भारत

क्या संविधान ने हमें सम्मान से जीने के लिए पांव धोने की व्यवस्था दी है?

क्या किसी बेरोज़गार के घर समोसा खा लेने से बेरोज़गारों का सम्मान हो सकता है? उन्हें नौकरी चाहिए या प्रधानमंत्री के साथ समोसा खाने का मौक़ा? अगर पांव धोना ही सम्मान है तो फिर संविधान में संशोधन कर पांव धोने और धुलवाने का अधिकार जोड़ दिया जाना चाहिए.

Narendra Modi washing feet of Sanitation Workers Twitter BJP

रविवार को इलाहाबाद में कुंभ मेले के सफाईकर्मियों के पांव धोते प्रधानमंत्री मोदी (फोटो साभार: ट्विटर/@BJP4India)

मूल समस्या को छोड़ प्रतीकों के ज़रिए समस्या से ध्यान हटाने का फ़न कोई प्रधानमंत्री मोदी से सीखे. जब नोटबंदी के समय जनता लाइनों में दम तोड़ रही थी तब अपनी मां को लाइन में भेज दिया. मीडिया के ज़रिए समस्या से ध्यान हटा कर मां की ममता पर ध्यान शिफ़्ट करने के लिए.

ऐसा हुआ भी. जब देश भर में सफाईकर्मी सर पर मैला ढोने के लिए मजबूर हैं, गटर में मिथेन गैस से दम तोड़ते रहे तब कुछ नहीं किया. एक दिन अचानक सफाईकर्मियों के पांव धोकर मीडिया में महान बन गए.

सभी राजनेता प्रतीकों का इस्तेमाल करते हैं. करना पड़ता है. इसके अनेक उदाहरण हैं. जब राहुल गांधी ने अनुसूचित जाति के लोगों के घर जाकर खाना खाया, तो भाजपा के नेताओं ने आलोचना की. फिर अमित शाह और भाजपा के नेता बहुत दिनों तक अनुसूचित जाति के कार्यकर्ताओं के घर खाना खाते रहे. आज कल खाना बंद है.

उज्जैन के सिंहस्थ में समरसता स्नान का आइडिया लाया गया. जिस कुंभ में सब स्नान सबके लिए होता है वहां अलग से समरसता स्नान का घाट बना. अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान दलित संत समाज के साथ स्नान करने गए.

खूब प्रचारित हुआ लेकिन जब साधु संतों ने ही इस विभाजन का विरोध किया तब शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट से दलित समाज डिलीट कर दिया. पहले ट्वीट किया था कि दलित समाज के श्रद्धालुओं के साथ स्नान किया.

हमारे प्रधानमंत्री ने प्रतीकों और छवियों के इस्तेमाल की अति कर दी है. वे हर समय हेडलाइन की सोचते रहते हैं. समस्या का समाधान भले न हो लेकिन पांव धोकर हेडलाइन बन जाओ.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने चार साल में मैला ढोने वालों के पुनर्वास के लिए एक रुपया भी जारी नहीं किया

क्या सम्मान का ये तरीका होगा? क्या ये सम्मान की जगह सफाईकर्मियों का अपमान नहीं है? क्या उन्होंने भी इन्हें तुच्छ समझा कि पांव धोकर सम्मान दे रहे हैं? क्या संविधान ने हमें सम्मान से जीने के लिए पांव धोने की व्यवस्था दी है?

क्या हम लोगों ने सामान्य बुद्धि से भी काम लेना बंद कर दिया है? हमें क्यों नहीं दिखाई नहीं देता कि चुनाव के समय मूल समस्याओं से ध्यान भटकाने के लिए यह सब हो रहा है? क्या हम अब नौटंकियों को भी महानता मानने लगे हैं?

मुझे नहीं पता था कि महानता नौटंकी हो जाएगी. मुझे डर है मीडिया में प्रधानमंत्री के चेले उन्हें कृष्ण न बता दें.

क्या किसी बेरोज़गार के घर समोसा खा लेने से बेरोज़गारों का सम्मान हो सकता है? उन्हें नौकरी चाहिए या प्रधानमंत्री के साथ समोसा खाने का मौका? आपको सोचना होगा.

एक प्रधानमंत्री का वक़्त बेहद क़ीमती होता है. अगर उनका सारा वक़्त इन्हीं सब नौटंकियों में जाएगा तो क्या होगा. जगह-जगह सफाईकर्मी संसाधनों और वेतनों की मांग को लेकर आंदोलन करते रहते हैं. इसी दिल्ली में ही कितनी बार प्रदर्शन हुए. ध्यान नहीं दिया.

यह भी पढ़ें: ‘सीवर में श्रमिकों की मौत असल में सरकार और ठेकेदारों द्वारा की गई हत्याएं हैं’

गटर साफ करने के दौरान कितने लोग गैस से मर गए. बहुतों को मुआवज़ा तक नहीं मिलता. आज भी सर पर मैला ढोया जाता है.

प्रधानमंत्री पांव धोने की चतुराई दिखा जाते हैं. उन्होंने सम्मान नहीं किया है बल्कि उनके सम्मान का अपने राजनीतिक फायदे के लिए चालाक इस्तेमाल किया है.

बेजवाडा विल्सन ने सवाल उठाया है कि क्या सफाईकर्मी तुच्छ हैं कि उनका पांव धोकर सम्मान किया गया है? इससे किसका महिमामंडन हो रहा है? जिसका पांव धोया गया या जिसने पांव धोया है? अगर पांव धोना ही सम्मान है तो फिर संविधान में संशोधन कर पांव धोने और धुलवाने का अधिकार जोड़ दिया जाना चाहिए.

देश में आर्थिक असमानता बढ़ती जा रही है. क्या मुकेश अंबानी एंटिला में बुलाकर पांच गरीबों का पांव धो लेंगे तो गरीबों का सम्मान हो जाएगा? भारत से ग़रीबी मिट जाएगी? मेरी राय में मुकेश अंबानी को अमर होने का यह मौका नहीं गंवाना चाहिए.

यह लेख मूल रूप से रवीश कुमार के फेसबुक पेज पर प्रकाशित हुआ है.