भारत

जम्मू कश्मीर: 72 घंटे चली मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए, सीआरपीएफ के अधिकारी सहित चार जवान शहीद

जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में गुरुवार से शुरू हुई मुठभेड़ रविवार को समाप्त हो गई. मुठभेड़ में एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हो गई.

soldier-attack

(फोटो साभार: एएनआई)

नई दिल्लीः जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में बीते 72 घंटों से चल रही मुठभेड़ रविवार को खत्म हो गई, जिसमें दो आतंकवादियों को मार गिराया गया .

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, मुठभेड़ में सीआरपीएफ का एक जवान भी शहीद हुआ है. जवान की पहचान उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के श्याम नारायण सिंह यादव के रूप में की गई है.

हंदवाड़ा के बाबागुंड और क्रालगुंड इलाके में घेराबंदी और तलाशी अभियान के बाद रविवार को मुठभेड़ का तीसरा दिन रहा. गुरुवार रात को सीआरपीएफ के एक अधिकारी सहित चार सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे.

कश्मीर के आईजीपी एसपी पैनी ने शनिवार को संवाददाताओं को बताया, अभियान के दोनों तरफ से गोलियां चली. जिस जगह पर यह मुठभेड़ चल रही थी, वह रिहायशी इलाका था इसलिए हमें स्थानीय लोगों को सुरक्षित क्षेत्र से बाहर निकालना पड़ा. ऑपरेशन की दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए सही कदम उठाया जा रहा है.

मुठभेड़ के दौरान शुक्रवार को एक स्थानीय नागरिक ने भी दम तोड़ दिया था.

बता दें कि बीते 14 फरवरी को पुलवामा ज़िले के अवंतिपुरा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमला हुआ था. आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे जबकि कई अन्य घायल हो गए थे.

इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी. उसने आत्मघाती हमलावर की पहचान पुलवामा के 20 साल के कश्मीरी युवक आदिल अहमद के रूप में जारी की थी.

इस हमले पर तत्काल प्रतिक्रिया देते हुए भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीन लिया और पाकिस्तान से आयातित वस्तुओं पर सीमा शुल्क को 200 फीसदी बढ़ा दिया.

वहीं, रविवार को गृह मंत्रालय ने पांच कश्मीरी अलगाववादी नेताओं की दी गई सुरक्षा भी वापस ले ली. इन नेताओं मेंमीरवाइज उमर फारूक के अलावा शब्बीर शाह, हाशिम कुरैशी, बिलाल लोन और अब्दुल गनी भट शामिल हैं.