लाख से ज्यादा हिंदू मारे गए थे.’ अशोक पांडेय पूजा शकुन पांडेय के पति हैं. उन्होंने बताया कि वे इस घटना के समय मौजूद थे.