दुनिया

अमन का संदेश देने के लिए भारतीय पायलट को कल रिहा करेंगे: इमरान ख़ान

भारत पाकिस्तान के बीच बढ़ रहे तनाव के बीच संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा कि उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन करने की कोशिश इसलिए की क्योंकि स्थितियों का बिगड़ना न पाकिस्तान के हक़ में होगा न भारत के.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान. (फोटो: पीटीआई)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान. (फोटो: पीटीआई)

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने गुरुवार को संसद में कहा कि बुधवार को हिरासत में लिए गए पायलट अभिनंदन को शुक्रवार को रिहा कर दिया जायेगा.

इमरान खान ने कहा कि अमन का संदेश देने के लिए पाकिस्तान की ओर से यह कदम उठाया जाएगा.

डॉन की खबर के अनुसार भारत पाकिस्तान के बीच बढ़ रहे तनाव के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने संसद को बताया कि उनकी ओर से भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन करने की कोशिश इसलिए की गयी क्योंकि स्थितियों का बिगड़ना न पाकिस्तान के हक़ में होगा न भारत के.

उन्होंने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि कश्मीर मसले पर बातचीत करना महत्वपूर्ण है.

इमरान खान ने युद्ध को लेकर उठ रही संभावनाओं पर कहा, ‘मुझे डर है कि कुछ गलत अनुमान लगाए जायेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘गलत अनुमानों के चलते कई देश तबाह हो गए. जंग कोई हल नहीं है. अगर भारत कोई कदम उठता है तो हमें जवाब देना होगा.’

उन्होंने इस बात में यह भी जोड़ा, ‘मुझे ऐसा लगता है कि भारत की जनता वहां की मौजूदा सरकार के युद्धोन्माद से सहमत नहीं है. अगर उनके मीडिया ने वो देखा होता जो हमारे मीडिया ने बीते 17 सालों में देखा है तब शायद उन्होंने इस तरह का जंग जैसा महौल तैयार नहीं किया होता.’

मालूम हो कि बुधवार 27 फरवरी को पाकिस्तान ने दावा किया कि उसने अपने हवाई क्षेत्र में दो भारतीय सैन्य विमानों को मार गिराया और दो पायलटों को हिरासत में लिया गया.

हालांकि बाद में पाकिस्तान की ओर से एक बयान जारी कर कहा गया कि उसके क़ब्ज़े में सिर्फ एक ही भारतीय पायलट है. बाद में इस पायलट की पहचान विंग कमांडर अभिनंदन के रूप में हुई.

इस बीच भारतीय विदेश मंत्रालय ने मिग 21 समेत अपना एक पायलट लापता होने की बात कहीं थी.

इसके बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने दोनों देशों के बीच बातचीत के जरिये हल निकालने की अपील की थी.

बुधवार को खान ने राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा था कि हम दशकों से जंग के शिकार रहे हैं और इसके मायने जानते हैं. इसलिए मैं दोबारा कहता हूं कि हमें बातचीत से अपने मसले हल करने चाहिए.