भारत

बिहार से पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के भतीजे की गोली मारकर हत्या

हत्या के बाद से बिहार के सीवान शहर में तनाव. पुलिस ने एहतियात के तौर पर अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की. अपराधियों की पहचान और हत्या के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है.

मोहम्मद शहाबुद्दीन के बेटे यूसुफ. (फोटो साभार: एएनआई)

मोहम्मद शहाबुद्दीन के बेटे यूसुफ. (फोटो साभार: एएनआई)

नई दिल्ली ः बिहार के सीवान जिले में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के भतीजे यूसुफ की शुक्रवार रात गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस घटना से सीवान में तनाव का माहौल है.

पुलिस का कहना है कि यूसुफ को करीब से गोली मारी गई और वह गोली लगने के लगभग एक घंटे तक सड़क किनारे ही पड़े रहे. वह सीवान ज़िले के हुसैनगंज थानाक्षेत्र के प्रतापपुर गांव के रहने वाले थे.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सीवान में कैफे चलाने वाले यूसुफ को जब सदर अस्पताल ले जाया गया तो उन्हें चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया गया. यूसुफ को जेल में बंद सांसद शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा का करीबी माना जाता था. यूसुफ प्रॉपर्टी कारोबार से भी जुड़ा हुआ था.

यूसुफ अक्सर शहाबुद्दीन की पत्नी हेना शहाब और पुत्र ओसामा के साथ जनसभाओं में दिखाई देता था और शहाबुद्दीन के घर के सामने ही रहता था.

यूसुफ की हत्या की ख़बर जैसे ही सीवान शहर व प्रतापपुर में फैली सैकड़ों की संख्या में उसके समर्थक सदर अस्पताल पहुंच गए.

सीवान के एसपी नवीन चंद्र झा ने कहा, पुलिस की पहली प्राथमिकता कानून एवं व्यवस्ता बनाए रखने की है. यूसुफ की हत्या के तुरंत बाद प्रदर्शन हुए. एहतियात के तौर पर सीवान में अतिरिक्त पुलिसबलों की तैनाती करनी पड़ी.

एसपी का कहना है कि घटनास्थल से कुछ खाली कारतूस मिले हैं. अपराधियों की पहचान के लिए जांच की जा रही है.

पुलिस अभी हत्या के कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रही है.

सीवान से चार बार राजद की ओर से सांसद रहे शहाबुद्दीन 45 से अधिक आपराधिक मामलों में मुक़दमे का सामना कर रहे हैं. उन्हें सीवान निवासी चंद्रशेखर प्रसाद की अपील पर आए उच्चतम न्यायालय के आदेश पर तिहाड़ जेल लाया गया था. दो अलग-अलग घटनाओं में चंद्रशेखर प्रसाद के तीन बेटों की हत्या कर दी गई थी. यह बहुचर्चित मामला तेज़ाब हत्याकांड के नाम से जाना जाता है.

बीती 29 जनवरी को बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर की एक अदालत में पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड मामले में आरोपित पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन व अन्य छह लोगों के ख़िलाफ़ आरोप तय किए गए. मामले में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के अलावा अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां, विजय गुप्ता, रोहित सोनी, राजेश कुमार, रिशु जायसवाल व सोनू गुप्ता आरोपी हैं.